भारत

दिल्ली में आप विधायक के काफिले पर गोलीबारी, एक आप वालंटियर की मौत: पुलिस

पुलिस ने बताया कि नवनिर्वाचित विधायक नरेश यादव और उनके समर्थक विधायक के निर्वाचन क्षेत्र महरौली में एक मंदिर में पूजा-अर्चना कर लौट रहे थे. सूत्रों के अनुसार महरौली के विधायक के काफिले पर सात गोलियां चलाई गईं.

दिल्ली के महरौली विधानसभा क्षेत्र से आप विधायक नरेश यादव. (फोटो: एएनआई)

दिल्ली के महरौली विधानसभा क्षेत्र से आप विधायक नरेश यादव. (फोटो: एएनआई)

नई दिल्ली: दक्षिण पश्चिम दिल्ली के किशनगढ़ गांव में आप विधायक नरेश यादव के काफिले पर मंगलवार देर रात कुछ अज्ञात लोगों ने गोलियां चलाईं जिसमें एक आप वालंटियर की मौत हो गई और एक अन्य घायल हो गया.

पुलिस ने बताया कि नवनिर्वाचित विधायक और उनके समर्थक विधायक के निर्वाचन क्षेत्र महरौली में एक मंदिर में पूजा-अर्चना कर लौट रहे थे. सूत्रों के अनुसार महरौली के विधायक के काफिले पर सात गोलियां चलाई गईं.

पुलिस ने बताया कि घटना में घायल हुए एक व्यक्ति को नजदीक के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया.

आम आदमी पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा गया, ‘आप विधायकर नरेश यादव और उनके समर्थकों पर मंदिर से लौटने के दौरान हमला किया गया. गोलीबारी में घायल कम से कम एक वालंटियर की मौत हो गई है जबकि एक अन्य घायल है.’

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता संजय सिंह ने दावा किया कि पार्टी स्वयंसेवक अशोक मान की हमले में मौत हो गई.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘महरौली से विधायक नरेश यादव के काफिले पर हमला अशोक मान की सरेआम हत्या… मंदिर से दर्शन करके लौट रहे थे नरेश यादव.’

आप के सोशल मीडिया प्रभारी अंकित लाल ने ट्वीट किया, ‘आप विधायक नरेश यादव और उनके समर्थकों के काफिले पर गोलियां चलाई गईं… दूसरी कार में सवार बदमाशों ने फोर्टिस के पास उनपर गोलियां चलाई. एक व्यक्ति की मौत और एक घायल. पुलिस मौके पर मौजूद है.’

थोड़ी देर बाद उन्होंने ट्वीट किया, ‘ काफिले पर पीछे से हमला हुआ था. दो साथियों को गोली लगी. इस हमले में अशोक मान जी की मौत हो गयी, हरेंद्र जी घायल हैं. हरेंद्र जी के पैर में गोली लगी है और वह फोर्टिस अस्पताल में भर्ती हैं. वह खतरे से बाहर हैं.’

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, इस मामले में बुधवार को दिल्ली पुलिस ने एक 38 वर्षीय शख्स को हिरासत में लिया.

शुरुआती जांच के अनुसार, गोलीबारी के इस हमले में तीन लोग शामिल थे. पुलिस ने दावा किया कि हिरासत में लिए गए शख्स की अशोक मान से व्यक्तिगत दुश्मनी थी और इसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. दो अन्य आरोपियों की तलाश जारी है.

पुलिस ने आगे कहा, आरोपी और मृतक की एक पुरानी और व्यक्तिगत दुश्मनी थी. 2019 में आरोपी के भतीजे को गोली मारी गई थी जिसमें वह घायल हो गया था. आरोपी को संदेह था कि 2019 की घटना के पहले मृतक था. 15 दिन पहले उसने मान को धमकी भी दी थी.

अतिरिक्त डीसीपी (दक्षिण पश्चिम) इंगित प्रताप सिंह ने कहा, घटना महरौली मोड़ पर हुई. किशनगढ़ की तरफ से पैदल आए हमलावर गोलीबारी के बाद फरार हो गए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)