भारत

उत्तर प्रदेश: सेप्टिक टैंक में ज़हरीली गैस के रिसाव से पांच लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर ज़िले का मामला. ज़हरीली गैस की चपेट में आकर बीमार हुए एक व्यक्ति का इलाज अस्पताल में चल रहा है.

प्रतीकात्मक फोटो पीटीआई

प्रतीकात्मक फोटो पीटीआई

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले के दोस्तपुर थानाक्षेत्र में शुक्रवार को पुराने सेप्टिक टैंक के पुनर्निर्माण के समय जहरीली गैस का रिसाव हुआ जिसकी चपेट में आकर पांच लोगों की मौत हो गई.

सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार ने बताया कि कटघरा चिरानीपट्टी गांव निवासी रामतीरथ निषाद के पुराने सीवर टैंक के पुनर्निर्माण के समय गैस पाइप नहीं निकालने की वजह से जहरीली गैस का रिसाव हुआ. उसकी चपेट में आकर छह व्यक्ति बीमार हो गए.

कुमार ने बताया कि इलाज के दौरान पांच लोगों- राजेश निषाद (32), अशोक निषाद (40), रविंद्र निषाद (25), मोहम्मद शरीफ (52) और राम किशन (40) की मौत हो गई जबकि एक व्यक्ति का इलाज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दोस्तपुर में हो रहा है.

दैनिक जागरण के मुताबिक रामतीरथ निषाद ने दो साल पहले शौचालय के लिए 10 फिट गहरा सेप्टिक टैंक बनवाया था. उसमें पानी भर गया था इसलिए शुक्रवार को शौचालय की सीट बैठाने के लिए लोहरबरामदपुर से राजगीर किशन को बुलाया था.

हादसा तब हुआ जब शाम चार बजे किशन टैंक के सीमेंट वाली ढक्कन को खोल रहे थे. ढक्कन खोलते ही गैस के चपेट में आकर चक्कर खाकर वह टैंक में गिर गए. उनको गिरता देख रामतीरथ के बेटे राजेश वहां पहुंचे. वह भी गैस की चपेट में आकर टैंक में गिर गए.

एक-दूसरे को बचाने की कोशिश में बाकी लोग भी जहरीली गैस के चपेट में आकर टैंक में गिर गए. पुलिस को सूचना दी गई और करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद सभी को टैंक से निकालकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया गया.

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. सीबीएन त्रिपाठी ने बताया कि सभी को मृत अवस्था में अस्पताल लाया गया था.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर गहरा दुःख व्यक्त किया. योगी ने हादसे में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की. इस दुर्घटना में घायल व्यक्ति के समुचित इलाज का निर्देश दिया है.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)