भारत

मशहूर ज्योति​षी बेजान दारूवाला का निधन

ऐसी ख़बरें थीं कि बेजान दारूवाला की मौत कोरोना वायरस से हुई, लेकिन उनके बेटे नस्तूर दारूवाला ने बताया कि उनकी मौत कोरोना वायरस से नहीं हुई, बल्कि निमोनिया से हुई.

बेजान दारूवाला. (फोटो साभार: ट्विटर/@jbhagwagar)

बेजान दारूवाला. (फोटो साभार: ट्विटर/@jbhagwagar)

अहमदाबाद: मशहूर ज्योतिषी बेजान दारूवाला का निधन हो गया. वह 89 वर्ष के थे. उन्होंने गुजरात के अहमदाबाद स्थिति एक निजी अस्पताल में बीते शुक्रवार 29 मई को अंतिम सांस ली.

पिछले कुछ दिनों से वह निमोनिया और ब्रेन हाइपोक्सिया (दिमाग को पर्याप्त ऑक्सीजन न मिल पाना) से पीड़ित थे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, दो दिन पहले उनकी हालत ज्यादा बिगड़ गई तो उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. उनके परिवार में दो बेटे- नस्तूर एवं फरदून और बेटी नाज़रीन हैं.

ऐसी ख़बरें थीं कि उनकी मौत कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से हुई है, लेकिन परिवारवालों ने इस बात से इनकार किया है.

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में उनके बेटे नस्तूर दारूवाला ने बताया कि उनकी मौत कोरोना वायरस से नहीं हुई, बल्कि निमोनिया से हुई. दिमाग में ऑक्सीजन की सप्लाई न हो पाना उनकी मौत का कारण बना.

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उनके बेटे नस्तूर दारूवाला ने बताया, ‘वह एक योद्धा थे और अंतिम सांस तक लड़ते रहे. उन्होंने भविष्यवाणी की थी कि कोरोना वायरस जल्द ही चला जाएगा. भारत अपनी गरीबी और बेरोजगारी के बावजूद फिर से उठा खड़ा होगा. अगला साल भारत के लिए सर्वश्रेष्ठ साल होगा और देश जल्द ही महाशक्ति के रूप में उभरेगा.’

बेजान दारूवाला का जन्म 11 जुलाई 1931 को हुआ था. एक पारसी परिवार में जन्म लेने के बावजूद वह भगवान गणेश के भक्त थे. वह अहमदाबाद में अंग्रेजी के प्रोफेसर भी रहे चुके थे.

उनकी ज्योतिष तकनीक में वैदिक ज्योतिष, पश्चिमी ज्योतिष, आई-चिंग, टैरो कार्ड, अंक ज्योतिष, कबला और हस्तरेखा विज्ञान का संयोजन होता था.

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. एक ट्वीट में उन्होंने कहा है, ‘मशहूर ज्योतिषी श्री बेजान दारूवाला की अचानक मौत से दुखी हूं. मैं उनके लिए प्रार्थना करता हूं. मेरी संवेदनाएं. ओम शांति.’

उनकी वेबसाइट के अनुसार, बेजान दारूवाला ने 29 मार्च 2012 को अहमदाबाद के कनोरिया कला केंद्र में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी की थी.

वेबसाइट के अनुसार, उनके लेख और भविष्यवाणियां- द संडे टाइम्स ऑफ इंडिया (मुंबई, कोलकाता, दिल्ली, चेन्नई), टेलीग्राफ (कोलकाता), नवहिंद टाइम्स (गोवा), डेल एनुअल हॉरोस्कोप (न्यूयॉर्क), न्यूज इंडिया (न्यूयॉर्क), बर्कली कम्युनिकेशंस (लंदन) में प्रकाशित हुआ करती थीं.