भारत

कोरोना वायरस: बंगाल और हिमाचल में दो लोगों की मौत, अब तक 9 लोगों की जान गई

कोरोना वायरस के ख़तरे के मद्देनज़र पंजाब के बाद महाराष्ट्र और चंडीगढ़ और पुदुचेरी ने लगाया कर्फ्यू. देश के 20 राज्यों में का कोरोना वायरस के राज्यों में पूर्ण और छह राज्यों में आंशिक लॉकडाउन. संक्रमण के मामले 450 के पार पहुंचे. नेपाल ने भारत और चीन से लगी अपनी सीमा सील की.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से दो लोगों की मौत हो जाने का मामला सामने आया. इन दोनों राज्यों में संक्रमण से मौत का ये पहला मामला है. इसके साथ ही इस महामारी से देश में मरने वालों की संख्या 9 हो गई है.

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के एक निजी अस्पताल में 55 वर्षीय एक व्यक्ति को भर्ती कराया गया था. बीते शनिवार को उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने का पता चला था.

इसके अलावा हिमाचल प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने बताया कि राज्य के टांडा स्थित एक अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित 69 वर्षीय एक तिब्बती शरणार्थी की मौत हो गई. वह 15 मार्च को अमेरिका से लौटे थे.

इस बीच देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले बढ़कर 450 के पार पहुंच गए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक संक्रमण के मामले बढ़कर 467 पहुंच गई है. इनमें से 34 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

इससे पहले बीते रविवार को तीन लोगों की मौत महाराष्ट्र, गुजरात और बिहार में हो गई थी. बिहार में 38 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत हुई, जो अब तक मरने वालों में सबसे युवा थे. 20 फरवरी को कतर से लौटने के बाद कोरोना वायरस के लक्षण पाए जाने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बिहार में कोरोना वायरस से मौत का यह पहला मामला है.

रविवार को दूसरी मौत महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में दर्ज की गई. कोरोना वायरस से संक्रमित 63 वर्षीय एक व्यक्ति ने एक निजी अस्पताल में दम तोड़ दिया. उन्हें डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और हृदय संबंधी समस्या भी थी. सांस संबंधी गंभीर समस्या के बाद उनकी मौत हो गई.

मुंबई में कोरोना वायरस से होने वाली यह दूसरी मौत है.

वहीं गुजरात में रविवार को कोरोना वायरस से मौत की पहली घटना दर्ज की गई. यहां वायरस से संक्रमित 69 वर्षीय एक व्यक्ति ने सूरत के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया.

देश में कोराना वायरस से मौत का सबसे पहला मामला कर्नाटक में ही सामने आया है. कर्नाटक में कलबुर्गी के रहने वाले 76 वर्षीय एक बुजुर्ग की मौत कोरोना वायरस के संक्रमण से बीते 10 मार्च की रात को हुई थी. यह व्यक्ति सउदी अरब से लौटे थे.

मालूम हो कि पूरी दुनिया में इस वायरस से अभी तक 15 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और करीब साढ़े तीन लाख लोग प्रभावित हुए हैं.

पंजाब के बाद महाराष्ट्र में कर्फ्यू की घोषणा, 20 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पूर्ण लॉकडाउन

देश के 20 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने कोरोना वायरस के चलते अपने-अपने यहां पूर्ण लॉकडाउन के आदेश दिए हैं और छह अन्य राज्यों ने भी अपने कुछ क्षेत्रों में इसी तरह के प्रतिबंधों की घोषणा की है.

इस बीच पंजाब के बाद महाराष्ट्र और पुदुचेरी ने भी अपने यहां कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है.

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा, ‘20 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने पूर्ण लॉकडाउन के आदेश जारी किए हैं.’

दिल्ली, झारखंड और नगालैंड ने राज्यव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की है जबकि बिहार, हरियाणा, उत्तरप्रदेश और पश्चिम बंगाल के कई जिलों में इस तरह की पाबंदियां लगाई गई हैं. केरल, राजस्थान और उत्तराखंड सहित कई राज्यों ने पूरी तरह लॉकडाउन कर रखा है.

