भारत

कोरोना: तबलीग़ी जमात को लेकर भड़काऊ टिप्पणी के आरोप में हिंदू महासभा की नेता के ख़िलाफ़ केस

साल 2019 में हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडेय और उनके पति अशोक पांडेय को महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उनके पुतले को गोली मारने के लिए अलीगढ़ पुलिस ने गिरफ़्तार किया था.

महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारती हुई हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे (फोटो: ट्विटर)

साल 2019 में महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारती हुई हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे (फोटो: ट्विटर)

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में कोरोना वायरस महामारी को लेकर तबलीगी जमात के सदस्यों के खिलाफ भड़काऊ टिप्पणी करने के आरोप में हिंदू महासभा की राष्ट्रीय महासचिव के खिलाफ सोमवार को मुकदमा दर्ज किया गया.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि हिंदू महासभा की राष्ट्रीय महासचिव पूजा शकुन पांडेय के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 153ए (विभिन्न समुदायों के बीच नफरत फैलाना) और 505 (2) (भड़काऊ बयान देना) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

अलीगढ़ शहर से समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक हाजी जमीर उल्लाह खान ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज जी. को शिकायती पत्र देकर हिंदू महासभा की राष्ट्रीय महासचिव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी.

अमर उजाला के मुताबिक हिंदू महासभा की नेता पूजा शकुन पांडेय ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कोरोना महामारी को देश में फैलाने का काम कर रहे तब्लीगी जमातियों को सीधे गोली मार देने की मांग की थी. इसे लेकर उन्होंने मीडिया को भी बयान दिया था.

इसी बयान के वीडियो के आधार पर चौकी प्रभारी नौरंगाबाद महेश सिंह ने बी. दास कंपाउंड निवासी पूजा शकुन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

सीओ द्वितीय पंकज श्रीवास्तव ने मुकदमा दर्ज किए जाने की पुष्टि की है. यह मुकदमा चौकी प्रभारी की ओर से गांधीपार्क थाने में दर्ज कराया गया है.

बता दें कि इससे पहले हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडेय और उसके पति अशोक पांडेय को फरवरी 2019 में महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने के लिए अलीगढ़ पुलिस ने  गिरफ्तार किया था.

इसके पहले सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक टिप्पणी करने के आरोप में और एक व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक अतरौली थाना क्षेत्र में रहने वाले मुरसिम अली नामक शख्स ने रविवार को कोरोना वायरस को लेकर कथित तौर पर एक सांप्रदायिक टिप्पणी सोशल मीडिया पर डाली थी.

इस मामले में उसके खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 153 ए (विभिन्न समुदायों के बीच नफरत फैलाना) और 505 (2) (भड़काऊ बयान देना) तथा राष्ट्रीय आपदा अधिनियम की सुसंगत धारा में मुकदमा दर्ज कर उसे रविवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)