भारत

विशाखापत्तनम: एलजी पॉलीमर्स संयंत्र को बंद करने की मांग पर हुआ प्रदर्शन, क्षेत्र में तनाव

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम शहर के पास स्थित प्लास्टिक उत्पाद बनाने वाली एलजी पॉलीमर्स फैक्टरी से बीती सात मई को स्टाइरीन गैस के रिसाव के बाद 12 लोगों की मौत हो गई.

विशाखापत्तनम के आरआर वेंकटपुरम गांव में स्थित एलजी पॉलीमर्स फैक्ट्री के बाहर शनिवार को ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया. (फोटो: पीटीआई)

विशाखापत्तनम के आरआर वेंकटपुरम गांव में स्थित एलजी पॉलीमर्स फैक्ट्री के बाहर शनिवार को ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया. (फोटो: पीटीआई)

विशाखापत्तनम: आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम शहर के निकट आरआर वेंकटपुरम गांव में एलजी पॉलीमर्स को तत्काल बंद करने की मांग करते हुए शनिवार को ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया, जिससे संयंत्र क्षेत्र में तनाव व्याप्त है.

प्रदर्शनकारियों ने गैस रिसाव से मारे गए दो लोगों के शव कारखाने के मुख्य द्वार के सामने रखकर प्रदर्शन किया और कुछ लोग संयंत्र के अंदर तक घुस गए.

इस दौरान प्रदेश के पुलिस महानिदेशक डीजी सवांग गैस रिसाव स्थल का निरीक्षण कर रहे थे और स्थिति सामान्य करने के लिए उठाए जा रहे कदमों पर प्रबंधन से बातचीत कर रहे थे.

ये शव पोस्टमॉर्टम के बाद केजीएच शवगृह से शनिवार को अंतिम संस्कार के लिए गांव लाए जा रहे थे.

हालांकि उग्र ग्रामीणों ने फैक्टरी के गेट के सामने एंबुलेंस रोक दी और शवों को सड़क पर रख दिया.

ग्रामीणों ने कहा कि कारखाने ने यहां के लोगों के जीवन को पूरी तरह बर्बाद कर दिया है, इसलिए इसे तत्काल बंद किया जाए. इस दौरान माहौल पूरी तरह गमगीन था.

प्लास्टिक उत्पाद बनाने वाली इस फैक्टरी से बीती सात मई को स्टाइरीन गैस के रिसाव के बाद 12 लोगों की मौत हो गई.

गैस रिसाव की घटना के बाद सैकड़ों ग्रामीणों को विशाखापत्तनम में ठहराया गया था जो शनिवार सुबह गांव लौट आए. वे फैक्टरी प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे और कारखाने को बंद करने की मांग कर रहे थे.

सुरक्षा कारणों से संयंत्र के पास तैनात पुलिसकर्मियों ने ग्रामीणों को कारखाने के पास जाने से रोकने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा घेरा तोड़ दिया और फैक्टरी के गेट के पास धरने पर बैठ गए.

पुलिस ने शुरुआत में कुछ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया और वहां से ले गई, लेकिन कुछ देर में मौके पर बड़ी संख्या में और ग्रामीण जुट गए.

एक मौका ऐसा आया जब कई ग्रामीण कारखाने के एक छोटे प्रवेश द्वार से उसके अंदर घुस गए और इस दौरान एक महिला को डीजीपी के पैरों में गिरकर संयंत्र को बंद करने की गुहार लगाते हुए देखा गया.

इस बीच विशाखापत्तनम के पुलिस आयुक्त आरके मीणा ने अपने अधिकारियों और जवानों को ग्रामीणों को कारखाने से बाहर निकालने का निर्देश दिया जिसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को बाहर निकाला.