भारत

लॉकडाउन: मध्य प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों का एक और ट्रक पलटा, छह की मौत

यह हादसा मध्य प्रदेश के सागर ज़िले में हुआ. शनिवार सुबह ही उत्तर प्रदेश के औरैया ज़िले में ट्रक और डीसीएम की टक्कर में 24 लोगों की मौत हो गई थी.

Thane: Migrants from various northern states board a truck at the Mumbai-Nashik highway to reach their native places, during the ongoing COVID-19 nationwide lockdown, in Thane, Monday, May 11, 2020. (PTI Photo/Mitesh Bhuvad)(PTI11-05-2020_000276B)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

सागर (मध्य प्रदेश): मध्य प्रदेश में सागर जिला मुख्यालय से लगभग 70 किलोमीटर दूर सागर-कानपुर राष्ट्रीय राजमार्ग-86 पर प्रवासी श्रमिकों को महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश ले जा रहा एक ट्रक शनिवार सुबह पलट गया जिससे छह श्रमिकों की मौत हो गई और 16 अन्य घायल हो गए.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीण भूरिया ने बताया कि यह घटना शनिवार सुबह करीब 10 बजे हुई. छानबीला थाना क्षेत्र में सागर-कानपुर मार्ग पर सेमरा पुल के पास प्रवासी श्रमिकों को ले जा रहा ट्रक पलट गया. इस हादसे में छह श्रमिक मारे गए और 16 अन्य घायल हो गए. घायलों को उपचार के लिए बंडा के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

भूरिया ने बताया कि मृतकों में चार महिलाएं और दो पुरुष शामिल हैं. ये श्रमिक उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में जा रहे थे.

एएसपी ने बताया कि ट्रक में कपड़ों के बंडल लदे थे जिस पर ये प्रवासी श्रमिक बैठे थे.

उन्होंने बताया कि मृतकों के बारे में और जानकारी एकत्रित की जा रही है तथा पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही है.

एनडीटीवी के अनुसार, हादसे के बाद घटनास्थल की तस्वीरें बहुत ही हृदयविदारक थीं, जहां मां के शव के पास बच्चे रोते और बिलखते हुए दिखाई दिए.

मालूम हो कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूर अपने गृह राज्यों की ओर पलायन करने को मजबूर हैं और लगातार इस तरह की मौतों की खबरें आ रहीं हैं.

शनिवार तड़के हुए एक हादसे में उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में ट्रक और डीसीएम वैन की टक्कर में 24 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 37 मजदूर घायल हो गए. इनमें से गंभीर रूप से घायल 14 मजदूरों को सैफई (इटावा) के पीजीआई में भर्ती कराया गया है.

बीते गुरुवार को उत्तर प्रदेश के जालौन और बहराइच में दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में तीन प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी, जबकि 71 अन्य घायल हो गए थे.

वहीं, बुधवार और गुरुवार को तीन अलग-अलग हादसों में 15 मजदूरों की मौत हो गई थी. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक बस से कुचलकर छह प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई, जबकि चित्रकूट में ट्रक की टक्कर से एक मजदूर की मौत हो गई. मध्य प्रदेश में बस की टक्कर से ट्रक में सवार आठ प्रवासी श्रमिकों की मौत हो गई. इन हादसों में 60 से अधिक प्रवासी मजदूर घायल हो गए थे.

इससे पहले 10 मई को हैदराबाद से आम से लदे ट्रक पर सवार होकर यूपी लौट रहे छह प्रवासी मजदूरों की मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर के पास मौत हो गई थी. वहीं 9 मई की सुबह मध्य प्रदेश के शहडोल और उमरिया जिलों के 16 प्रवासी श्रमिकों की मालगाड़ी से कटकर उस वक्त मौत हो गई थी जब वे औरंगाबाद के पास एक रेलवे ट्रैक पर सो रहे थे.

हाल ही में जारी एक अध्ययन रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते 19 मार्च से लेकर 8 मई के बीच 350 से अधिक लोगों की जान गई है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)