भारत

सीएए का विरोध करने वाले कोरोना वायरस की तरह ख़तरनाकः योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ पूरी दुनिया मिलकर लड़ रही है. समाज को भी सीएए का विरोध कर रहे लोगों को पहचानना होगा और इनकी वास्तविकता को सबके सामने रखना होगा.

Mirzapur: Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath addresses at a rally during the five-days Ganga Yatra under the 'Namami Ganga' campaign, in Mirzapur, Wednesday, Jan. 29, 2020. (PTI Photo)(PTI1_29_2020_000180B)

योगी आदित्यनाथ. (फोटो: पीटीआई)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों की तुलना कोरोना वायरस से की है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी ने सोमवार को एक कार्यक्रम के दौरान राजधानी लखनऊ में लगी सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों की तस्वीरों की ओर इशारा करते हुए कहा कि इस तरह के लोग मानवता के दुश्मन हैं.

योगी आदित्यनाथ ने सीएए विरोधियों के पोस्टर और होर्डिंग लगवाने को न्यायोचित ठहराते हुए कहा कि यह जरूरी था ताकि जनता ऐसे लोगों के चेहरे पहचान सके, जो समाज के लिए काम करने का दिखावा करते हैं लेकिन असल में वे समाज के दुश्मन हैं.

योगी आदित्यनाथ ने एक समाचार चैनल से कहा, ‘कोरोना वायरस के खिलाफ पूरी दुनिया मिलकर लड़ रही है और पूरे समाज को ऐसे लोगों को पहचानना होगा और इनकी वास्तविकता को समाज के सामने रखना होगा. दोनों समाज के लिए खतरनाक है और दोनों के खिलाफ मिलकर लड़ना होगा.’

उन्होंने कहा, ‘हर कोई कोरोना को मानवता के दुश्मन के तौर पर देखता है लेकिन एक दूसरा दुश्मन भी है, जो एनजीओ और संगठनों के पीछे छिपा है और समाज के लिए काम करने का दिखावा करता है लेकिन वे लोग असल में क्या करने का दावा कर रहे हैं और वास्तव में क्या कर रहे हैं, इसके बीच एक बड़ा अंतर है.’

उन्होंने कहा, ‘सीएए विरोधियों के पोस्टर लगाकर सरकार ने किसी की छवि धूमिल नहीं की है और न ही निजता का उल्लंघन किया है. इनके चेहरे मीडिया में तोड़-फोड़ करते, हिंसा फैलाते पहले ही आ चुके हैं. इनकी जान को कोई खतरा नहीं है बल्कि ये खुद समाज की जान के लिए खतरा हैं. इनके खिलाफ पुख्ता प्रमाण हैं.’

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जो कोई भी कानून का मजाक उड़ाएगा, उसे अंजाम भुगतना पड़ेगा.