भारत

कोरोना वायरसः राजस्थान सरकार ने 31 मार्च तक पूरे प्रदेश को लॉकडाउन किया

राजस्थान सरकार ने इस लॉकडाउन से आवश्यक सेवाओं को पूरी तरह से बाहर रखा है. हालांकि इस दौरान सरकारी और निजी सभी कार्यालय, शॉपिंग मॉल, दुकानें, कारखानें सभी बंद रहेंगी. सार्वजनिक परिवहन की सेवाएं भी पूरी तरह से बंद रहेंगी.

अशोक गहलोत. (फोटो: पीटीआई)

अशोक गहलोत. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्लीः कोरोना वायरस के संकट के मद्देनजर राजस्थान सरकार ने पूरे राज्य को 31 मार्च तक पूरी तरह से लॉकडाउन करने के निर्देश दिए हैं.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए एहतियातन यह कदम उठाया गया है.

मुख्यमंत्री गहलोत ने ट्वीट कर बताया, ‘कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 22 मार्च से लेकर 31 मार्च तक राज्य में पूरी तरह से लॉकडाउन रहेगा. सिर्फ आवश्यकता की चीजों और सेवाएं जारी रहेंगी. सरकारी और निजी सभी कार्यालय, शॉपिंग मॉल, दुकानें, कारखानें सभी बंद रहेंगी. सार्वजनिक परिवहन की सेवाएं भी पूरी तरह से बंद रहेंगी.’

उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘सार्वजनिक वितरण प्रणाली की एनएफएसए योजना के तहत जिन परिवारों को सस्ता राशन मिल रहा है, उन्हें मई महीने तक गेहूं निशुल्क मुहैया कराया जाएगा. शहरी इलाकों में दिहाड़ मजदूर, श्रमिक, स्ट्रीट वेंडर्स और गरीब लोगों को एक अप्रैल से अगले दो महीनों तक खाद्य सामग्री के पैकेट मुहैया कराए जाएंगे.’

मुख्यमंत्री गहलोत ने लॉकडाउन के दौरान बंद रहने वाली फैक्ट्रियों से किसी भी मजदूर को नहीं निकालने और उन्हें इस अवधि तक सवैतनिक अवकाश देने की अपील की.

कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश में आगामी 31 मार्च तक धारा 144 भी लागू है.

बता दें कि देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है. देशभर में अब तक यह आंकड़ा 290 के करीब पहुंच चुका है और  चार लोगों की मौत हो चुकी है.

राजस्थान में कोरोना वायरस के पॉजिटिव केस मिलने का सिलसिला जारी है. शनिवार को ही प्रदेश में आधा दर्जन नए पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं.

राज्य में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 23 हो गई है.

वहीं, दुनियाभर में कोरोना वायरस से अब तक 11,000 से ज्यादा लोगों की मौतें हो चुकी है. सिर्फ चीन और इटली में ही 6,000 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं.

170 देशों में फैल चुके इस वायरस की चपेट में ढाई लाख से ज्यादा लोग हैं.