दुनिया

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग, आठ लोगों की मौत, लोगों को प्रभावित क्षेत्र छोड़ने का आदेश

ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण-पूर्व हिस्से में अक्टूबर में गर्मी का मौसम शुरू होने के बाद आग लगने से अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है. न्यू साउथ वेल्स में एक सप्ताह के लिए आपात स्थिति की घोषणा. आने वाले दिनों में आग के और भीषण होने की आशंका. विक्टोरिया प्रांत में 17 लोगों के लापता होने की सूचना है.

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स प्रांत में लगी आग. (फोटो: रॉयटर्स)

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स प्रांत में लगी आग. (फोटो: रॉयटर्स)

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया में सरकार ने न्यू साउथ वेल्स और विक्टोरिया प्रांत के जंगलों में लगी आग को देखते हुए आपात स्थिति घोषित करते हुए सड़कों को बंद कर दिया है और निवासियों तथा पर्यटकों को वहां से निकाला जा रहा है.

यह कदम ऐसे समय उठाया गया है जब शनिवार तक आग के और फैलने की आशंका प्रकट की गई है. नव वर्ष की पूर्व संध्या पर देश के दक्षिण-पूर्व हिस्से में भीषण आग लग गई और कम से कम आठ लोगों की मौत हो गयी तथा छुट्टियां मनाने पहुंचे कई लोग वहां फंस गए.

न्यू साउथ वेल्स सरकार ने बृहस्पतिवार को शुक्रवार से एक सप्ताह के लिए आपात स्थिति की घोषणा की. इसका मतलब है कि लोगों को प्रभावित इलाकों से निकाला जाएगा और सड़कों को बंद कर दिया गया है. शनिवार तक आग के और भीषण हो जाने की आशंका है.

प्रशासन ने लोगों से प्रभावित इलाकों से खुद निकल सकने की स्थिति में वहां से दूसरे स्थानों पर जाने की अपील की है. इसके साथ ही ग्रामीण दमकल सेवा विभाग भी सप्ताहांत पर मुश्किल हालात से निपटने की तैयारी में जुटा है.

बृहस्पतिवार को न्यू साउथ वेल्स में आग लगने की वजह से 40 लाख हेक्टेयर की फसल बर्बाद हो गई. प्रांत के प्रीमियर ग्लाडेस बेरेजिकलियान ने लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पुलिस का शुक्रिया कहा. उन्होंने लोगों से भी सावधानी बरतने की अपील की है.

आग के कारण प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने बृहस्पतिवार को कहा कि ऑस्ट्रेलिया की उत्सर्जन घटाने की नीति के तहत पर्यावरण की रक्षा के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे.

उन्होंने कहा कि कैबिनेट की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति अधिक संख्या में जहाजों और हेलिकॉप्टरों को काम में लगाने तथा अन्य मुद्दों पर विचार के लिए सोमवार को बैठक करेगी.

विक्टोरिया प्रांत में प्रशासन ने ईस्ट गिप्सलैंड खासकर राज्य के पूर्वोत्तर के लोगों को आग वाले क्षेत्र से निकल जाने की अपील की है क्योंकि आगामी दिनों में स्थिति और खराब हो सकती है.

विक्टोरिया के प्रीमियर डेनियल एंड्रयूज ने कहा कि माल्लाकूटा क्षेत्र में शुक्रवार से नौसेना के पोतों को काम में लगाया जाएगा.

विक्टोरिया में एक व्यक्ति के मृत होने और 17 व्यक्ति के लापता होने की सूचना है, जबकि न्यू साउथ वेल्स में सात लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है.

समावार वेबसाइट सीएनएन ने न्यू साउथ वेल्स ग्रामीण दमकल सेवा (एनएसडब्ल्यूएफएस) के हवाले से बताया है कि पिछले कुछ दिनों में राज्य भर में आग तेज हो गई है और तेज हवाओं के कारण दूर तक फैल गई है. बृहस्पतिवार तक न्यू साउथ वेल्स में आग लगने की 106 घटनाएं हुईं 2500 से ज्यादा कर्मचारी बचाव कार्य में लगे हुए हैं.

एनएसडब्ल्यूएफएस ने राज्य खानकोबेन, ग्रेग ग्रेग और टूमा क्षेत्रों के लिए एलर्ट जारी कर लोगों को यहां से निकलने का परामर्श जारी किया है. सीएनएन ने एनएसडब्ल्यूएफएस की ओर से जारी आंकड़ों के हवाले से बताया है कि अब तक पूरे देश में 17 लोगों की मौत हो चुकी है और न्यू साउथ वेल्स प्रांत को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है. यहां 1300 घर पूरी तरह से तबाह हो गए है और 442 घरों के क्षतिग्रस्त होने की सूचना है.

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर में गर्मी की शुरुआत के साथ ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी तट पर झाड़ियों में लगी आग की वजह से 17 लोगों की मौत हो चुकी है. रिपोर्ट के अनुसार, इस आग की वजह से बीते 30 दिसंबर को पूर्वी गिप्सलैंड और न्यू साउथ वेल्स के दक्षिण तट में कम से कम सात लोगों की मौत हो चुकी है.

रिपोर्ट के अनुसार, सबसे ज्यादा 15 लोगों की मौत न्यू साउथ वेल्स प्रांत में हुई, इनमें तीन दमकल विभाग के कर्मचारी भी शामिल हैं. दक्षिण ऑस्ट्रेलिया और विक्टोरिया में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है. विक्टोरिया में यह संख्या बढ़ सकती है क्योंकि यहां 17 लोग अब भी लापता हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)