भारत

हिमाचल प्रदेशः महिला को डायन बता कालिख पोती, जूतों की माला पहनाकर घुमाया, 21 गिरफ़्तार

घटना मंडी ज़िले की है, जहां एक बुज़ुर्ग महिला को डायन बताकर उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया. पीड़ित महिला की बेटी का आरोप है कि धार्मिक आस्था की आड़ लेकर उनकी ज़मीन पर कब्ज़े के इरादे से ऐसा किया गया. मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दिए.

mandi

शिमला: हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में 81 साल की बुजुर्ग महिला को डायन बताकर उनके साथ दुर्व्यवहार का मामला सामने आया है. मामले में अब तक 21 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

लोगों ने जादू टोना करने के संदेह में महिला के मुंह पर कालिख पोतकर, उनके बाल काटकर और गले में जूतों की माला पहनाकर उन्हें पूरे गांव में घुमाया.

सोशल मीडिया पर इस घटना का एक वीडियो वायरल हो रहा है. मामले में अब तक 21 लोगों को गिरफ्तारी हो चुकी है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, यह घटना छह नवंबर को मंडी जिले के सरकाघाट उपमंडल के समाहल गांव में हुई. पीड़ित महिला फिलहाल सदमे में हैं और उनके दामाद उन्हें अपने साथ हमीरपुर ले गए हैं.

उनकी बेटी तृप्ता ने आरोप लगाया कि धार्मिक आस्था की आड़ लेकर एक महिला रिश्तेदार उनकी मां को डायन बताकर उन्हें मारना चाहती है, ताकि उनकी जमीन पर कब्ज़ा कर सके. डेढ़ दशक से उनके साथ जमीन का विवाद चल रहा है.

पीड़ित महिला के पति की मौत हो चुकी है. उनकी दो बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है. तृप्ता ने बताया कि पहले भी उनकी मां पर हमले हो चुके हैं.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के संज्ञान लेने के बाद पुलिस ने पीड़िता की बेटी की शिकायत पर देवता के गुर (पुजारी) की बेटी निशु समेत 20 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सोशल मीडिया पर फैले इस वीडियो की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय करार दिया है. उन्होंने कहा कि देवभूमि में ऐसे कृत्य बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे.

पीड़िता की बेटी ने कहा कि उनका परिवार नाग देवता की पूजा करता है जबकि पूरा इलाका माहु नाग देवता की पूजा करता है. माहु देवता के गुर (पुजारी) की बेटी निशु के कहने पर ही लोगों ने बुजुर्ग महिला पर हमला किया.

वहीं, निशु का कहना है कि पीड़िता का परिवार नाग देवता की पूजा करता है. जादू-टोना भी करता है, जिस वजह से उसके पिता की मौत हुई थी.

वहीं, पीड़ित महिला की बेटी ने बताया, ‘देवता का ताे बहाना है. हमले की असली वजह करोड़ों रुपये की उनकी जमीन है, जिस पर गांववाले और हमारे रिश्तेदार आंखें गढ़ाए बैठे हैं. वे मां को मारकर इस पर कब्जा करना चाहते हैं क्योंकि उनके कोई बेटा नहीं है.’

मंडी के पुलिस अधीक्षक गौरव शर्मा ने बताया, ‘हमने इस संबंध में 21 लोगों को गिरफ्तार किया है और आगे की जांच जारी है.’

दैनिक जागरण के मुताबिक, पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए अब तक 21 लोगों को गिरफ़्तार किया है, जिनमें से सात महिलाएं हैं. पुलिस ने आईपीसी की धारा 147, 149, 452, 435, 355 और 427 के तहत एफआईआर दर्ज की गई.

स्थानीय देवता को मानने वाले लोगों की ओर से प्रतिक्रिया की आशंका को देखते हुए ज़िला प्रशासन ने इलाके में धारा 144 लगा दी है क्योंकि घटना का मुख्य अभियुक्त देवता का पुजारी है.