भारत

पुलवामा हमलाः अब तक चार लोग गिरफ़्तार, ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट अमेज़न से मंगवाया गया था विस्फोटक

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि प्रारंभिक पूछताछ में पता चला कि गिरफ्तार किए गए दोनों लोगों में से एक ने जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के निर्देश पर आईईडी बनाने के लिए रसायन, बैटरियां एवं अन्य सामग्री खरीदने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट अमेज़न का इस्तेमाल किया था.

Jammu: Army personnel stand guard at Gujjar Nagar area during a curfew, imposed on the third day after the clash between two communities over the protest against the Pulwama terror attack, in Jammu, Sunday, Feb. 17, 2019. (PTI Photo)(PTI2_17_2019_000035B)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

नई दिल्लीः जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पिछले साल हुए आतंकी हमला मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शुक्रवार को दो और लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें से एक ने आईईडी बनाने के लिए रसायनों की ऑनलाइन खरीद की थी.

एनआईए ने श्रीनगर के बाग-ए-मेहताब इलाके के वजीर-उल-इस्लाम (19) और पुलवामा के हकरीपुरा गांव के मोहम्मद अब्बास राठेर (32) को गिरफ्तार किया है.

ऐसे आरोप हैं कि इन्होंने पिछले साल हुए इस हमले के योजना बनाने वालों और इसे अंजाम देने वालों को पनाह दी थी.

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में पिछले साल इस आतंकवादी हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवान शहीद हो गए थे.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, एनआईए ने जारी बयान में कहा, ‘प्रारंभिक पूछताछ में वजीर-उल-इस्लाम ने बताया कि उसने पाकिस्तान के जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के निर्देश पर आईईडी बनाने के लिए रसायन, बैटरियां एवं अन्य सामग्री खरीदने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट अमेज़न के एकाउंट का इस्तेमाल किया. सामान की डिलीवरी के बाद उसने खुद इस सामान को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों तक पहुंचाया था, जिसके बाद इससे तैयार किए गए विस्फोटक से पुलवामा हमले को अंजाम दिया गया. ‘

एनआईए के मुताबिक, ‘राठेर जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम करता है. उसने खुलासा किया है कि जब जैश आतंकवादी एवं आईईडी विशेषज्ञ मोहम्मद उमर अप्रैल-मई, 2018 में कश्मीर पहुंचा, तब उसने ही उसे अपने घर में ठहराया था. राठेर ने पुलवामा हमले से पहले कई बार जैश के आतंकवादियों- आत्मघाती बम हमलावर आदिल अहमद डार, समीर अहमद डार और पाकिस्तानी कामरान को भी अपने घर में ठहराया था.’

एनआईए ने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी मोहम्मद उमर फारुक पुलवामा हमले का मुख्य साजिशकर्ता था. वह बाद में कश्मीर में मुठभेड़ में मारा गया.

आदिल अहमद डार आत्मघाती हमलावर था, जो विस्फोटकों से लदी कार लेकर गया और सीआरपीएफ के काफिले के पास उसमें विस्फोट कर दिया.

अधिकारी ने कहा, ‘उसने आदिल समेत जैश आतंकवादियों को हकरीपुरा में आरोपी तारिक अहमद शाह और उसकी बेटी इंशा जान के घर में ठहराने में भी सहयोग किया.’

तारिक अहमद और उनकी बेटी इंशा को कथित तौर पर आरोपियों को पनाह देने के लिए तीन मार्च को एनआईए ने गिरफ्तार किया था.

अधिकारी ने बताया कि इस्लाम और राठेर को शनिवार को जम्मू में विशेष एनआईए अदालत में पेश किया जाएगा.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)