भारत

‘मुझे उन ट्वीट्स के चलते नौकरी से निकाला गया, जो मैंने किए ही नहीं थे’

बीते दिनों गो एयर द्वारा उनके एक पायलट को यह कहते हुए नौकरी से निकाल दिया गया कि उन्होंने ट्विटर पर हिंदू भगवानों को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. नौकरी से निकाले गए कर्मचारी का कहना है कि वह ट्विटर एकाउंट उनका नहीं है और कंपनी ने बिना उनका पक्ष जाने यह निर्णय लिया है.

(फोटो साभार: आसिफ खान/रॉयटर्स)

(फोटो साभार: आसिफ खान/रॉयटर्स)

बीते दिनों हवाई सेवा प्रदाता कंपनी गो एयर ने ट्विटर पर एक बयान जारी करके अपने एक कर्मचारी आसिफ खान को नौकरी से निकाल दिया. उनका कहना था कि ट्विटर पर हुए एक आपत्तिजनक टिप्पणी के चलते हुए विवाद के बाद यह फैसला लिया गया है.

हालांकि नौकरी से हटाए गए आसिफ खान का कहना है कि जिन विवादित पोस्ट्स की बात की जा रही है, वे उनके एकाउंट से किए ही नहीं गए हैं. उनके ही नाम के किसी और शख्स के प्रोफाइल से वे ट्वीट्स किए गए हैं.

उनका कहना है कि उस शख्स ने अपने एकाउंट में खुद को गो एयर कंपनी के केबिन क्रू का सदस्य बताया गया था और शायद वहीं से यह गलतफहमी हुई कि वह कर्मचारी मैं हूं और मुझ पर कार्रवाई की गई.

मामला बीते 2 जून और 3 जून को तब शुरू हुआ, जब ट्विटर पर आसिफ खान (@MohdAsif 35534489) नाम के एक एकाउंट से हिंदू धर्म और सीता पर आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं. इसके बाद सोशल मीडिया पर इस एकाउंट के खिलाफ लोगों में काफी गुस्सा देखने को मिला.

लोगों के इस व्यक्ति की पहचान गो एयर के कर्मचारी के रूप में किए जाने के बाद कंपनी की आलोचना करते हुए उनसे जवाबदेही की मांग की जाने लगी. लोगों ने #BoycottGoAir हैशटैग भी चलाया, जिसके बाद गो एयर ने एक बयान जारी कर आसिफ खान को नौकरी से निकाल दिया.

गो एयर ने कहा है कि वो किसी भी व्यक्ति या कर्मचारी के निजी विचारों से सहमति नहीं रखते हैं और आसिफ खान को तत्काल प्रभाव से कंपनी से हटाया जा रहा है.

इस बीच जिस एकाउंट से ये पोस्ट की गई थीं, उसे सस्पेंड कर दिया गया. हालांकि जिन आसिफ खान को नौकरी से निकाला गया है, उनका एकाउंट अभी भी मौजूद है.

आसिफ कहते हैं कि उनके द्वारा ट्विटर पर कोई भी पोस्ट नहीं किया गया था. उनके एकाउंट में उनकी तस्वीर है और डिस्क्रिप्शन में पायलट लिखा हुआ है. आसिफ की शिकायत है कि कंपनी ने उनका पक्ष सुने बिना, पूरी स्थिति को जाने बगैर ही ही उन्हें नौकरी से निकाल दिया.

आसिफ ने फेसबुक पर लिखी एक पोस्ट में अपना पक्ष बताया और कहा कि इस घटना के बाद से उन्हें सोशल मीडिया पर बहुत धमकियां मिली हैं, मेरी मां और बहन से रेप करने जैसी बातें कही जा रही हैं.

आसिफ लिखते हैं, ‘मेरा नाम आसिफ खान है और मैं मुंबई का रहने वाला हूं. मैं गो एयर में ट्रेनी फर्स्ट ऑफिसर के रूप में कार्यरत हूं. मैंने इस नौकरी के लिए बहुत संघर्ष किया है. मैंने 6 साल तक संघर्ष के बाद इस बड़ी कंपनी में नौकरी पिछले साल दिसंबर में पाई. ये मेरी पहली ड्रीम जॉब है और मेरे लिए बहुत मायने रखती है. लेकिन कल एक फोन कॉल ने सब बदल दिया.’

आसिफ बताते हैं कि को कंपनी के कुछ सीनियर अधिकारियों ने उन्हें ने फोन करके इस बारे में जानकारी दी थी. वे लिखते हैं, ‘4 जून मेरे कुछ सीनियर्स ने फोन करके मेरे ट्विटर एकाउंट के बारे में मुझसे पूछताछ की, जिसके बाद मैंने ट्विटर चेक किया तो पाया #BoycottGoair ट्रेंड कर रहा था. मैंने पाया मेरे ही नाम के एक शख्स ने हिंदू भगवानों के बारे में अपशब्द लिखे थे. इस व्यक्ति की प्रोफाइल में लिखा था कि वो गो एयर में केबिन क्रू के तौर पर काम करता है. लेकिन उसकी प्रोफाइल फोटो देखकर कोई भी बता सकता है कि ये मेरी तस्वीर नहीं है बल्कि कोई और शख्स है.’

