भारत

महाराष्ट्रः औरंगाबाद में ट्रेन से कटकर 16 मज़दूरों की मौत

यह घटना औरंगाबाद में बदनापुर और करमाड के बीच हुई. सभी मज़दूर औरंगाबाद से मध्य प्रदेश जाने वाली ट्रेन पकड़ने के लिए पैदल जा रहे थे और थककर रेल पटरियों पर ही सो गए थे.

औरंगाबाद जिले में रेलवे ट्रैक पर हुई मजदूरों की मौत के बाद घटनास्थल की जांच करती पुलिस. (फोटो: पीटीआई)

औरंगाबाद जिले में रेलवे ट्रैक पर हुई मजदूरों की मौत के बाद घटनास्थल की जांच करती पुलिस. (फोटो: पीटीआई)

पुणेः महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में शुक्रवार तड़के एक मालगाड़ी की चपेट में आने से 16 प्रवासी मजदूरों  की मौत हो गई.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें से 14 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दो ने बाद में दम तोड़ दिया.

ये प्रवासी मजदूर अपने गृहराज्य मध्य प्रदेश लौटने के लिए श्रमिक विशेष ट्रेन में सवार होने के लिए महाराष्ट्र के जालना से भुसावल जा रहे थे कि वे थककर रेल की पटरियों पर ही सो गए.

यह घटना नांदेड़ प्रभाग में बदनापुर से करमाड रेलवे स्टेशनों के बीच हुई.

औरंगाबाद (ग्रामीण) के इंस्पेक्टर संतोष खेतमाल का कहना है कि थकान की वजह से मजदूर रेलवे ट्रैक पर ही सो गए थे.

उन्होंने बताया, ’20 मजदूर जालना से भुसावल जा रहे थे. वे लगभग 45 किलोमीटर चलने के बाद आराम करने के लिए रुक गए और रेलवे ट्रैक पर ही सो गए. शुक्रवार तड़के लगभग 5:15 बजे एक मालगाड़ी ने उन्हें कुचल दिया.’

यह खाली मालगाड़ी हैदराबाद के पास चेरलापल्ली स्टेशन से नासिक में मनमाड़ के पास पनेवाडी स्टेशन जा रही थी. ट्रेन के मोटरमैन ने ट्रेन रोकने की कोशिश की लेकिन वह ऐसा करने में सफल नहीं रहा.

साउथ सेंट्रल रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशंस ऑफिसर राकेश ने बताया, ‘ट्रेन के लोको पायलट ने ट्रैक पर कुछ लोगों को देखा. उसने हॉर्न बजाया और ट्रेन रोकने की कोशिश लेकिन वह ऐसा नही कर पाया.’

उन्होंने बताया कि रेलवे सुरक्षा आयुक्त एससीआर के तहत जांच के आदेश दिए गए हैं.

रेल मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा, ‘शुक्रवार तड़के रेलवे ट्रैक पर कुछ मजदूरों के दिखने के बाद मालगाड़ी के लोको पायलट ने ट्रेन रोकने की कोशिश की लेकिन परभनी-मनमाड़ स्टेशनों के बीच बदनापुर और करमाड स्टेशनों के बीच रेलगाड़ी ने मजदूरों को कुचल दिया. घायलों को औरंगाबाद सिविल अस्पताल ले जाया गया. जांच के आदेश दिए गए हैं.’

इस घटना में एक शख्स गंभीर रूप से घायल हुआ है और उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है. रेलवे ट्रैक से दूर सो रहे मजदूर इस घटना में बाल-बाल बच गए.

रेलवे ट्रैक पर मजदूरों के शवों के साथ रोटियां भी बिखरी हुई थीं, जो उन्होंने खाने के लिए अपने पास रखी थीं.

इस घटना पर शोक जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेल दुर्घटना में लोगों के मारे जाने से बहुत दुखी हूं. रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात की है और वह स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं. हरसंभव सहायत उपलब्ध कराई जा रही है.’

वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने औरंगाबाद घटना पर दुख जताते हुए मृतक मजदूरों के परिवार को पांच-पांच  लाख रुपये की राहत राशि देने का ऐलान किया है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘औरंगाबाद में हुए रेल हादसे से ह्रदय पर ऐसा कुठराघात हुआ है कि मैं उसे शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता. संवेदना से मन भर जाता है. प्रदेश सरकार की तरफ से हर एक मृतक श्रमिक के परिजनों को पांच-पांच लाख दिए जाएंगे और घायलों के इलाज की पूरी व्यवस्था की जाएगी.’

मध्य प्रदेश सरकार एक विशेष विमान और टीम औरंगाबाद भेज रही है. यह टीम घायल मजदूरों के उपचार सहित मृतक मजदूरों की समुचित व्यवस्था करेगी.