दुनिया

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 10 हज़ार से अधिक लोगों की मौत

कोरोना वायरस के संक्रमण से यूरोपीय देशों में बृहस्पतिवार तक 4,500 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं एशिया में तकरीबन 3,500 लोगों ने दम तोड़ दिया. संयुक्त राष्ट्र ने आशंका जताई है कि कोरोना वायरस से तक़रीबन 2.5 लाख नौकरियां जा सकती हैं.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

पेरिस/वॉशिंगटन/तेहरान/रोम/मॉस्को/संयुक्त राष्ट्र: दुनियाभर में कोरोना वायरस के संक्रमण से 10 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस के संक्रमण से 2,34,000 से ज्यादा लोग पीड़ित हैं और मौत का आंकड़ा 10 हज़ार के पार कर गया है.

इटली में मरने वाले लोगों की संख्या तकरीबन 3,405 पहुंच गई है, जो चीन में हुई कुल मौतों से 150 से भी ज्यादा है. अमेरिका के कैलीफोर्निया राज्य में लोगों को घर पर रहने का निर्देश जारी किया है.

आधिकारिक सूत्रों से समाचार एजेंसी एएफपी को प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, बृहस्पतिवार तक कोरोना वायरस से कुल 9,020 लोगों की मौत हुई. इनमें से यूरोप में मरने वाले लोगों की संख्या 4,134 जबकि एशिया में 3,416 है.

पिछले 24 घंटे में इस वायरस से और 712 लोगों की मौत हुई और संक्रमित लोगों की संख्या 90,293 है. यूरोप में कोरोना वायरस कोविड-19 तेजी से फैल रहा है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस की शुरुआत दिसंबर, 2019 में चीन में हुई थी.

भारत में अब तक चार लोगों की मौत इस महामारी से हो चुकी है. चीन में संक्रमण से मौत का आंकड़ा 3200 से ज्यादा हैं.

मालूम हो कि चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर से कोरोना वायरस की शुरुआत हुई. 1.15 करोड़ की आबादी वाला वुहान एक प्रमुख परिवहन केंद्र है.

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं.

इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है, लेकिन ‘सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम’ (सार्स) से इसका जुड़ाव खतरनाक है, क्योंकि 2002-03 में चीन और हांगकांग में इसके प्रकोप से करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी.

अमेरिका: संक्रमण के 10,000 से अधिक मामले, 150 लोगों की मौत

संयुक्त राज्य अमेरिका में नोवल कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 10,755 पहुंच गई है. जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय द्वारा बनाए गए एक ट्रैकर के मुताबिक गुरुवार तक संक्रमण से 154 लोगों की मौत हो गई है.

इस ट्रैकर के मुताबिक, संक्रमण के मामलों में चीन, इटली, ईरान, स्पेन और जर्मनी के बाद अमेरिका छठे स्‍थान पर है. इसके बाद फ्रांस और दक्षिण कोरिया है. विश्व भर में संक्रमण के 229,390 मामलों की पुष्टि हुई है और 9,325 लोगों की मौत हुई है.

अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने संकेत दिया है कि जांच का स्तर बढ़ने के कारण आने वाले दिनों में संक्रमण के मामलों में भारी वृद्धि देखने को मिल सकती है.

अमेरिका ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर नियमित वीजा सेवाएं निलंबित कर दी हैं.

विदेश मंत्रालय ने बुधवार देर रात कहा कि दुनिया भर के अधिकांश देशों में दूतावासों और वाणिज्य दूतावासों में 18 मार्च, 2020 से प्रवासी और गैर-प्रवासी नियमित वीजा अपॉइंटमेंट रद्द कर दी जाएगी.

इस बात की कोई जानकारी नहीं दी गई की इस निलंबन से किन देशों को छूट दी जाएगी.

यूरोप: संक्रमित लोगों की संख्या एक लाख के पार हुई

यूरोप में कोरोना वायरस के संक्रमित लोगों की संख्या बृहस्पतिवार को बढ़कर एक लाख के पार हो गई.

यूरोपीय देशों में कोरोना वायरस के अब तक 100,470 मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से 4,752 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं एशिया में 94,253 लोग संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें से 3,417 लोग दम तोड़ चुके हैं.

इलाज करा चुके लोगों की संख्या संक्रमित लोगों की संख्या से काफी कम है क्योंकि कई देशों में केवल बेहद गंभीर लक्षणों वाले लोगों की ही जांच की जा रही है.

फ्रांस: 24 घंटे में 108 लोगों की मौत

कोरोना वायरस के कारण फ्रांस में पिछले 24 घंटे में 108 और लोगों की मौत हो गई, जिससे देश में इस विषाणु से मरने वालों की संख्या 372 हो गई है.

यह जानकारी बृहस्पतिवार को फ्रांस के एक शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने दी. जेरोम सोलोमन ने संवाददाताओं से कहा, ‘हर चार दिनों में संक्रमण की संख्या दोगुनी हो रही है.’ उन्होंने कहा कि फ्रांस में विषाणु काफी तेजी से फैल रहा है.

ईरान: संक्रमण से और 149 लोगों की मौत, मरने वालों की संख्या 1,284 पहुंची

ईरान ने गुरुवार को बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से देश में और 149 लोगों की मौत हुई है.

