भारत

दिल्ली विधानसभा चुनाव: दोपहर 12 बजे तक 15.57 फीसदी हुआ मतदान

दिल्ली में 2,689 स्थानों पर कुल 13,750 मतदान केंद्र हैं. 1.47 करोड़ लोग मताधिकार का प्रयोग करने के योग्य हैं जो 672 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे.

पोल बूथ के पास कांग्रेस, आप और कांग्रेस कार्यकर्ता. (फोटो: द वायर)

पोल बूथ के पास कांग्रेस, आप और कांग्रेस कार्यकर्ता. (फोटो: द वायर)

नई दिल्ली: दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों के लिए शनिवार सुबह आठ बजे शुरू हुए मतदान में सुबह 12 बजे तक 15.57 फीसदी मतदान हुआ है. दिल्ली में 2,689 स्थानों पर कुल 13,750 मतदान केंद्र हैं.

दिल्ली में 1.47 करोड़ लोग मताधिकार का प्रयोग करने के योग्य हैं जो 672 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे. मतगणना 11 फरवरी को होगी.

एक अधिकारी ने बताया कि मतदान सुबह आठ बजे शुरू हुआ और शाम छह बजे तक चलेगा.

सुरक्षाबल 70 विधानसभा क्षेत्रों में पैनी नजर रख रहे हैं. पुलिस और अर्द्धसैन्य बल के कर्मी शाहीन बाग, जामिया नगर और सीलमपुर जैसे संवेदनशील इलाकों में ‘अतिरिक्त सतर्कता’ बरत रहे हैं.

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) रणबीर सिंह ने बताया कि 81 लाख से अधिक पुरुष मतदाता, 66.80 लाख महिला मतदाता और 869 तीसरे लिंग के मतदाता हैं.

अधिकारियों के अनुसार, करीब 2.33 लाख मतदाता 18 से 19 साल की आयुवर्ग के हैं, 2.04 लाख मतदाता 80 साल के वरिष्ठ नागरिक हैं जबकि 11,608 सेवा मतदाता हैं.

इस बार जो दिग्गज उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं उनमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, आम आदमी पार्टी की आतिशी और राघव चड्ढा, चार पूर्व महापौर भाजपा के आजाद सिंह, योगेंद्र चंदोलिया, रवींदर गुप्ता और खुशी राम तथा दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा की बेटी शिवानी चोपड़ा शामिल हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परिवार के साथ वोट डालने के बाद ट्वीट कर कहा, मैंने परिवार के साथ वोट दिया, जिसमें मेरा पहली बार का मतदाता बेटा भी शामिल है. सभी युवा मतदाताओं से मतदान करने का आग्रह करता हूं. आपकी भागीदारी लोकतंत्र को मजबूत करती है.

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने वोट डालने के बाद कहा, ‘मेरी छठी इंद्री कह रही है कि दिल्ली में भाजपा की सरकार बनेगी.’

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी मतदान किया.

सिंह ने कहा, ‘जहां तक संवेदनशील मतदान केंद्रों की बात है तो 516 जगहों पर 3704 बूथ इस श्रेणी में आते हैं.’

अधिकारियों ने बताया कि ‘संवेदनशील श्रेणी’ के मतदान केंद्रों पर पुलिस सुरक्षा के अलावा अर्द्धसैन्य बल भी सुरक्षा में तैनात है. ऐसे केंद्रों पर गतिविधियों पर वेबकास्टिंग के जरिए नजर रखी जा रही है.

संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों के मद्देनजर शाहीन बाग में सभी पांच मतदान केंद्रों को संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है.

आम आदमी पार्टी को पिछले विधानसभा चुनाव में हासिल की गई अद्भुत जीत को दोहराने का विश्वास है जहां उसने 70 में से 67 सीटों पर ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी. 2019 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली में सभी सातों सीटों पर जीतने वाली भारतीय जनता पार्टी को आप को हराने की उम्मीद है जबकि कांग्रेस पिछली बार के मुकाबले अपने प्रदर्शन में सुधार लाने की कवायद में है. गत विधानसभा चुनाव में उसे एक भी सीट नहीं मिली थी.

आप को 2015 के चुनावों में 54.3 प्रतिशत वोट मिले थे जबकि भाजपा को 32 प्रतिशत और कांग्रेस को महज 9.6 प्रतिशत वोट मिले थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)