भारत

देश में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 5,000 से अधिक मामले दर्ज

देश में बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 96,169 हो गए हैं, जबकि मृतकों की संख्या बढ़कर तीन हज़ार से अधिक हो गई है.

(फोटोः पीटीआईः

(फोटोः पीटीआईः

नई दिल्लीः देश में एक दिन में कोरोना वायरस के सर्वाधिक 5,242 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 96,169 हो गए हैं, जबकि मृतकों की संख्या बढ़कर 3,029 हो गई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोना के सक्रिय मामले 56,316 हैं जबकि देश में फिलहाल कोरोना से 36,824 लोग ठीक हो गए हैं.

सोमवार सुबह तक कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की दर 38.29 फीसदी रही.

महाराष्ट्र में अब तक कोरोना के सर्वाधिक मामले सामने आए हैं. यहां कोरोना के मामले 33,000 का आंकड़ा पार कर गए हैं.

दिल्ली में कोरोना के मामले 10,000 का आंकड़ा पार कर चुके हैं, जिनमें से 721 मामले बीते 24 घंटों में ही सामने आए हैं. दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) ने लॉकडाउन के बीच रेल यात्रियों के लिए बस शटल सेवा शुरू कर दी है.

बीते 24 घंटों में तमिलनाडु में कोरोना के 639 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद राज्य में कुल मामले बढ़कर 11,224 हो गए हैं.

असम में कोरोना के कुल मामले 100 हो गए हैं जिनमें से पांच गुवाहाटी से हैं.

इस बीच देश में आज से लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू हो गया है जो 31 मई तक जारी रहेगा. इस दौरान गैर-कंटेनमेंट जोन में थोड़ी ढील दी गई है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भारत सरकार और राज्य सरकार के मंत्रालयों/विभागों के लिए विभिन्न दिशानिर्देश जारी किया है. 31 मई तक देश में सभी सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, जिम, स्विमिंग पूल, इंटरटेनमेंट पार्क, थियेटर, बार और ऑडिटोरियम बंद रहेंगे.

लॉकडाउन के दौरान रात का कर्फ्यू सात बजे शाम से सुबह सात बजे तक जारी रहेगा. राज्य सरकारों को अधिकार दिया गया है कि वे अपने प्रदेश में रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन घोषित करने पर निर्णय लें.

इसके अलावा मेट्रो और रेल सेवाएं भी नहीं चलेंगी. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर पाबंदी जारी रहेगी. वहीं राज्यों के बीच आपसी सहमति से बसों की सेवाएं शुरू हो सकती हैं.

स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थान पहले की तरह बंद रहेंगे.

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़कर 47 लाख से ज्यादा हो गए हैं जबकि मृतकों की संख्या बढ़कर 3.15 लाख से अधिक हो गई है जिनमें से लगभग 90,000 मौतें अकेले अमेरिका में हुई हैं.