चंडीगढ़ में संघशासित प्रशासन ने भी मध्य रात्रि से कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है. मुंबई, बेंगलुरू, चेन्नई और राष्ट्रीय राजधानी सहित देश के 80 जिलों में यात्रा एवं आवाजाही पर प्रतिबंध है और अधिकारियों ने 31 मार्च तक सभी यात्री रेलगाड़ियों और अंतरराज्यीय बस सेवाओं को स्थगित कर दिया है.

उन्होंने कहा कि छह अन्य राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने भी अपने कुछ क्षेत्रों में लॉकडाउन लागू किया है. देश में 28 राज्य और आठ केंद्रशासित प्रदेश हैं. तीन अन्य राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने कुछ गतिविधियों पर रोक लगाने का निर्देश जारी किया है, जिससे कि बड़ी संख्या में लोग एकत्र न हो सकें.

लॉकडाउन के आदेश के बावजूद लोगों के बाहर घूमने के कारण पंजाब और महाराष्ट्र के बाद पुदुचेरी ने भी कर्फ्यू के आदेश जारी किए हैं जिससे कि लोग बाहर न निकल सकें.

देश में सबसे पहले पंजाब ने सोमवार को पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा दिया और इससे केवल आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है, जबकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि सोमवार की मध्य रात्रि से पूरे राज्य में कर्फ्यू लगाया जाएगा, क्योंकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई महत्वपूर्ण मोड़ पर पहुंच गई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य सरकारों से अपील की है कि वे लॉकडाउन का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराएं, क्योंकि कई लोग कदमों को गंभीरता से नहीं ले रहे.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. कृपया करके अपने आपको बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें. राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं.’

कोरोना वायरस के चलते राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा की है. (फोटो: रॉयटर्स)

कोरोना वायरस के चलते राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा की है. (फोटो: रॉयटर्स)

अन्य अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने उन राज्यों के पुलिस महानिदेशकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की जहां लॉकडाउन लागू किया गया है. भल्ला ने पुलिस महानिदेशकों से कहा कि वे लॉकडाउन के आदेश का कड़ाई से पालन कराएं.

कोरोना वायरस के प्रसार से उत्पन्न अभूतपूर्व स्थिति से निपटने के लिए प्रयास तेज करते हुए विमानन मंत्रालय ने घोषणा की कि देश में 25 मार्च से किसी भी घरेलू यात्री विमान को उड़ान की अनुमति नहीं होगी.

भारत ने रविवार से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर एक हफ्ते के लिए रोक लगा रखी है.

राष्ट्रीय राजधानी में एम्स ने विशिष्ट सेवाओं सहित अपने सभी ओपीडी, सभी नये एवं पुराने मरीजों के पंजीकरण को 24 मार्च से अगले आदेश तक बंद करने का निर्णय किया है, क्योंकि यह अपने संसाधनों को कोविड-19 पर नियंत्रण में लगाएगा.

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद् (आईसीएमआर) ने कहा कि सोमवार की सुबह दस बजे तक 18 हजार 383 नमूनों की जांच की गई.

इस बीच उच्चतम न्यायालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों को निर्देश दिया कि उच्चस्तरीय समितियों का गठन कर कैदियों की श्रेणी निर्धारित की जाए जिन्हें पैरोल पर रिहा किया जा सके.

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण जेलों में भीड़भाड़ कम करने के प्रयास के तहत उसने यह निर्देश जारी किया है.

नेपाल ने चीन और भारत से लगती सीमाएं सील कीं

काठमांडू: नेपाल ने कोरोना वायरस के चलते भारत और चीन से लगती अपनी सीमाएं सोमवार से एक सप्ताह के लिए बंद कर दी हैं. देश के वित्त मंत्री युवराज खाटीवाडा ने रविवार रात संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इन देशों (भारत और चीन) से सामान की आपूर्ति रोजाना की तरह होती रहेगी.

उन्होंने बताया कि सीमा पार लोगों के आवागमन पर 29 मार्च की मध्यरात्रि तक रोक लगा दी गई है.

खाटीवाडा ने कहा, ‘सरकार ने दक्षिणी और उत्तरी दोनों सीमाओं को सील करने का फैसला किया है क्योंकि समूचे दक्षिण एशिया और दक्षिण-पूर्वी एशिया कोरोना वायरस की महामारी से प्रभावित हैं. लोगों के सीमा पार आवागमन से नेपाल में बीमारी फैलने का बड़ा जोखिम है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)