भारत

अनाज मंडी के बाद दिल्ली के किराड़ी स्थित कपड़ा गोदाम में आग लगने से नौ लोगों की मौत

उत्तर पश्चिम दिल्ली के किराड़ी इलाके में रविवार देर रात एक तीन मंज़िला इमारत के भूतल में बने कपड़ा गोदाम में आग लग गई थी. नौ मृतकों में तीन बच्चे भी शामिल हैं. इससे पहले अनाज मंडी की चार मंज़िला फैक्ट्री में भीषण आग में 43 मजदूर मारे गए थे.

fire

दिल्ली के किराड़ी इलाके में कपड़ा गोदाम में लगी आग (फोटो साभार: एएनआई)

नई दिल्लीः दिल्ली के किराड़ी इलाके में तीन मंजिला इमारत में भीषण आग लगने से तीन बच्चों समेत नौ लोगों की मौत हो गई जबकि 10 से अधिक घायल हो गए.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मृतकों में एक छह महीने का बच्चा भी है. दिल्ली अग्निशमन सेवा विभाग (डीएफएस) ने बताया कि रविवार देर रात 12 बजकर 30 मिनट पर एक इमारत में आग लगने की सूचना मिलने के बाद दमकल की आठ गाड़ियों को मौके पर भेजा गया.

इमारत के ग्राउंड फ्लोर में कपड़ों का एक गोदाम था और अन्य तीन मंजिलों पर लोग रहते थे. यह आग तीन मंजिला इमारत के भूतल में बने गोदाम में लगी. इमारत में आग बुझाने का कोई उपकरण नहीं था और सिर्फ एक ही सीढ़ी थी.

विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि तड़के 3.50 मिनट पर आग पर काबू पाया जा सका. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि तीन लोगों को बचा लिया गया  है, जिनकी पहचान पूजा (24) और उसकी बेटियों आराध्या (3) और सौम्या (10) के रूप में की गई. आग से बचने के लिए ये तीनों बगल की इमारत में कूद गए थे.

मृतकों की शिनाख्त इमारत के मालिक रामचंद्र झा (65), सुदरिया देवी (58), संजू झा (36), गुड्डन और उदय चौधरी (33) एवं उसकी पत्नी मुस्कान (26) और उनके बच्चों अंजलि (10), आदर्श (सात) और छह माह की बच्ची तुलसी के रूप में की गई है.

अधिकारी का कहना है कि इमारत में कोई अग्नि सुरक्षा उपकरण नहीं था. एक अधिकारी ने बताया कि दूसरी मंजिल पर सिलेंडर फटने के कारण इमारत का एक हिस्सा ढह गया.

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मृतकों के परिवार को दस लाख रुपये और घायलों के परिवारों को 1 लाख रुपये देने की घोषणा की है. साथ ही उन्होंने कहा कि सात दिन के अंदर एसडीएम हादसे के कारणों की जांच करें.

गोदाम में आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है. ऐसा संदेह है कि शॉर्ट सर्किट की वजह से सिलेंडर फटा और उसी से आग लगी, जिसके बाद इमारत की एक दीवार ढह गई.

इमारत के मालिक रामचंद्र झा ने ग्राउंड फ्लोर किराए पर दिया था. बताया जा रहा है कि आग में लगभग 20 लाख रुपये की कीमत के कपड़े खाक हो गए. अधिकारियों ने बताया कि आगे की जांच जारी है.

नवभारत टाइम्स के अनुसार पुलिस को आग की खबर पीसीआर कॉल के जरिए मिली थी. पुलिस के अनुसार, ‘पहले घर में आग लगने की सूचना मिली, लेकिन जब हम पहुंचे तो देखा कि गोदाम में आग लगी है. जिस वक्त आग लगी थी उस दौरान कुछ लोग गोदाम में सो रहे थे. घटना में घायल हुए सभी लोगों को पास के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया गया है.’

गौरतलब है कि बीते आठ दिसंबर को राष्ट्रीय राजधानी के बीचोंबीच स्थित अनाज मंडी के रानी झांसी रोड पर चार मंजिला फैक्ट्री में लगी भीषण आग में 43 मजदूर मारे गए थे.

इसके बाद 14 दिसंबर को शालीमार बाग इलाके में एक मकान में आग लगने की घटना में 3 महिलाओं की मौत हो गई थी और चार अन्य घायल हो गए थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)