कैंपस

नागरिकता संशोधन क़ानून: विरोध कर रहे जामिया के छात्रों पर लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले छोड़े गए

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ नई दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों ने शुक्रवार सुबह संसद तक मार्च निकालने की घोषणा की थी. हालांकि उन्हें विश्वविद्यालय के पास में ही रोक लिया गया.

Jamia Protest

विरोध प्रदर्शन करते छात्र. (फोटो साभार: एएनआई)

नई दिल्ली: केंद्रीय विश्वविद्यालय जामिया मिलिया इस्लामिया में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर दिल्ली पुलिस ने बर्बर तरीके से लाठीचार्ज किया और उन पर आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए.

सोशल मीडिया पर कई सारी तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं जिसमें पुलिस द्वारा छात्रों को पीटने और आंसू गैस के गोले छोड़ते हुए देखा जा सकता है.

इसके चलते कई छात्रों को गंभीर चोटें आई हैं और उन्हें पास के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इससे पहले छात्रों ने बीते गुरुवार की देर रात इस विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन किया और जामिया की सड़क को जाम कर दिया था.

आज सुबह से वहां पर छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे था. हालांकि बाद में मामला हिंसक हो गई और पत्थरबाजी की भी कुछ रिपोर्ट्स सामने आई हैं. इसके जवाब में पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े.

पुलिस ने हिंसा की आशंका के चलते कैंपस के बाहर भारी बैरिकेड्स लगाकर विरोध मार्ग को बंद कर दिया और उन लोगों को हिरासत में ले लिया जिन्होंने बैरिकेड्स से कूदने की कोशिश की.

छात्रों ने नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ आज सुबह संसद तक मार्च निकालने की घोषणा की थी. हालांकि उन्हें विश्वविद्यालय के पास में ही रोक लिया गया.