कैंपस

पश्चिमी यूपी को 10 फीसदी कोटा दे दें, जामिया-जेएनयू में सबका इलाज कर दिया जाएगा: केंद्रीय मंत्री

उत्तर प्रदेश के मेरठ में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में एक रैली को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि जेएनयू और जामिया में जो लोग देश विरोधी नारे लगाते हैं, उनके लिए उनके पास इलाज है.

Dr. Sanjeev Kumar Balyan taking charge as the Minister of State for Agriculture, in New Delhi on May 28, 2014.

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान. (फोटो साभार: विकिपीडिया)

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने गुरुवार को कहा कि उनके पास जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) और जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों के लिए सही इलाज है. बता दें कि, दोनों विश्वविद्यालयों में हाल में विरोध प्रदर्शन हुए हैं.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘विश्वविद्यालयों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए 10 फीसदी सीटें छोड़ दें और फिर सबका इलाज कर दिया जाएगा.’

उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य और डेयरी राज्य मंत्री संजीव बालियान ने कहा, ‘मैं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से अनुरोध करता हूं. जेएनयू और जामिया में जो लोग देश विरोधी नारे लगाते हैं, उनके लिए केवल एक इलाज है. पश्चिमी यूपी का वहां 10 फीसदी कोटा करवा दो… सभी का इलाज कर देंगे, किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी.’

बालियान मेरठ में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में एक रैली को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून पास किए जाने के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अशांति पैदा करने की कोशिश की गई.

उन्होंने पूछा, ‘ये लोग कहां से आए? वे लोग सड़कों पर क्यों आए?’ उन्होंने कहा कि यह कानून नागरिकता देने का है न कि छीनने का.

उन्होंने कहा कि जेएनयू और जामिया की तुलना में मेरठ कॉलेज के कहीं अधिक छात्र इस कानून के समर्थन में है.