भारत

लॉकडाउन: कोलकाता में नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में 895 लोग गिरफ़्तार

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के क्रमिक रूप से कमजोर पड़ने पर चिंता ज़ाहिर की थी और राज्य से नियमों का पालन करने के लिए आवश्यक क़दम उठाने को कहा था.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

कोलकाता: कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के उद्देश्य से जारी लॉकडाउन के नियमों की अवज्ञा करने के आरोप में कोलकाता पुलिस ने रविवार की शाम पांच बजे के बाद से पिछले 24 घंटे की अवधि में 895 लोगों को राजधानी से गिरफ्तार किया है.

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि कोलकाता पुलिस ने महानगर में नाका जांच एवं गश्त के दौरान इन लोगों को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि शहर के विभिन्न हिस्सों से 895 लोगों को पकड़ा गया है.

लोगों से लॉकडाउन के नियमों का सख्ती से पालन करने का आग्रह करते हुये कोलकाता पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा ने इससे पहले नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने का आदेश अधिकारियों को दिया था.

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को राज्य सरकार से प्रदेश में लॉकडाउन के क्रमिक रूप से कमजोर पड़ने के खिलाफ केंद्र की चेतावनी पर ध्यान देने का आग्रह किया और कहा कि अधिकारियों की तरफ से अगर कोई चूक होती है इसके लिए उन्हें जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के क्रमिक रूप से कमजोर पडने पर चिंता जाहिर की थी और राज्य से नियमों का पालन करने के लिये आवश्यक कदम उठाने को कहा था.

इससे पहले प्रदेश के मुर्शिदाबाद एवं सिलीगुडी में नियमों के उल्लंघन की खबरें आयी थी.

वहीं, कोलकाता में कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों की आवाजाही और जमावड़े की निगरानी के लिए पुलिस ड्रोन का सहारा ले रही है.

अधिकारियों ने बताया कि शहर के उत्तरी क्षेत्र हाटीबागान और श्यामाबाजर तथा मध्य कोलकाता के बड़ा बाजार और न्यू मार्केट वाले सघन क्षेत्रों में ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है ताकि वीडियो रिकॉर्ड करके बेहतर तरीके से बंद लागू करने में पुलिस की सहायता हो सके.

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘मौजूदा समय में इस उद्देश्य के लिए तीन ड्रोन का इस्तेमाल हो रहा है. हम भीड़भाड़ वाले इलाकों खास तौर पर बाजार पर नजर रख रहे हैं, जहां लोग बंद का उल्लंघन करके जमा होते हैं.’

उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में और भी ड्रोनों का सहारा इस उद्देश्य के लिए लिया जा सकता है.

उन्होंने कहा, ‘लोगों को यह समझना होगा कि अभी जमावड़ा क्यों बंद है. ऐसा नहीं होगा तो कोरोना वायरस से लड़ना मुश्किल होगा. कोलकाता सघन क्षेत्र है और हमें यह सुनिश्चित करना है कि लोग सामाजिक दूरी को बनाए रखें.’

अधिकारी ने बताया कि किसी को भी बिना मास्क पहने बाहर जाने की अनुमित नहीं होगी और नियम का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी.

उन्होंने बताया, ‘ड्रोन से फुटेज जैसे ही मिलेगा, हम इसे स्थानीय पुलिस थाने के अधिकारियों को देंगे ताकि यह यह सुनिश्चित किया जा सके कि लोग आदेश का पालन करें. सरकारी नियम का पालन करते हुए, हम किसी को भी बिना मास्क के घर से बाहर निकलने नहीं देंगे.’

राज्य सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. इसी बीच पुलिस ने आपात स्थिति में फोन करने पर टैक्सी सेवा भी शुरू की है.

पश्चिम बंगाल में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण के 122 मामले सामने आए है जिनमें से सात लोगों की मौत हुई और 22 लोग इससे मुक्त हुए हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)