भारत

भाजपा शासित राज्यों में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहेः उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमारी सरकार को निशाना बनाने से पहले भाजपा को देखना चाहिए कि उनके शासित राज्यों में क्या हो रहा है. उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शनों के दौरान दंगे तक हो गए.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फोटो: पीटीआई)

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर सिर्फ भाजपा शासित राज्यों और दिल्ली में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहे हैं.

उन्होंने जेएनयू हिंसा मामले को उठाते हुए सवाल किया कि विश्वविद्यालय में हुई हिंसा मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं होने पर भी सवाल उठाया.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, ठाकरे ने रविवार को मुंबई में एक संवाददाता सम्मेलन में यह बयान दिया.

महाराष्ट्र में महिलाओं के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों से जुड़े सवाल पर ठाकरे ने कहा, ‘महिलाओं के खिलाफ हर अपराध निंदनीय है और इस तरह की घटना दोबारा नहीं होनी चाहिए. हमें निशाना बनाने से पहले भाजपा को देखना चाहिए कि उनके शासित राज्यों में क्या हो रहा है. जहां-जहां भाजपा सत्ता में है, जैसे उत्तर प्रदेश और दिल्ली (केंद्र सरकार), वहां हमें शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं. उत्तर प्रदेश में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान दंगे तक हो गए.’

ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में कोई दंगा नहीं हुआ, जहां ‘महाविकास अघाड़ी’ की सरकार है. यह शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का गठबंधन है.

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. दिल्ली के शाहीन बाग  में सीएए के विरोध में धरना प्रदर्शन को दो महीने से ज्यादा का वक्त हो गया है.

बीते शनिवार रात अचानक 200 से ज्यादा महिलाएं दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास धरने पर बैठ गईं. वह सीएए को हटाने की मांग को लेकर वहां बैठी थीं.

पुलिस अधिकारियों ने उन्हें वहां से हटाने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे. जिसके बाद रविवार शाम सीएए विरोधी और सीएए समर्थकों के बीच पथराव हो गया.

मौके पर भारी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है. फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है.

इससे पहले उद्धव ठाकरे बीते शुक्रवार को दिल्ली के दो दिवसीय दौरे पर थे, जहां उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी, अमित शाह और सोनिया गांधी से मुलाकात की थी.

इसके बाद उन्होंने एक प्रेस कॉन्फेंस में सीएए को अपना समर्थन देते हुए कहा था कि  उद्धव ठाकरे ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी से उनकी नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर चर्चा हुई.

उन्होंने लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि सीएए से किसी को डरने की जरूरत नहीं है. सीएए से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी.