भारत

उद्धव के ख़िलाफ़ कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले को पीटे जाने के संबंध में केस दर्ज

शिवसेना के कथित समर्थकों ने बीते 22 दिसंबर को मुंबई के वडाला ट्रक टर्मिनस स्थित एक व्यक्ति की उसके घर पर पिटाई की थी और जबरन उन्हें गंजा कर दिया था. घटना का वीडियो उपलब्ध होने के बावजूद अब तक पुलिस किसी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है.

हिरामई तिवारी. (फोटो साभार: एएनआई)

हिरामई तिवारी. (फोटो साभार: एएनआई)

मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखने वाले शख्स की पिटाई करने के आरोप में शिवसेना के कुछ समर्थकों के खिलाफ बुधवार को मामला दर्ज हुआ है.

हालांकि घटना का वीडियो उपलब्ध होने के बावजूद तीन दिन के बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

हीरामई तिवारी की शिवसेना के कथित समर्थकों ने रविवार को मुंबई में उनके वडाला ट्रक टर्मिनस स्थित घर पर पिटाई की थी और जबरन उन्हें गंजा कर दिया था.

मुख्यमंत्री द्वारा दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्रों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई को जलियांवाला बाग नरसंहार से जोड़ने के खिलाफ तिवारी ने पोस्ट किया था.

तिवारी के साथ मार-पिटाई का वीडियो वायरल हो गया. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है. हालांकि इस संबंध में अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में हीरामई तिवारी ने कहा था, ‘19 दिसंबर को मैंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्रों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई को जलियांवाला बाग नरसंहार से जोड़ने को गलत बताया था. इसके बाद 25 से 30 लोगों ने मिलकर मुझसे मारपीट की और मुझे गंजा कर दिया.’

तिवारी ने बताया था, ‘मैं पुलिस स्टेशन गया था. अधिकारियों ने मेरे साथ हुई मारपीट की रिपोर्ट तैयार की थी, लेकिन कुछ देर बाद उन्होंने एक दूसरी रिपोर्ट तैयार की और मुझसे समझौता करने के लिए कहा था. मैं इस मामले में कड़ी कार्रवाई किए जाने की मांग करता हूं.’

ठाकरे ने कहा था, ‘यह समाज में अशांति का माहौल बनाने का सोचा-समझा प्रयास है. जिस प्रकार से पुलिस ने परिसर में जबरदस्ती घुसकर छात्रों पर फायरिंग की, वह जलियांवाला बाग हत्याकांड के जैसा प्रतीत होता है.’

उन्होंने कहा था कि देश के युवाओं में मन में भय पैदा किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा था, ‘मुझे लगता है कोई भी ऐसा देश स्थिर नहीं रह सकता,जहां के युवा परेशान हों. मैं केंद्र से इस देश के युवाओं को अस्थिर नहीं करने की अपील करता हूं.’

ठाकरे ने कहा था, ‘युवा देश का भविष्य हैं और उनमें अपार क्षमताएं हैं. युवा किसी बम की तरह हैं जिसमें विस्फोट नहीं होना चाहिए. मेरा प्रधानमंत्री से यह विनम्र अनुरोध है कि वे जो छात्रों के साथ कर रहे हैं वह न करें.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)