देश के स्वास्थ्य उपमंत्री अलीरेजा रिआसी ने बताया कि इसके साथ ही देश में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,284 हो गई है. देश में अभी तक कुल 18,407 लोग इस वायरस से संक्रमित हैं.

चीन से ज्यादा मौत इटली में: समाचार एजेंसी एएफपी का आंकड़ा

कोरोना वायरस के कारण इटली में मरने वालों की संख्या चीन से अधिक हो गई है. बृहस्पतिवार को इटली में 427 और लोगों की मौत के साथ इस विषाणु से मरने वालों की कुल संख्या 3405 तक पहुंच गई है.

यहां कोरोना वायरस का पहला मामला फरवरी में सामने आया था. चीन में पिछले वर्ष दिसंबर में कोरोना वायरस के संक्रमण का पहला मामला सामने आने के बाद से आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक वहां 3245 लोगों की मौत हुई है.

पाकिस्तान: 381 मामलों की पुष्टि, अब तक दो लोगों की मौत

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में गुरुवार को कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 381 हो गई है.

सेना ने बताया कि अति आपात स्थिति में सशस्त्र बलों की मेडिकल सुविधा को आम जनों को मुहैया कराने पर विचार हो रहा है. पाकिस्तान में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण से दो लोगों की मौत हुई है.

रूस में कोरोना वायरस के संक्रमण से पहली मौत हुई

रूस में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक बुजुर्ग महिला की मौत होने के साथ बृहस्पतिवार को पहली मौत दर्ज की गई. वह मॉस्को के एक अस्पताल में भर्ती थी. स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह कहा.

एक बयान में अधिकारी के हवाले से कहा गया है, ‘79 वर्षीय महिला के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. उसे 13 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसे मधुमेह तथा हृदय संबंधी रोग भी था. जिन लोगों के वह संपर्क में आई थी उन्हें पृथक कर दिया गया है.’

संक्रामक रोगों के लिए मास्को अस्पताल संख्या-2 की प्रमुख चिकित्सक स्वेतलाना करासनोवा के हवाले से बयान में कहा गया है, ‘बुजुर्ग रोगी लंबे समय से कई रोगों से ग्रसित थी.’

मास्को के मेयर सर्गेई सोबयानीन ने टि्वटर पर कहा, ‘दुर्भाग्य से कोरोना वायरस के संक्रमण से हमें पहली क्षति (एक महिला के मौत के रूप में) हुई है.’

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक रूस में कोरोना वायरस के अब तक 147 मामले सामने आये हैं.

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इस हफ्ते कहा था कि कोरोना वायरस से खतरे की स्थिति देश में आमतौर पर नियंत्रण में है.

प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तीन ने बृहस्पतिवार को एक सरकारी बैठक के दौरान लोगों से यथा संभव अन्य लोगों के संपर्क में नहीं आने को कहा.

अगर वायरस को नहीं रोका गया तो लाखों लोग मर सकते हैं: संरा प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतारेस ने बृहस्पतिवार को चेतावनी दी कि अगर कोरोना वायरस को फैलने से नहीं रोका गया तो इससे लाखों लोग मर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि खासकर गरीब देशों में ज्यादा लोगों की मौत हो सकती है. उन्होंने इस विषाणु के खिलाफ समन्वित वैश्विक प्रतिक्रिया की अपील की.

उन्होंने कहा, ‘अगर हम जंगल की आग की तरह विषाणु को फैलने देते हैं खासकर दुनिया के गरीब देशों में तो इससे लाखों लोगों की मौत हो सकती है.’

उन्होंने कहा, ‘वैश्विक एकजुटता न केवल नैतिक आवश्यकता है बल्कि हर किसी के हित में है.’

दुनिया भर में ख़त्म हो सकती हैं 2.5 करोड़ नौकरियां: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी के अनुसार, कोरोना वायरस के कारण दुनिया भर में लगभग 2.5 करोड़ नौकरियां खत्म हो सकती हैं, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वित नीतिगत कार्रवाई के जरिए वैश्विक बेरोजगारी पर कोरोना वायरस के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकती है.

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) ने ‘कोविड-19 और कामकाजी दुनिया: प्रभाव और कार्रवाई’ शीर्षक वाली अपनी प्रारंभिक मूल्यांकन रिपोर्ट में कार्यस्थल में श्रमिकों की सुरक्षा, अर्थव्यवस्था को मदद और रोजगार तथा आमदनी को बनाए रखने के लिए तत्काल, बड़े पैमाने पर और समन्वित उपायों का आह्वान किया है.

आईएलओ ने कहा कि इन उपायों में सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना, रोजगार बनाए रखने में सहायता (यानी कम अवधि का काम, वैतनिक अवकाश, अन्य सब्सिडी) और छोटे तथा मझोले उद्योगों के लिए वित्तीय और कर राहत शामिल हैं.

आईएलओ ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते पैदा हुए आर्थिक और श्रम संकट से दुनिया भर में करीब 2.5 करोड़ लोग बेरोजगार हो सकते हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि जैसा 2008 के संकट में देखा गया था, अगर हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वित नीतिगत कार्रवाई पर गंभीरता से अमल करें तो वैश्विक बेरोजगारी पर प्रभाव काफी कम हो सकता है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)