भारत

अमित शाह के बयान पर चिदंबरम ने कहा, गांधी का तिरस्कार करने वाले ही ‘शाहीन बाग से मुक्ति’ चाहेंगे

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को एक चुनावी बैठक में कहा था कि दिल्ली के चुनाव में भाजपा के लिए मतदान करने से ‘शाहीन बाग़ जैसी हज़ारों घटनाएं’ रुकेंगी.

पी. चिदंबरम. (फोटो: रॉयटर्स)

पी. चिदंबरम. (फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह और वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने दिल्ली के शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में गृह मंत्री अमित शाह के एक बयान को लेकर रविवार को उन पर निशाना साधते हुए कहा कि महात्मा गांधी का तिरस्कार करने वाले ही ‘शाहीन बाग से मुक्ति’ चाहेंगे.

पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, ‘गृह मंत्री ने ‘शाहीन बाग से मुक्ति पाने’ के नाम पर वोट मांगा. जो लोग गांधी का तिरस्कार करते हैं वही शाहीन बाग से मुक्ति पाना चाहेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘शाहीन बाग महात्मा गांधी के मूल विचार का प्रतिनिधित्व करता है. शाहीन बाग से मुक्ति पाने का मतलब अहिंसा और सत्याग्रह से मुक्ति पाना है.’

इससे पहले चिदंबरम ने नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शनों की पृष्ठभूमि में गणतंत्र दिवस के मौके पर कहा विरोध का स्तर बढ़ाया जाना चाहिए.

बता दें, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को एक चुनावी बैठक में कहा था कि दिल्ली के चुनाव में भाजपा के लिए मतदान करने से ‘शाहीन बाग जैसी हजारों घटनाएं’ रुकेंगी.

बाबरपुर निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार के लिए प्रचार करते हुए शाह ने कहा, ‘भाजपा उम्मीदवार को आपका मत दिल्ली और देश को सुरक्षित बनाएगा और शाहीन बाग जैसी हजारों घटनाओं को रोकेगा.’

बता दें, दक्षिण पूर्वी दिल्ली के शाहीन बाग में दिसंबर मध्य से बड़ी संख्या में महिलाएं सीएए के खिलाफ धरना दे रही हैं. भाजपा नेता ने कहा, ‘जब आप आठ फरवरी को (ईवीएम का) बटन दबाएंगे, तो आपके गुस्से की आहट (चुनाव परिणाम) शाहीन बाग में महसूस की जानी चाहिए.’