भारत

मध्य प्रदेश: ट्रक पलट जाने से पांच मजदूरों की मौत, 13 घायल

मामला मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले का है. जिलाधिकारी दीपक सक्सेना ने बताया कि आम से लदा ट्रक हैदराबाद से आगरा जा रहा था. इसमें चालक और सहचालक समेत कुल 18 लोग सवार थे.

(फोटो: एएनआई)

(फोटो: एएनआई)

नरसिंहपुर (मध्य प्रदेश): मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के पाठा गांव में पांच मजदूरों की ट्रक के अचानक पलट जाने से मौत हो गई, जबकि 13 अन्य घायल हो गए. दरअसल, यह सभी मजदूर आम से लदे इस ट्रक से तेलंगाना के हैदराबाद से उत्तर प्रदेश में अपने घर जा रहे थे. परंतु पाठा गांव के पास यह ट्रक पलट गया.

अमर उजाला के अनुसार, नरसिंहपुर के जिलाधिकारी दीपक सक्सेना ने बताया कि आम से लदा ट्रक हैदराबाद से आगरा जा रहा था. इसमें चालक और सहचालक समेत कुल 18 लोग सवार थे. इस हादसे में पांच लोगों की मौत हुई है.

सिविल सर्जन डॉक्टर अनिता अग्रवाल ने बताया कि घायलों में से दो लोगों को जबलपुर रेफर किया गया है.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी ने बताया कि शनिवार रात करीब साढे 10 बजे हुए इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है तथा 13 अन्य लोग घायल हो गए, जिन्हें नरसिंहपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

इनमें से एक को सिर में चोट है, जबकि दूसरे को जबड़े में फ्रैक्चर है. घायलों में दो लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है, जबकि इनके अलावा अन्य सभी हालत स्थिर है. इनमें से एक शख्स को बीते तीन दिन से कफ, जुकाम और बुखार शिकायत है. ऐसे में मृतकों समेत सभी लोगों के नमूने लिए जा रहे हैं.

तिवारी ने बताया कि मजदूरों को आमों से भरे ट्रक में ले जाया जा रहा था. उन्होंने कहा कि मामले की विस्तृत जांच जारी है.

इस हादसे को लेकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ‘नरसिंहपुर में ट्रक पलटने से हुए हादसे में कई अनमोल जिंदगियों के असमय काल कवलित और घायल होने के समाचार से अत्यंत दुःखी हूं. ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को संबल प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं. विनम्र श्रद्धांजलि!’

उन्होंने कहा, ‘घायलों के समुचित इलाज एवं अन्य व्यवस्थाओं के लिए मौके पर प्रशासन के उच्च अधिकारी उपस्थित हैं. मैं ईश्वर से घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की करबद्ध प्रार्थना करता हूं.’

बता दें कि, इस घटना से एक दिन पहले ही महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में शुक्रवार तड़के एक मालगाड़ी की चपेट में आने से मध्य प्रदेश के 16 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी. इनमें से 14 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दो ने बाद में दम तोड़ दिया था.

ये प्रवासी मजदूर अपने गृहराज्य मध्य प्रदेश लौटने के लिए श्रमिक विशेष ट्रेन में सवार होने के लिए महाराष्ट्र के जालना से भुसावल जा रहे थे कि वे थककर रेल की पटरियों पर ही सो गए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)