भारत

31 जुलाई तक दिल्ली में कोरोना के करीब 5.5 लाख मामले होंगे, 80,000 बेड्स की जरूरत पड़ेगी: सिसोदिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार के अधिकारियों ने बताया है कि दिल्ली में अभी सामुदायिक संक्रमण नहीं हो रहा है.

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (फोटो: पीटीआई)

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि 31 जुलाई तक राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना संक्रमण के 5.5 लाख मामले हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि इसके लिए 80,000 बेड्स की जरूरत पड़ेगी.

कोविड-19 को लेकर मंगलवार को राज्य आपदा प्रबंधन अथॉरिटी की हुई बैठक के बाद सिसोदिया ने ये बात कही. इस बैठक में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी मौजूद थे.

सिसोदिया ने कहा, ’15 जून तक दिल्ली में 44,000 मामले हो जाएंगे और 6,600 बेड्स की जरूरत पड़ेगी. 30 जून तक कोरोना संक्रमण का मामला एक लाख तक पहुंच सकता है और इसके लिए 15,000 बेड्स की जरूरत होगी. 15 जुलाई तक ये संख्या 2.25 लाख तक पहुंच जाएगी और 33,000 बेड्स की जरूरत पड़ेगी.’

हालांकि उपमुख्यमंत्री ने ये स्पष्ट जानकारी नहीं दी कि दिल्ली में सामुदायिक संक्रमण हो रहा है या नहीं. उन्होंने कहा, ‘इस बैठक में केंद्र सरकार के कर्मचारी भी मौजूद थे और उन्होंने कहा कि अभी तक तो सामुदायिक संक्रमण नहीं है, इसलिए इस पर चर्चा की जरूरत नहीं है.’

मालूम हो कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में काफी तेजी से वृद्धि हुई है. दिल्ली सरकार की हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक दिल्ली में कोरोना संक्रमण का मामला 30,000 के करीब पहुंच गया है, जिसमें से 874 लोगों की मौत हो चुकी है.

अब तक कुल 11,357 लोग ठीक हुए हैं और 17,712 सक्रिय मामले हैं. दिल्ली सरकार ने प्रति 10 लाख लोगों पर 12,658 लोगों की जांच की है.

हालांकि पिछले कुछ दिनों में टेस्ट करने की रफ्तार में काफी गिरावट आई है, जबकि संक्रमण के मामलों में वृद्धि ही हो रही है. इस समय दिल्ली सरकार एक दिन में करीब 3700 लोगों का टेस्ट कर रही है जबकि 29 मई के आंकड़ों के मुताबिक सरकार ने 7,649 टेस्ट किए थे.