दुनिया

कोरोना वायरस: 18 मार्च को चीन में कोई घरेलू मामला सामने नहीं आया

देश के विभिन्न हिस्सों से कोरोना वायरस के 18 नए मामले सामने आने के बाद भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या 19 मार्च को 169 हो गई.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

बीजिंग/नई दिल्ली: चीन के वुहान शहर में करीब तीन महीने पहले कोरोना वायरस के मामले सामने आने के बाद बृहस्पतिवार को पहली बार ऐसा हुआ कि देश में संक्रमण का एक भी घरेलू मामला सामने नहीं आया. हालांकि, संक्रमण से आठ और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 3,245 पर पहुंच गई.

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने अपनी दैनिक रिपोर्ट में बताया कि बुधवार को चीनी भूभाग पर कोरोना वायरस का कोई घरेलू मामला सामने नहीं आया. उसने बताया कि हालांकि बुधवार को चीनी भूभाग पर कोविड-19 के कुल 34 नए मामले सामने आए लेकिन ये सभी विदेशों से संक्रमण के मामले थे.

एनएचसी ने बताया कि इन 34 नए आयातित मामलों में से 21 बीजिंग में, नौ ग्वांगडोंग प्रांत में, दो शंघाई, एक हीलोंगजियांग प्रांत में तथा एक झेजियांग प्रांत में सामने आया.

पिछले साल दिसंबर से ही कोरोना वायरस का दंश झेल रहे मध्य हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में भी बुधवार को एक भी मामला सामने नहीं आया जो इस जानलेवा विषाणु के खिलाफ शहर की महीनों लंबी लड़ाई में अहम बात है.

हुबेई प्रांत के स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि वुहान और हुबेई में संक्रमित मामलों की कुल संख्या क्रमश: 50,005 और 67,800 रही.

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि बुधवार को चीनी भूभाग पर आठ मौतें और 23 नए संदिग्ध मामले आए. सभी मौतें हुबेई प्रांत में हुई.

एनएचसी ने बताया कि चीन में आयातित मामलों की संख्या बढ़कर 189 हो गई है.

चीन में कोविड-19 के कुल 80,928 मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें से 3,245 लोगों की मौत हो गई और 70,420 मरीजों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई.

एनएचसी ने बताया कि बुधवार तक हांगकांग में चार मौत समेत 192 मामले, मकाऊ में 15 मामले तथा ताइवान में एक मौत समेत 100 मामले दर्ज किए गए.

भारत में कोरोना वायरस से 169 लोग संक्रमित

देश के विभिन्न हिस्सों से कोरोना वायरस के 18 नए मामले सामने आने के बाद भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या गुरुवार को 169 हो गई.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार इन लोगों में 25 विदेश नागारिक भी शामिल हैं, जिनमें से 17 इटली, तीन फिलीपीन, दो ब्रिटेन और कनाडा, इंडोनेशिया तथा सिंगापुर के एक-एक नागरिक हैं. इन आंकड़ों में दिल्ली, कर्नाटक और महाराष्ट्र में वायरस से मारे गए तीन लोग भी शामिल हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने कहा, ‘ भारत में कोविड-19 से अभी 151 लोग संक्रमित हैं.’ उन्होंने बताया कि अन्य 15 लोग वे है, जो ठीक हो गये है या उन्हें छुट्टी दे दी गई है जबकि तीन लोगों की मौत हो गई है.

दिल्ली में अभी तक एक विदेशी सहित 12 लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में भी एक विदेशी सहित 17 मामले सामने आए हैं.

महाराष्ट्र में तीन विदेशियों समेत 45 मामले सामने आए हैं जबकि केरल में दो विदेशी नागरिकों समेत 27 मामले दर्ज किए गए हैं. कर्नाटक में कोरोना वायरस के 14 मरीज हैं.

लद्दाख में संक्रमण के मामले बढ़कर आठ हो गए हैं और जम्मू-कश्मीर में इसकी संख्या बढ़कर चार हो गई है. तेलंगाना में दो विदेशियों समेत छह मामले सामने आए हैं.

राजस्थान में दो विदेशियों समेत सात लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं. तमिलनाडु में दो मामले सामने आए हैं. वहीं आंध्र प्रदेश, ओडिशा, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, पुडुचेरी, चंडीगढ़ और पंजाब में एक-एक मामला सामने आया है. हरियाणा में 14 विदेशियों समेत 17 लोग संक्रमित हैं.

भारत ने चीन को 15 टन चिकित्सा सामग्री उपलब्ध कराई: केंद्र

भारत ने कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित चीन को मास्क, दस्ताने और अन्य आपात चिकित्सा उपकरणों समेत करीब 2. 11 करोड़ रूपये मूल्य की 15 टन सामग्री मुहैया कराई है.

विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने लोकसभा में बुधवार को एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि चीन को मुहैया कराई गई आपात चिकित्सा सामग्री में एक लाख सर्जिकल मास्क, पांच लाख जोड़े सर्जिकल दस्ताने, 75 इंफ्यूजन पंप, 30 फीडिंग पंप, 21 डिफिब्रिलेटर और एन 95 श्रेणी के चार हजार मास्क मुहैया कराए गए.

उन्होंने बताया कि इस सामग्री की कीमत करीब 2.11 करोड़ रूपये थी और इसे वुहान में हुबेई चैरिटी फेडरेशन को सौंपा गया.

मुरलीधर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठ फरवरी 2020 को चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग को पत्र लिखकर कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर चीन के साथ भारत सरकार की एकजुटता का संदेश पहुंचाया. उन्होंने कहा कि देश की जनता पड़ोसी देश के साथ है और मदद को तैयार है.

उन्होंने बताया कि सरकार ने 26 फरवरी 2020 को चीन को 15 टन चिकित्सा सामग्री भेजी जिसमें मास्क, दस्ताने और दूसरे चिकित्सा उपकरण मुहैया कराए. यह सामान भारतीय वायुसेना का सी 17 विशेष विमान लेकर गया जो चीन के वुहान में जाकर उतरा.

विदेश राज्य मंत्री ने एक अन्य सवाल के लिखित जवाब में बताया कि सरकार ने वुहान से छात्रों समेत 766 लोगों को तीन विशेष उड़ानों द्वारा निकाला जिनका संचालन 31 जनवरी, एक फरवरी और 26 फरवरी को किया गया. उन्होंने बताया कि वहां से निकाले गए लोगों में 723 भारतीय, 43 विदेशी थे.

विदेशियों में 23 बांग्लादेश के, नौ मालदीव के, दो म्यांमार के और एक एक दक्षिण अफ्रीका, मैडागास्कर और अमेरिका का था. उन्होंने बताया, ‘ इसके अलावा छह चीनी नागरिकों को भी लाया गया जो भारतीय नागरिकों के पति पत्नी या बच्चे थे.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)