आसिफ ने लिखा है कि उनकी पहचान को किसी और व्यक्ति से कंफ्यूज किया जा रहा है, जिसका खामियाज़ा उन्हें और उनके परिवार को भुगतना पड़ रहा है. मां और बहन को रेप की भी धमकियां दी गई हैं. नफरत भरे कमेंट्स और मैसेज मिल रहे हैं.

आसिफ इसके बाद बताते हैं कि ये बात सिर्फ ट्विटर तक नहीं सीमित थी बल्कि इस बारे में यूट्यूब पर वीडियो भी बनने लगे. उन्होंने बताया, ‘मेरे भाई को गो एयर के केबिन क्रू में काम करने वाली एक दोस्त ने एक वीडियो का लिंक भेजा था. वह जानना चाहती थी कि मेरा भाई क्या वीडियो में दिख रहे इस शख्स को जानता है क्योंकि उस प्रोफाइल में मेरा भाई भी फ्रेंड लिस्ट दिखाई दिया था. मुझे तब अंदाज़ा हुआ कि ये बात बहुत बढ़ गई है.’

आसिफ ने इस वीडियो के बारे में बताया, ‘इस वीडियो को बजिंग ट्रेंड्स ऑफिशियल नाम के चैनल ने लगाया था और उस शख्स ने मुझे इन ट्ववीट्स के लिए ज़िम्मेदार ठहराया और साथ ही वीडियो में मेरे कई सारे फोटो भी लगा दिए जो मेरे फेसबुक एकाउंट से लिए गए थे. साथ ही इस वीडियो में उस दूसरे एकाउंट की भी तस्वीर लगाईं थी. पर दोनों तस्वीरों की तुलना करने पर आसानी से पता लगता है कि ये मैं नहीं हूं.’

उन्होंने आगे लिखा, ‘हमने वीडियो के कमेंट सेक्शन में इसकी शिकायत की और चैनल के मालिक ने गलती स्वीकारते हुए इस वीडियो को हटा लिया.’ आसिफ इस मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज करा चुके हैं और इंसाफ की उम्मीद करते हैं.

आसिफ बताया, ‘मैंने स्थानीय पुलिस स्टेशन और साइबर सेल में इसकी शिकायत दर्ज कराई है. मेरा कभी भी कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं रहा है और न ही मैं कभी इस तरह की हरकत कर सकता हूं. मैं हर धर्म की इज्जत करता हूं और इस बात की पुष्टि वो हर शख्स कर सकता है जो मुझे जानता है. जो भी कमेंट उस एकाउंट से किए गए हैं वो न तो मेरे हैं और न ही मेरी कंपनी के.’

आसिफ इस मामले में निष्पक्षीय जांच की उम्मीद कर रहे हैं. वे कहते हैं, ‘मैं चाहता हूं कि इस पूरी घटना की जांच हो. इसने मेरे परिवार, मेरे बीमार पिता के सामने बड़ा संकट लेकर खड़ा कर दिया है. मैं न्यायिक व्यवस्था और अपनी कंपनी पर विश्वास रखता हूं और उम्मीद करता हूं कि वो इसे समझेंगे और इस मसले को हल करेंगे. मैं जांच में हर तरह की मदद देने के लिए तैयार हूं.’

द वायर  से बात करते हुए ने आसिफ से बताया, ‘जबसे गो एयर से फोन आया है, तब से पुलिस स्टेशन के चक्कर काट रहे हैं. उम्मीद है कि मेरी बात समझी जाएगी. मैंने अपनी सारी बात फेसबुक पर बयान जारी कर बताई है.’

वे आगे कहते हैं, ‘मेरा ट्विटर एकाउंट @faroutasif के नाम से है. मैंने अपने अधिकारियों को बताया कि मैंने उससे आखिरी पोस्ट 2019 में किया था. इसके बाद मैंने ट्विटर पर देखा और पता चला कि कोई और शख्स भी है, जिसका नाम आसिफ खान है. लेकिन उसका ट्विटर हैंडल अलग है, प्रोफाइल फोटो अलग है और डिस्क्रिप्शन में केबिन क्रू लिखा है, जबकि मैं तो पायलट हूं.’

आसिफ कहते हैं, ‘मैंने अपनी नौकरी खो दी है और इसमें मेरी कोई गलती भी नहीं है. मैं इस मामले में एफआईआर कर रहा हूं. मुझे डर है कि इसमें खुद को साबित करते-करते बहुत देर हो जाएगी.’

आसिफ का डर गलत नहीं है. यूट्यूब पर आया वीडियो तो उन्होंने हटवा लिया लेकिन इस बीच कई मीडिया संस्थानों ने बिना इस मामले की पड़ताल किए इस बारे में खबर चलाई हैं.

द वायर  की ओर से गो एयर का पक्ष जानने के लिए उनके एचआर विभाग के आसिफ चौधरी से बात की गई, उन्होंने आसिफ खान को नौकरी से निकालने की बात स्वीकारी पर कहा कि अब कंपनी का जो पक्ष होगा, वो बता दिया जाएगा.

कंपनी के प्रशासनिक पदाधिकारियों से भी संपर्क की कोशिश की गई, कई कॉल्स किए गए, लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला. उन्हें ईमेल से कुछ सवाल भेजे गए हैं, जिनका अब तक जवाब नहीं आया है. जवाब आने पर खबर में जोड़ा जाएगा.