दुनिया

ब्रिटिश राजवंश से अलग होने के बाद प्रिंस हैरी कनाडा पहुंचे, कहा- और कोई चारा नहीं था

प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल ने बीते नौ जनवरी को इंस्टाग्राम पर घोषणा की थी कि वे शाही परिवार के दायित्वों से मुक्त होंगे और अपना ज़्यादातर समय उत्तरी अमेरिका में बिताएंगे.

प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल. (फोटो: रॉयटर्स)

प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल. (फोटो: रॉयटर्स)

लंदन: ब्रिटेन के राजकुमार हैरी ने कहा कि उनके और पत्नी मेगन मर्केल के पास कई साल की चुनौतियों के बाद राजवंश के वरिष्ठ सदस्य के ओहदे से हटने के अलावा वास्तव में कोई विकल्प नहीं था.

इसके बाद प्रिंस हैरी, पत्नी मेगन और बेटे आर्ची से मिलने के लिए कनाडा पहुंच गए हैं.  मेगन और आर्ची तकरीबन दो महीने से कनाडा के हॉर्थ हिल रिजनल पार्क के पास वैंकुअर आइलैंड पर एक भवन में रह रही हैं.

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय द्वारा राजवंश से उनके अलग होने की औपचारिकताओं को पूरा किए जाने के बाद अपने पहले निजी बयान में रविवार रात को 35 वर्षीय हैरी ने कहा था कि जब उन्होंने और उनकी अमेरिकी पत्नी मेगन मर्केल ने शादी की थी तो वे रोमांचित और आशावान थे.

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन हमेशा अपना घर रहेगा और दोनों अपना समय कनाडा और ब्रिटेन में गुजारेंगे.

हैरी ने दक्षिण अफ्रीका के लीसोथो और बोत्सवाना के एचआईवी प्रभावित लोगों की मदद के लिए 2006 में अपने द्वारा सह-स्थापित की गई संस्था सेंटेबाले में आयोजित रात्रिभोज में कहा, ‘मैं अपनी पत्नी और अपने लिए दायित्वों से अलग होने का फैसला किया और यह आसानी से लिया गया फैसला नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘यह कई सालों की चुनौतियों और कई महीनों की बातचीत के बाद लिया गया फैसला है और मैं जानता हूं कि मैंने हमेशा सहीं नहीं किया है लेकिन जहां तक इसकी बात है, वास्तव में कोई दूसरा विकल्प नहीं था.’

उन्होंने कहा कि वे अब भी वही पुराने हैरी हैं जिन्हें वो लोग जानते हैं, लेकिन स्पष्ट नजरिये के साथ.

हैरी का यह बयान बकिंघम पैलेस द्वारा उस घोषणा के एक दिन बाद आया है जिसमें कहा गया था कि इस समझौते के तहत उन्हें और उनकी पत्नी मेगन मर्केल को राजवंश उपाधि को छोड़ना होगा और अपने कर्तव्यों के निर्वहन के लिए वे सार्वजनिक कोष का इस्तेमाल भी नहीं कर पाएंगे.

हैरी और मेगन (38) के बीच कई हफ्तों की बातचीत के बाद इस महीने के शुरू में यह घोषणा की गई थी कि वे शाही परिवार के दायित्वों से मुक्त होंगे और ज्यादा समय उत्तरी अमेरिका में बिताएंगे.

उल्लेखनीय है कि बीते नौ जनवरी को इंस्टाग्राम पर हैरी और मेगन ने यह घोषणा की थी. हैरी और मेगन ने अपनी इस योजना के ऐलान से पूरे देश को चौंका दिया था कि वे ब्रिटेन और उत्तरी अमेरिका (कनाडा) के बीच अपना समय बिताने के लिए खुद को शाही भूमिका से अलग कर रहे हैं.

दोनों ने महारानी से सलाह मशविरा किए बिना यह घोषणा की थी, जिसे ब्रिटेन के शाही खानदान के भीतर बिखराव के रूप में देखा जा रहा है. प्रिंस हैरी ने कहा था कि वे अपने आठ महीने के बेटे आर्ची के साथ ब्रिटेन और उत्तरी अमेरिका में समय बिताने के लिए यह कदम उठा रहे हैं.

हैरी ने कहा, ‘मैंने ये जीवन जिया और अपने देश और महारानी की सेवा करना महान सम्मान की बात है… यह हमारा सौभाग्य है कि आपकी (लोगों की) सेवा करें और हम सेवा में यह जीवन जारी रखेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘ब्रिटेन मेरा घर है और ऐसी जगह है जिससे मुझे प्यार है और यह कभी नहीं बदलेगा.’

