दुनिया

अमेरिकाः राष्ट्रपति पद के संभावित उम्मीदवार जो बाइडेन का यौन उत्पीड़न के आरोपों से इनकार

महिला ने जो बाइडेन पर उसे गलत तरीके से छूने का आरोप लगाया है. महिला का कहना है कि यह घटना 1993 में कैपिटल हिल में बाइडेन के कार्यालय में हुई थी. उस समय बाइडेन डेलावेयर से सीनेटर थे और महिला उनकी सहायक कर्मचारी के तौर पर काम करती थीं.

जो बाइडेन. (फोटो: रॉयटर्स)

जो बाइडेन. (फोटो: रॉयटर्स)

वाशिंगटनः अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार बनने की दावेदारी में आगे चल रहे जो बाइडेन ने सीनेट की एक पूर्व महिला कर्मचारी द्वारा उन पर लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों को खारिज किया है.

बाइडेन ने इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा कभी नहीं हुआ.

बाइडेन ने पहली बार सार्वजनिक तौर पर अपने ऊपर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर बयान दिया है.

बाइडेन ने शुक्रवार को एमएसएनबीसी चैनल को दिए साक्षात्कार के दौरान कहा, ‘यह सही नहीं है. ऐसा कुछ कभी नहीं हुआ.’

बाइडेन ने महिला के आरोपों में कई विरोधोभासों का हवाला देते हुए कहा, ‘यौन उत्पीड़न के आरोप जटिल हैं, लेकिन दो बातें कतई जटिल नहीं हैं. पहली यह कि महिलाओं का सम्मान किया जाना चाहिए और जब वे आगे बढ़कर कुछ कहती हैं, तो उन्हें चुप कराने के बजाए उनकी बात सुनी जानी चाहिए. दूसरी बात यह है कि उनके बयानों की उचित जांच होनी चाहिए.’

बाइडेन ने कहा, ‘जिम्मेदार सामाचार संगठनों को महिला की कहानी में बढ़ते विरोधाभासों की जांच और इसका आकलन करना चाहिए क्योंकि वह बार-बार बातें बदल रही हैं.’

उन्होंने कहा कि उन्होंने उन पर आरोप लगाने वाली महिला से कभी संपर्क नहीं किया और उन्हें ऐसा कुछ भी याद नहीं कि उन्होंने शिकायत की हो.

बाइडेन ने कहा, ‘ऐसा कभी नहीं हुआ. उसने जब पहली बार यह दावा किया, हमने यह स्पष्ट किया कि ऐसा कभी नहीं हुआ.’

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, बाइडेन ने कहा, ‘शिकायतकर्ता महिला ने कहा कि उन्होंने उस समय मेरे ऑफिस के सीनियर स्टाफ के सामने इस मुद्दे को उठाया था, लेकिन मेरे स्टाफ ने कभी इस बारे में मुझसे कोई बात नहीं की और न ही इस शिकायत के बारे में बताया. कई समाचार संगठनों ने उस समय मेरे स्टाफ के कई सदस्यों से बात भी की लेकिन कुछ नहीं मिला.’

बाइडेन ने कहा कि उनका महिला से किसी तरह का कोई संपर्क नहीं रहा और उन्हें इस शिकायत के बारे में कुछ याद भी नहीं है.

बाइडेन ने कहा, ‘उन्हें नहीं पता कि यह महिला उन पर इस तरह के आरोप क्यों लगा रही है? मैं उनके इरादों के बारे में कोई सवाल नहीं पूछूंगा. मुझे नहीं पता कि वह ऐसा क्यों कह रही हैं? मुझे नहीं पता कि आखिर क्यों अचानक 27 साल बाद यह मामला सामने आया? मुझे समझ नहीं आया.’

वह कहते हैं, ‘वह महिला जो कुछ भी कहना चाहती हैं, उसे वह सब कुछ कहने का अधिकार है, लेकिन मेरे पास भी अधिकार है कि महिला के तथ्यों की जांच की जाए.’

बता दें कि शिकायतकर्ता महिला ने पिछले साल सार्वजनिक रूप से बाइडेन पर अनुचित रूप से छूने का आरोप लगाया था.

महिला ने बाइडेन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कहा था कि यह घटना 1993 में कैपिटल हिल में बाइडेन के कार्यालय में हुई थी.

उस समय बाइडेन डेलावेयर से सीनेटर थे और महिला तब बाइडेन की सहायक कर्मचारी के तौर पर काम करती थीं.

हालांकि, इन आरोपों के कारण रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार एवं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ नवंबर 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन की दावेदारी को नुकसान होने की आशंका है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)