दुनिया

बलात्कार और यौन उत्पीड़न मामले में हार्वी वाइनस्टीन को 23 साल की सज़ा

हॉलीवुड फिल्मकार हार्वी वाइनस्टीन को थर्ड डिग्री रेप और फर्स्ट डिग्री आपराधिक यौन शोषण के मामले में दोषी पाया गया. उन पर 100 से अधिक महिलाओं ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.

हॉलीवुड फिल्मकार हार्वे विनस्टिन (फोटोः रॉयटर्स)

हॉलीवुड फिल्मकार हार्वे विनस्टिन (फोटोः रॉयटर्स)

न्यूयॉर्कः बलात्कार और यौन उत्पीड़न मामले में बुधवार को न्यूयॉर्क की एक अदालत ने हॉलीवुड फिल्मकार हार्वी वाइनस्टीन को 23 साल कारावास की सजा सुनाई है.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, वाइनस्टीन (67) को पिछले महीने दोषी करार दिया गया था, जिसके बाद से वह हिरासत में थे. वह व्हीलचेयर पर अदालत पहुंचे.

हॉलीवुड की सबसे शक्तिशाली शख्सियतों में से एक वाइनस्टीन को 25 फरवरी को न्यूयॉर्क की एक ज्यूरी ने यौन उत्पीड़न मामले में दोषी करार दिया था.

पांच महिलाओं और सात पुरुषों की ज्यूरी ने पांच दिनों तक विचार-विमर्श के बाद हार्वी को थर्ड डिग्री रेप और फर्स्ट डिग्री आपराधिक यौन गतिविधि के मामले में दोषी पाया.

न्यायाधीश जेम्स बर्क ने वाइनस्टीन (67) के पक्ष की उन याचिकाओं को खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने उनके मुवक्किल को पांच वर्ष की न्यूनतम सजा देने की मांग की थी.

उनके वकील ने कहा कि उनके मुवक्किल के लिए पांच साल की न्यूनतम सजा भी आजीवन कारावसा जैसी होगी लेकिन अभियोजन पक्ष ने कहा कि जिस तरह से एक लंबे समय तक उन्होंने महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार किया और जिस तरह से उनमें कोई पश्चात्ताप दिखाई नहीं देता, उसे देखते हुए उन्हें अधिकतम सजा दी जानी चाहिए.

वाइनस्टीन ने पहली बार किसी अदालत में अपनी बात रखते हुए कहा कि उनके पूरा मलाल है. उन्होंने अपने किए को पूरी तरह से भ्रमित बताया.

कुछ दिन पहले ही हॉलीवुड की पूर्व अभिनेत्री डॉन डनिंग ने न्यूयॉर्क की अदालत में बयान देते हुए कहा था कि वाइनस्टीन ने उन्हें समझौता करने के बदले तीन फिल्में ऑफर करने की बात कही थी.

इससे पहले ग्रैंड ज्यूरी ने भी वाइनस्टीन पर बलात्कार और आपराधिक यौन उत्पीड़न अधिनियम के तहत आरोप तय किए थे.

बता दें कि हार्वी वाइनस्टीन पर जेसिका बार्थ, एवा ग्रीन, सलमा हायेक, एंजेलिना जोली, ऐश्ली जूड, उमा थुर्मन जैसी दिग्गज अभिनेत्रियों सहित 100 से ज्यादा महिलाओं ने यौन शोषण करने का आरोप लगाए थे.

मीटू के तहत जिस तरह बड़ी संख्या में महिलाओं ने आगे बढ़कर अपने अनुभवा साझा किए, उससे दुनियाभर में एक बड़े अभियान की शुरुआत हुई थी.