लंदन में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘हमें उम्मीद थी कि हम महारानी, कॉमनवेल्थ और सैन्य संघ को सेवाएं देते रहेंगे, लेकिन बिना सार्वजनिक कोष… दुर्भाग्यवश, यह संभव नहीं है. मैंने यह जानते हुए इसे स्वीकार कर लिया कि इससे मैं जो हूं या जितना प्रतिबद्ध हूं, यह नहीं बदलेगा.’

प्रिंस हैरी तब तक अपने राजवंश संबंधी कर्तव्य निभाते रहेंगे. धीरे-धीरे वह स्थायी रूप से इन भूमिकाओं से पीछे हट जाएंगे.

इस समझौते के तहत हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल को शाही उपाधि ‘हिज रॉयल हाइनेस’ और ‘हर रॉयल हाईनेस’ (एचआरएच) को भी छोड़ना होगा. यह समझौता बसंत की भी तारीख को अमल में आएगा जो ब्रिटेन में मार्च के अंत में शुरू होता है. प्रिंस हैरी तब तक अपने शाही कर्तव्य निभाते रहेंगे.

धीरे-धीरे वह स्थायी रूप से इन भूमिकाओं से पीछे हट जाएंगे, रॉयल मरीन्स के कैप्टन जनरल (ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग द्वारा दिया गया पद) के तौर पर अपनी सैन्य भूमिकाओं को, आरएएफ होनिटन में ऑनररी एयर कमांडेंट और स्मॉल शिप्स एंड डाइविंग के कोमोडर इन चीफ जैसी सैन्य भूमिकाओं को छोड़ देंगे.

‘मेक्गिट’ कहे जा रहे इस समझौते के तहत, दंपति उन्हें हाल में मिली भूमिकाएं भी गंवा देंगे जहां उन्हें राष्ट्रमंडल का युवा राजदूत बनाया गया था. हालांकि निजी धर्मार्थ कार्यों को पूरा करने के उनके कदम के तहत, वे महारानी के राष्ट्रमंडल न्यास के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बने रह सकते हैं.

बीते 18 जनवरी को प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल ने शाही परिवार से अलग होने के लिए औपचारिक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. बकिंगघम पैलेस ने 18 जनवरी की रात एक बयान में कहा था, ‘ड्यूक और डचेज ऑफ ससेक्स अपनी एचआरएच उपाधियों का इस्तेमाल नहीं करेंगे, क्योंकि अब वे शाही परिवार के कार्यकारी सदस्य नहीं हैं.’

बहरहाल यह फैसला इस दंपति को आर्थिक आजादी देगा जो वे मांग रहे थे और इसका मतलब है कि ब्रिटेन के करदाताओं के पैसे से चलने वाले सोव्रन ग्रांट के हिस्से पर उनकी अब पहुंच नहीं होगी.

प्रिंस हैरी पत्नी मेगन और बेटे आर्ची से मिलने कनाडा पहुंचे

ब्रिटेन के राजकुमार हैरी पत्नी मेगन और बेटे आर्ची से मिलने के लिए कनाडा पहुंच गए हैं. खबर के अनुसार, लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे से सोमवार शाम साढ़े पांच बजे वह वैंकुवर के लिए रवाना हुए.

मेगन आठ माह के बेटे आर्ची के साथ पहले से कनाडा में हैं और कुछ खबरों में कहा गया है कि वह लंबित शाही कार्यों के लिए कुछ समय के लिए ब्रिटेन लौट सकती हैं जब तक कि नया समझौता अमल में नहीं आ जाता.

इस संबंध में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने कहा कि यह समझौता कई महीनों की चर्चा के बाद हुआ है और यह उनके पोते तथा उनके परिवार के आगे बढ़ने के लिए रचनात्मक एवं सहयोगात्मक तरीका है. महारानी के निजी बयान में कहा गया, ‘हैरी, मेगन और आर्ची हमेशा मेरे परिवार के बेहद प्रिय सदस्य रहेंगे.’

हैरी और मेगन विंडसर कैसल स्थित फ्रोगमोर कॉटेज की मरम्मत पर खर्च हुए करदाताओं के 24 लाख पाउंड की राशि वापस करेंगे जो ब्रिटेन में उनका पारिवारिक घर रहेगा जब वह ब्रिटेन और कनाडा के बीच समय व्यतीत करेंगे.

हैरी और मेगन ने अपने आधिकारिक ससेक्स रॉयल वेबसाइट पर अपना खुद का अपडेट भी जारी किया जिसके शुरुआती पृष्ठ पर एचआरएच उपाधियों के संदर्भ हटा कर उसे अपडेट कर दिया गया है.

उनकी वेबसाइट पर नजर आ रहे बयान में कहा गया, ‘हम अब हमारा समय ब्रिटेन और उत्तरी अमेरिका के बीच बिताने, महारानी, राष्ट्रमंडल देशों के प्रति हमारे कर्तव्य का सम्मान करने और हमारे धर्मार्थ कार्यों को जारी रखने के लिए देने की योजना बना रहे हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)