भारत

अलीगढ़ में फिल्म छपाक का विरोध, हिंदूवादी संगठन की चेतावनी, ‘न देखूंगा, न देखने दूंगा’

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में फिल्म छपाक के विरोध में लगाए गए पोस्टर में सबसे ऊपर बड़े-बडे़ अक्षरों में ‘चेतावनी’ लिखा था. इन पोस्टरों में कहा गया है कि जो भी सिनेमाघर फिल्म को दिखाने की कोशिश करेंगे, उन्हें अपना बीमा कराना पडे़गा.

(फोटो: सोशल मीडिया)

(फोटो: सोशल मीडिया)

अलीगढ़ः उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के सिनेमाघरों में दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘छपाक’ के विरोध में एक हिंदूवादी संगठन ने पोस्टर्स लगाए गए हैं. शुक्रवार को सिनेमाघरों में फिल्म की स्क्रीनिंग नहीं होने दी गई.

द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, इस पोस्टरों में सबसे ऊपर बड़े-बडे़ अक्षरों में ‘चेतावनी’ लिखा था, जिसमें कहा गया कि जो भी सिनेमाघर फिल्म को दिखाने की कोशिश करेंगे, उन्हें अपना बीमा कराना पडे़गा.

इन पोस्टर्स में यह भी लिखा था, ‘ना देखूंगा, ना देखने दूंगा.’

इन पोस्टर्स में पांच जनवरी को जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा को लेकर एकतरफा सहानुभूति दिखाने के लिए दीपिका पादुकोण की आलोचना भी की गई.

इन पोस्टर्स के नीचे ‘अखंड भारत हिंदू सेना’ के पंकज पंडित और दीपक शर्मा के नाम और उनकी तस्वीरें छपी थीं.

पोस्टर्स में लिखा था कि दीपिका पादुकोण ने राष्ट्रवाद के चेहरे पर तेजाब फेंका है.

अलीगढ़ के सर्किल ऑफिसर3 अनिल समानिया ने कहा कि सिनेमाघरों को सुरक्षा मुहैया कराई गई है लेकिन थिएटर मालिकों ने फिल्म की स्क्रीनिंग नहीं रखने का फैसला किया है. अगर वे फिल्म दिखाते हैं तो हम उन्हें सुरक्षा देंगे.

अलीगढ़ में चार प्रमुख थिएटर हैं जिनमें से दो मीनाक्षी और ग्रेट वैल्यू मॉल ने फिल्म के पोस्टर लगाए हैं.

हालांकि स्थानीय सूत्रों के मुताबिक, बाद में इन पोस्टरों  की जगह ‘तानाजीः द अनसंग वॉरियर’ के पोस्टर लगा दिए गए.

‘छपाक’ की स्क्रीनिंग रोकने को लेकर समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने विरोध किया है.

समाजवादी पार्टी की छात्र इकाई छात्रसभा के जिला अध्यक्ष रंजीत चौधरी ने कहा, ‘यह फिल्म एसिड अटैक सर्वाइवर के बारे में है. एक तरफ सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की बातें करती हैं लेकिन जब दीपिका पादुकोण जेएनयू हिंसा में घायल हुईं जेएनयू अध्यक्ष ओईशी घोष के प्रति एकजुटता दिखाते हुए जेएनयू पहुंचती हैं तो उन्हें निशाना बनाया जाता है.’

मुजफ्फरनगर में बजरंग दल के सदस्यों ने कार्निवल सिनेमा में फिल्म की स्क्रीनिंग बाधित की.

स्थानीय सूत्रों  का कहना है कि दक्षिणपंथी संगटन ने फिल्म के पोस्टर फाड़ दिए और दीपिका पादुकोण के खिलाफ नारेबाजी की.

नोएडा में समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने कहा कि पुलिस ने उन्हें सेक्टर 25 के स्पाइस मॉल में फिल्म देखने के लिए अंदर नहीं जाने दिया.