भारत

ईद: देश के कई हिस्से में काली पट्टी बांधकर मनाया त्योहार, कश्मीर में हिंसक झड़प

हरियाणा के खंदावली गांव के किशोर जुनैद की ईद के दो दिन पहले चलती ट्रेन में पीटकर हत्या कर दी गई थी, जिसके विरोध में गांव वालों ने ईद नहीं मनाई.

2017_6img26_Jun_2017_PTI6_26_2017_000145A

फोटो: पीटीआई

ईद के ठीक पहले भीड़ द्वारा पीटकर मार दिए जुनैद के गांव खंदावली में ईद नहीं मनाई गई. हरियाणा के खंदावली गांव, बल्लभगढ़ के एक 16 वर्षीय युवक की पीटकर हत्या को लेकर मुसलमानों में गुस्सा है. इस गुस्से का इज़हार इस रूप में हुआ कि जुनैद के गांव समेत देश के कई हिस्सों में लोगों ने विरोध स्वरूप हाथ पर काली पट्टी बांध कर नमाज पढ़ी.

जगह-जगह भीड़ की हिंसार को लेकर अनोखे और शांतिपूर्ण अंदाज में विरोध जताया गया. सोशल मीडिया पर चली एक मुहिम के तहत देश भर के कई हिस्सों में मुसलमानों ने हाथ पर काली पट्टी बांधकर नमाज अदा की. इस शांतिपूर्ण प्रदर्शन में कहीं भी न तो लोगों ने एकत्र होकर प्रदर्शन किया, न ही कहीं कोई असुविधा हुई. यह पहली बार है जब लोगों ने ईद के मौक़े पर बांह में काली पट्टी बांधकर शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शित किया.

दूसरी तरफ, कश्मीर घाटी में ईद के मौके पर भी हिंसक प्रदर्शन हुए. घाटी में कई जगहों पर नमाज के बाद पथराव हुए जिसके चलते प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों में झड़प हुई. हिंसा में दो जवानों और करीब 10 प्रदर्शनकारियों के घायल होने की खबर है.

पुलिस ने बताया, ‘अनंतनाग, पुलवामा सोपोर, कुलगाम और पट्टन में झड़पें हुईं, जिसमें 10 प्रदर्शनकारी घायल हो गए. अनंतनाग में पुलिस ने भीड़ को काबू करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘सुरक्षाबल पत्थरबाजों से निपटने के लिए एहतियात बरत रहे हैं.’

श्रीनगर में नमाज़ के बाद लोगों ने प्रदर्शन करते हुए पुलिस पर पथराव किया. इसके अलावा पुलवामा, कुलगाम, शोपियां, बारामुला और अनन्तनाग में भी हिंसा की खबर है. अनंतनाग की जंगलातमंडी में 400 से 500 कट्टरपंथियों ने सीआरपीएफ कैंप पर हमला किया और पत्थरबाजी की.

हालांकि, घाटी में अधिकांश जगहों पर शांति बनी रही. बड़ी संख्या में लोग विशेष नमाज अदा करने के लिए मस्जिदों में एकत्र हुए.

2017_6img26_Jun_2017_PTI6_26_2017_000163B

फोटो: पीटीआई

पूरे देश में उल्लास के साथ ईद मनाई गई. लेकिन पिछले कुछ समय से देश भर में भीड़ द्वारा पीटकर मारने की बढ़ती घटनाओं के विरोध में अनूठा विरोध देखने को मिला. विरोध प्रदर्शित करने का यह अभियान सोशल मीडिया पर चला था. ईद के पहले तमाम युवकों ने काली पट्टी बांधकर ईद मनाने और नमाज अदा करने की अपील की थी. ईद की नमाज के बाद लोगों जगह जगह से काली पट्टी बांधे लोगों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कीं.

मुसलमानों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए कई हिंदुओं ने भी ईद पर काली पट्टी बांधी और भीड़ की हिंसा का विरोध करने की अपील की.

जुनैद के गांव खंदावली समेत पूरे उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान समेत पूरे देश के अलग अलग लोगों ने काली पट्टी बांधकर ईद मनाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कीं और अपील की कि भीड़ की हिंसा का विरोध करें.

पिछले करीब दो वर्षों में अराजक भीड़ ने कई ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया जिसमें सांप्रदायिक कारणों से लोगों की पीट पीटकर हत्या कर दी गई. दादरी के अखलाक, राजस्थान के पहलू खान, खंदावली के जुनैद, कश्मीर के डीएसपी अयूब पंडित, राजस्थान के जफ़र हुसैन को पीटकर मार दिया गया.