भारत

महाराष्ट्र: सेप्टिक टैंक साफ करते तीन मज़दूरों की मौत, सोसायटी का कोषाध्यक्ष गिरफ़्तार

मुंबई के गोवंडी उपनगर इलाके में हुआ हादसा. पुलिस ने बताया कि दम घुटने के कारण हुई तीनों मज़दूरों की मौत.

प्रतीकात्मक फोटो पीटीआई

प्रतीकात्मक फोटो पीटीआई

मुंबई: मुंबई के मुंबई के गोवंडी उपनगर इलाके में बीते सोमवार को एक आवासीय सोसायटी के सेप्टिक टैंक में सफाई के दौरान तीन मजदूरों की मौत हो गई. इस संबंध में सोसायटी के एक पदाधिकारी को गिरफ्तार किया गया है.

सोमवार को तीन मजदूर विश्वजीत देवनाथ (32), संतोष प्रभाकर कलसेकर (45) और गोविंद संग्राम छोरटिया (34) सैप्टिक टैंक की सफाई करने के लिए घुसे और अंदर ही फंस गए.

अधिकारियों ने बताया कि मजदूरों को दमकल वाहन और एनडीआरएफ कर्मचारियों की मदद से बाहर निकाल कर अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि श्रमिकों की सोमवार को दम घुटने के कारण उस समय मौत हो गई जब वे स्लम रिहेबिलिटेशन अथॉरिटी की 22 मंजिला इमारत मौर्या सोसायटी में सेप्टिक टैंक को साफ कर रहे थे.

यह इमारत गोवंडी के गणेशवाड़ी इलाके में स्थित है. इन श्रमिकों को ठेके पर रखा गया था.

पुलिस उपायुक्त (जोन छह) शशि कुमार मीणा ने बताया कि हादसे के बाद सोमवार देर रात को सोसायटी के कोषाध्यक्ष पवन विश्वनाथ पालव (40) को गिरफ्तार कर लिया गया है.

एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि पालव को तब गिरफ्तार किया गया, जब यह पता चला कि ठेके पर रखे गए श्रमिकों के पास सेप्टिक टैंक साफ करने का कोई अनुभव नहीं था.

उन्होंने कहा, ‘आरोपी ने श्रमिकों से बिना उन्हें सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए सेप्टिक टैंक में घुसने के लिए कहा. जब वे टैंक की सफाई कर रहे थे तब आरोपी वहां मौजूद नहीं था.’

मीणा ने बताया कि आरोपी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 304-ए (लापरवाही से हुई मौत) का मामला दर्ज किया गया है.