भारत

कोविड-19: बीएसएफ के दो कर्मचारियों की मौत और 194 संक्रमित, सीआरपीएफ के 161 लोगों में संक्रमण

बुधवार को बीएसएफ 85 जवान कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, थे, जो किसी भी अर्धसैनिक बल में एक दिन में संक्रमण का सबसे ज्यादा मामला है.

प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई

(प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

नई दिल्ली/अगरतला: कोरोना वायरस से संक्रमित सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो कर्मचारियों की मौत हो गई. एक कर्मचारी की मौत गुरुवार को हुई जबकि दूसरे की मौत दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में बीते सोमवार को हुई थी.

बीएसएफ की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘बीएसएफ के डीजी और सभी पदाधिकारी बल के दो योद्धाओं की मौत से दुखी हैं. बीएसएफ की शोक संवेदना उनके परिवारों के साथ है.’

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, बीएसएफ के 2.5 लाख कर्मचारियों में से 41 नए मामले सामने आने के बाद अब तक 193 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है.

बुधवार को बीएसएफ 85 जवान कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, थे, जो किसी भी अर्धसैनिक बल में एक दिन में संक्रमण का सबसे ज्यादा मामला है.

बुधवार तक बीएसएफ के संक्रमित जवानों में 60 से अधिक ऐसे जवान थे, जो राष्ट्रीय राजधानी के जामिया एवं चांदनी महल इलाके में कानून व्यवस्था की ड्यूटी पर तैनात किए गए थे.

वहीं, छह वो जवान थे, जो पश्चिम बंगाल में कोविड-19 को नियंत्रण में लाने के लिए किए गए उपायों का जायजा लेने वहां गए अंतर-मंत्रालयी केंद्रीय दल की एस्कार्ट टीम में थे.

इसके अलावा करीब 37 संक्रमित जवान त्रिपुरा सीमाई क्षेत्र से हैं. इस प्रकार बुधवार तक कुल 85 नए मामले सामने आये थे. सीमा सुरक्षा बल के प्रवक्ता के अनुसार, ये 85 जवान जरूरी एवं अन्य ड्यूटी पर थे. इनमें से दो कर्मी ठीक हो चुके हैं.

प्रवक्ता के अनुसार, सीमा सुरक्षा बल के दिल्ली स्थित मुख्यालय की दो मंजिलों को दो दिन पहले सील कर दिया गया था. लेकिन बुधवार से वहां कामकाज बहाल हो गया. इनमें से लगभग 30 को अब राजस्थान के जोधपुर भेजा गया है और बल के एक पृथकवास केंद्र में भर्ती कराया गया है जबकि बाकी को ग्रेटर नोएडा के केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) में करीब ढाई लाख जवान और कर्मचारी हैं. इस बल पर पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगती भारत की सीमा की सुरक्षा का जिम्मा है.

देश के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल (सीआरपीएफ) में कोरोना वायरस के मामलों में कमी आई है, जिसमें पिछले 24 घंटों में केवल तीन कर्मियों को संक्रमित पाया गया है. इसके साथ ही सीआरपीएफ में कोविड-19 संक्रमित कर्मियों की कुल संख्या 161 हो गई है.

बीएसएफ के अलावा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 161 जवानों को अब तक वायरस से संक्रमित पाया गया है. बल के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी.

सीआरपीएफ की दिल्ली में स्थित 31वीं बटालियन के कम से कम 135 कर्मचारी संक्रमित पाए गए थे और पिछले सप्ताह कोविड-19 से संक्रमित बल के 55 वर्षीय सब-इंस्पेक्टर की मृत्यु हो गई थी.

सीआरपीएफ में करीब 3.25 लाख कर्मचारी हैं. दिल्ली में सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित अर्द्धसैनिक बल का मुख्यालय भी बुधवार को खुला जिसे दो कर्मचारियों के संक्रमित पाए जाने के बाद रविवार को सील कर दिया गया था.

अधिकारियों ने बताया कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने कोविड-19 महामारी से लड़ने और अपने सैनिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक विशेष प्रकोष्ठ का गठन किया है, क्योंकि विभिन्न अर्द्धसैनिक बलों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 400 हो गए हैं.

बीएसएफ को जवानों में संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी की जांच करने को कहा

त्रिपुरा सरकार ने बुधवार को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिरीक्षक को धलाई जिले में तैनात 138वीं वाहिनी के जवानों में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों की जांच करने और सात दिन के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा.

त्रिपुरा के कानून मंत्री रतन लाल नाथ ने कहा कि पिछले पांच दिन में बीएसएफ के 40 कर्मचारी अथवा उनके परिवार के सदस्य संक्रमित पाए गए हैं और ये सभी 138वीं वाहिनी से जुडे़ हुए हैं.

नाथ ने कहा कि प्रधान सचिव (गृह) बरुण कुमार साहू ने एक पत्र लिखकर बीएसएफ के महानिरीक्षक को इन मामलों की उत्पत्ति के पीछे के कारणों का पता लगाने और इसकी रोकथाम के लिए उचित उपाय करने को कहा है ताकि संक्रमण आम लोगों में भी ना फैल जाए.

अमबासा स्थित 138वीं वाहिनी के मुख्यालय के दो बीएसएफ जवान दो मई को संक्रमित पाए गए थे. इसके बाद लगभग हर दिन जवानों अथवा उनके परिवार से संक्रमित रोगी सामने आने लगे.

(समाचार एजेंसी भाषा  से इनपुट के साथ)