भारत

एनआरसी, सीएए, एनपीआर की बात होगी, लेकिन मोदी बेरोज़गारी पर एक शब्द नहीं बोलते: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देते हुए कहा कि वे किसी भी यूनिवर्सिटी में जाकर युवाओं के सवालों के जवाब दे दें. ये सवाल बेरोज़गारी, देश को बांटने, देश की छवि ख़राब करने से जुड़े हुए हैं. प्रधानमंत्री जवाब नहीं दे पाएंगे.

Jaipur: Congress leader Rahul Gandhi addresses during the 'Yuva Akrosh Rally' at Albert Hall, Ramniwas Bagh, in  Jaipur, Tuesday, Jan. 28, 2020. (PTI Photo) (PTI1_28_2020_000081B)

जयपुर में युवा आक्रोश रैली को संबोधित करते राहुल गांधी. (फोटो: पीटीआई)

जयपुर: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने युवाओं को देश की सबसे बड़ी पूंजी बताते हुए मंगलवार को कहा कि 21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी इस पूंजी को बर्बाद कर रहा है क्योंकि युवा पीढ़ी इस देश के लिए जो कर सकती है वह उसे करने नहीं दिया जा रहा है.

गुलाबी नगरी में आयोजित युवा आक्रोश रैली को संबोधित कर रहे राहुल गांधी ने कहा, ‘देश के हालात इस देश का हर युवा जानता है और पहचानता है. हर देश के पास कोई न कोई पूंजी होती है हिंदुस्तान के पास उसकी सबसे बड़ी पूंजी उसके करोड़ों युवा हैं. हमारे पास दुनिया के सबसे अच्छे होशियार युवा हैं. पूरी दुनिया इस बात को मानती है कि हिंदुस्तान का युवा पूरी दुनिया को बदल सकता है.’

बेरोजगारी के मुद्दे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ‘21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी पूंजी को जाया कर रहा है, बर्बाद कर रहा है. आप जो इस देश के लिए करना चाहते हैं और कर सकते हैं उसे आपकी सरकार और हमारे प्रधानमंत्री होने नहीं दे रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी लेकिन पिछले साल हिंदुस्तान में एक करोड़ युवाओं ने रोजगार खोया है.’

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘एनआरसी की बात होगी, सीएए, एनपीआर की बात होगी, लेकिन देश के सामने जो सबसे बड़ी समस्या है जो इस देश के हर परिवार को चुभती है उसके बारे में हमारे प्रधानमंत्री एक शब्द नहीं बोलते हैं.’

उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के समय देश की जीडीपी की वृद्धि दर नौ प्रतिशत थी जो अब नए मानकों के हिसाब से भी घटकर पांच प्रतिशत रह गई. राहुल ने कहा, ‘अगर आप पुराने तरीके से नापें, पूर्ववर्ती यूपीए सरकार वाले तरीके से,..तो यह केवल ढाई प्रतिशत है. केवल ढाई प्रतिशत.’

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को चुनौती देते हुए कहा कि वे किसी भी यूनिवर्सिटी में जाकर युवाओं के सवालों के जवाब दे दें. ये सवाल बेरोजगारी, देश को बांटने, देश की इमेज खराब करने से जुड़े हुए हैं. प्रधानमंत्री जवाब नहीं दे पाएंगे. वो सिर्फ झूठे वादे कर सकते हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)