भारत

महाराष्ट्र और गुजरात के दो कारखानों में विस्फोट से 16 लोगों की मौत

महाराष्ट्र के पालघर ज़िले की रसायन फैक्टरी और गुजरात के वडोदरा ज़िले में स्थित एक गैस फैक्टरी में हुआ हादसा.

महाराष्ट्र के पालघर जिले में स्थित केमिकल फैक्ट्री में शनिवार शाम करीब सात बजे हुआ विस्फोट. (फोटो साभार: एएनआई)

महाराष्ट्र के पालघर जिले में स्थित केमिकल फैक्ट्री में शनिवार शाम करीब सात बजे हुआ विस्फोट. (फोटो साभार: एएनआई)

मुंबई/पालघर/वडोदरा: महाराष्ट्र और गुजरात की दो कारखानों में शनिवार को हुए धमाके में कम से कम 16 लोगों की मौत हो गई.

महाराष्ट्र में पालघर जिले के बोईसर में शनिवार शाम एक रसायन फैक्टरी में हुए भीषण विस्फोट में आठ लोग मारे गए. एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी.

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि फैक्टरी कोलवाडे गांव में स्थित है और यह विस्फोट शनिवार शाम करीब 7:20 बजे हुआ. विस्फोट इतना जबरदस्त था कि इसे 15 किमी दूर तक सुना गया. विस्फोट के कारण आसपास के कुछ इलाकों में खिड़कियों के शीशे टूट गए.

अधिकारी ने बताया कि यह विस्फोट अंक फार्मा के निर्माणाधीन संयंत्र में हुआ.

अधिकारी ने बताया कि विस्फोट में आठ लोग मारे गए. विस्फोट के बाद आग लग गयी जिस पर काबू पा लिया गया है.

अंक फार्मा कोलवाडे स्थित महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) क्षेत्र में स्थित है.

एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने हादसे में मारे गये प्रत्येक व्यक्ति के निकट परिजन के लिए पांच लाख रुपये की सहायता की घोषणा की है.

अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दल को बचाव अभियान के लिए बुलाया गया था.

वडोदरा के पास गैस कंपनी में हुए धमाके में आठ लोगों की मौत

उधर, गुजरात के वडोदरा जिले में औद्योगिक एवं मेडिकल गैस उत्पादन कंपनी में शनिवार सुबह हुए विस्फोट में आठ लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए.

यह विस्फोट पादरा तहसील के गवासाद गांव के पास एम्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड में करीब 11 बजे हुआ.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह संयंत्र पादरा-जंबुसार राजमार्ग के पास स्थित था. घटना में मारे गए ज्यादातर लोग श्रमिक थे.

घायलों को वडोदरा के पास अतलादारा स्थित अस्पताल ले जाया गया. पुलिस अधीक्षक (वडोदरा ग्रामीण) सुधीर देसाई ने बताया, ‘कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई. छह व्यक्ति घायल हैं.’

उन्होंने बताया कि फॉरेन्सिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) के अधिकारियों की एक टीम विस्फोट के कारणों का पता लगा रही है. प्राथमिक जांच में पता चला है कि यह विस्फोट साफ तौर पर सिलेंडरों में गैस भरे जाने के दौरान हुआ.

पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘हम एफएसएल टीम द्वारा जुटाए गए साक्ष्यों के आधार पर प्राथमिकी दर्ज करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि विस्फोट के लिए जिम्मेदार सभी लोगों को अधिकतम सजा मिले.’