भारत

पंजाब: सार्वजनिक परिवहन सेवाएं बंद करने की घोषणा, कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति की मौत

पंजाब सरकार ने एक जगह लोगों के जमा होने की सीमा 50 से घटाकर 20 कर दी है. इससे पहले देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से तीन अन्य लोगों की मौत हो चुकी है. देश में तकरीबन 170 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है.

Kolkata: A notice put up on the wall of studio para after it was closed in wake of the deadly coronavirus pandemic, in Kolkata, Wednesday, March 18, 2020. (PTI Photo/Swapan Mahapatra)(PTI18-03-2020_000156B)

(फोटो: पीटीआई)

चंडीगढ़: पंजाब के नवांशहर जिले के एक अस्पताल में जान गंवाने वाला 72 वर्षीय शख्स कोरोना वायरस की जांच में संक्रमित पाया गया. इसके अलावा कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर पंजाब सरकार ने शुक्रवार 20 मार्च की आधी रात से सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को निलंबित करने की बृहस्पतिवार को घोषणा की.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से चौथी मौत होने की पुष्टि कर दी है.

अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया कि यह शख्स दो हफ्ते पहले इटली होते हुए जर्मनी से लौटा था और सीने में बहुत तेज दर्द उठने के बाद अस्पताल में भर्ती हुआ था.

स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (पीजीआईएमईआर) के निदेशक जगत राम ने बताया कि मृतक मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप से भी पीड़ित था और जांच के लिए भेजे गए उसके नमूनों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है. बुधवार को बांगा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उसकी मौत हो गई थी.

जिले के सिविल सर्जन प्रसाद भाटिया ने बताया कि यह शख्स सात मार्च को इटली होते हुए जर्मनी से लौटा था.

भाटिया ने बताया कि बांगा निवासी बुधवार को सीने में तेज दर्द की शिकायत के साथ स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती हुआ और तुरंत ही बेहोश हो गया. उसी दिन बाद में उसकी मौत हो गई.

पीजीआईएमईआर के निदेशक जगत राम ने बृहस्पतिवार को बताया, ‘नवांशहर का 72 वर्षीय शख्स जांच में संक्रमित पाया गया.’ साथ ही उन्होंने बताया कि रिपोर्ट बुधवार की रात आई.

राज्य के प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) अनुराग अग्रवाल ने पुष्टि की कि बांगा निवासी जांच में संक्रमित पाया गया.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के विभिन्न हिस्सों से 18 नए मामले सामने आने के बाद कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या बृहस्पतिवार को तकरीबन 170 पर पहुंच गई.

पंजाब में इससे पहले एक और मामले की पुष्टि हुई थी.

मालूम हो कि इससे पहले कोरोना वायरस के संक्रमण से देश में तीन अन्य लोगों की मौत हो चुकी है. देश में कोराना वायरस से मौत का सबसे पहला मामला कर्नाटक में ही सामने आया है.

कर्नाटक में कलबुर्गी के रहने वाले 76 वर्षीय एक बुजुर्ग की मौत कोरोना वायरस संक्रमण से होने की पुष्टि हो चुकी है. यह व्यक्ति सउदी अरब से लौटे थे. उनकी मृत्यु बीते 10 मार्च की रात को हुई.

इसके अलावा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी बीते 13 मार्च को 68 वर्षीय एक महिला की मौत हो गई. कोराना वायरस से संक्रमित होने के बाद उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

इस बुजुर्ग महिला को अपने बेटे के संपर्क में आने से कोरोना का संक्रमण हुआ था. महिला का बेटा जापान, जिनेवा और इटली से होता हुआ दिल्ली लौटा था. उन्हें डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर की भी समस्या थी.

इसके अलावा बीते 17 मार्च को कोरोना वायरस के संक्रमण से 63 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. उन्हें हाई ब्लड प्रेशर और हृदय संबंधी दिक्कतें थीं.

पंजाब में शुक्रवार आधी रात से बंद होगी सार्वजनिक परिवहन सेवाएं

पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए 20 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदी लगाने के अलावा शुक्रवार आधी रात से सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को निलंबित करने की बृहस्पतिवार को घोषणा की.

सरकार ने राज्यभर में शादी समारोह स्थल, होटल, रेस्तरां, बैंक्वेट और खाना खाने के स्थानों को भी बंद करने का फैसला किया है. होम डिलीवरी और खाना पैक कराकर ले जाने वाली सेवाएं चालू रहेंगी.

स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्म मोहिंद्र ने यहां कहा, ‘सार्वजनिक परिवहन बसें, टेम्पो और ऑटो रिक्शा शुक्रवार आधी रात से बंद कर दिए जाएंगे.’

कोरोना वायरस की स्थिति की समीक्षा के लिए दैनिक आधार पर पंजाब सरकार द्वारा गठित सात सदस्यीय मंत्री समूह की बैठक में ये फैसले लिए गए.

मंत्री समूह ने लोगों के एकत्रित होने की सीमा 20 तक कर दी है. पहले यह सीमा 50 लोगों की थी.

मंत्री ने कहा कि सरकारी कार्यालयों में आम लोगों का प्रवेश भी निषेध रहेगा. उन्होंने कहा कि पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की 10वीं और 12वीं कक्षाओं की परीक्षाएं 31 मार्च तक स्थगित कर दी गई है.

उन्होंने कहा कि सभी आयुक्तों, उपायुक्तों, पुलिस के वरिष्ठ अधीक्षकों को अपने-अपने थानों को छोड़कर न जाने के निर्देश दिए गए हैं. मंत्री ने कहा, ‘सरकार किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.’ उन्होंने कहा कि अस्पतालों में अलगाव वार्ड की संख्या बढ़ाई जाएगी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)