भारत

उत्तर प्रदेश में दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच प्रवासी मजदूरों की मौत

एक दुर्घटना मिर्जापुर के लालगंज थाना क्षेत्र में हुई, जिसमें महाराष्ट्र से बिहार जा रहे तीन मजदूरों की मौत हुई. दूसरा हादसा बुलंदशहर जिले में हुआ, जिसमें गुजरात से बिजनौर जा रहे दो श्रमिकों की मौत हो गई.

Thane: Migrants from northern states wait to take a lift in cargo vehicles along the Mumbai-Nashik highway to reach their native places, during the ongoing COVID-19 lockdown, in Thane, Tuesday, May 19, 2020. (PTI Photo/Mitesh Bhuvad)(PTI19-05-2020 000017B)

(प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

मिर्जापुर में हुई घटना के संबंध में पुलिस अधीक्षक धरमवीर सिंह ने बताया कि गोपालगंज (बिहार) के सात लोग मुंबई से आ रहे थे कि इसी दौरान बसही गांव में एक ट्रक ने उनके वाहन को टक्कर मार दी जिससे दो प्रवासियों की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि एक अन्य ने अस्पताल में दम तोड़ दिया.

उन्होंने बताया कि मृतकों के नाम राजू सिंह (26), सौरव कुमार (23) और अमित सिंह (26) है. ये सभी बिहार के गोपालगंज जिले के रहने वाले हैं. इस घटना में एक व्यक्ति घायल हुआ है.

सिंह ने बताया कि ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है. मामला दर्ज कर जांच की जा रही है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस हादसे पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. साथ ही उन्होंने घायल के समुचित उपचार का निर्देश भी दिया.

एनडीटीवी के मुताबिक एक अन्य घटना शुक्रवार सुबह दिल्ली से 102 किमी दूर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में घटी जिसमें दो प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई. ये मजदूर गुजरात के सूरत से यूपी के बिजनौर जा रहे थे.

 

बता दें कि कोरोना वायरस के मद्देनज़र लागू लॉकडाउन की वजह से शहरों से गांवों की ओर पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की देश के विभिन्न हिस्सों से सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाने की खबरें लगातार आ रही हैं.

हाल ही में एक रिपोर्ट में बताया गया था कि 25 मार्च को लॉकडाउन शुरू होने के बाद से 18 मई सुबह 11 बजे तक सड़क दुर्घटनाओं में 423 लोगों की मौत हो गई और 833 घायल हो गए थे.

देश में सड़क हादसों में कमी लाने पर काम कर रहे गैर-लाभकारी संगठन सेव लाइफ फाउंडेशन के अनुसार 25 मार्च को लॉकडाउन शुरू होने के बाद से 18 मई सुबह 11 बजे तक लगभग 1,236 सड़क दुर्घटनाएं हुई थी, जिनमें 423 लोगों की मौत हुई और 833 लोग घायल हुए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)