दुनिया

कोरोना वायरस: भारत में मृतक संख्या 14 हज़ार के पार, विश्व में 4.72 लाख से अधिक की मौत

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि ज़्यादा आबादी वाले देशों में कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने के कारण रोज़ाना रिकॉर्ड संख्या में मामले सामने आ रहे हैं और यह वायरस की वैश्विक गतिविधि में बदलाव को दर्शाता हैं.

कोरोना वायरस के मद्देनजर दिल्ली में कीटनाशक का छिड़काव करते दलकल विभाग के कर्मचारी. (फोटो: पीटीआई)

कोरोना वायरस के मद्देनजर दिल्ली में कीटनाशक का छिड़काव करते दलकल विभाग के कर्मचारी. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली/जिनेवा: मंगलवार सुबह बीते 24 घंटे के दौरान देश में कोरोना वायरस संक्रमण के 14,933 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 440,215 हो गई है. वहीं, 312 और लोगों की मौत के साथ ही मृतक संख्या 14,011 पर पहुंच गई.

इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि ज्यादा आबादी वाले देशों में संक्रमण के फैलने के कारण रोजाना रिकॉर्ड संख्या में मामले सामने आ रहे हैं और यह वायरस की वैश्विक गतिविधि में बदलाव को दर्शाता है.

भारत में संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. एक दिन या 24 घंटे में संक्रमण नए मामलों की बात करें तो बीते 22 जून को 14,821 नए मामले सामने आए थे.

बीते 21 जून को 15,413 नए मामले सामने आए, जो एक दिन में दर्ज सर्वाधिक आंकड़ा है. इस दिन पहली बार नए मामलों की संख्या ने 15 हजार का आंकड़ा पार किया था.

20 जून को इनकी संख्या रिकॉर्ड 14,516 थी. 19 जून को रिकॉर्ड 13,586 थी. बीते 18 जून को बीते 24 घंटे के दौरान रिकॉर्ड 12,881 मामले दर्ज किए गए थे.

इस तरह 18 जून को नए मामलों की संख्या ने 12 हजार का आंकड़ा पार किया था और हर दिन रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज करते हुए 21 जून को चार दिन में रिकॉर्ड 15 हजार का आंकड़ा पार हो गया था. इतना ही नहीं 20 जून के बाद से यह लगातार चौथा दिन है, जब नए मामलों की संख्या 14 हजार से अधिक रही है.

अब एक दिन या 24 घंटे में कोरोना वायरस से मरने वालों की बात करें तो 22 जून को कुल 445 लोगों की मौत हुई थी, जो अब तक सर्वाधिक आंकड़ा है. इससे पहले 12 जून को ऐसा पहली बार हुआ था जब एक दिन में मरने वालों की संख्या 400 के करीब यानी 396 हो गई थी.

इसी तरह 21 जून को 306 लोगों की मौत हुई थी. 20 जून को 375 लोगों की मौत हुई थी. 19 जून को 336 लोगों की जान गई थी. 18 जून को यह आंकड़ा 334 लोगों का था.

17 जून को यह आंकड़ा 2,003 था. हालांकि इसमें अचानक वृद्धि महाराष्ट्र और दिल्ली द्वारा अपने यहां मौत के आंकड़ों में संशोधन किए जाने की वजह से हुई. महाराष्ट्र ने अपने यहां मौत के आंकड़ों में 1,300 से अधिक और दिल्ली ने 400 से अधिक मौतों को शामिल किया था, जो जून और उससे पहले के महीनों में मारे गए थे. इस तरह से 17 जून को भी 300 से अधिक लोगों की मौत दर्ज हुई.

इससे पहले 16 जून को 24 घंटे में 380 लोगों की मौत, 15 जून को 325, 14 जून को 311, 13 जून को दौरान 386 और 11 जून को 357 लोगों की मौत दर्ज की गई थी. 11 जून को मरने वालों की संख्या पहली बार 300 के आंकड़े को पार कर गई थी. इस तरह से यह लगातार 13वां दिन है, जब बीते 24 घंटे के दौरान मरने वालों की संख्या 300 से अधिक रही है.

बहरहाल मंगलवार का जारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में एक जून से संक्रमण के अब तक 249,680 मामले बढ़े हैं, जिसमें कुल मामलें में से 70 प्रतिशत महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, गुजरात और गुजरात से हैं.

स्वस्थ होने की दर में भी सुधार देखा गया और अब तक कुल 248,189 मरीज संक्रमण से उबर चुके हैं. मंगलवार सुबह आठ बजे तक अद्यतन डेटा के मुताबिक कुल 178,014 लोग अब भी संक्रमित हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के कुल 10,994 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जिससे कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर 56.38 प्रतिशत हो गई है.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक, 22 जून तक कुल 7,135,716 नमूनों की जांच की गई है जिसमें से 187,223 नमूनों की सोमवार को जांच की गई.

मंगलवार सुबह तक जिन 312 लोगों की मौत हुई, उनमें से 113 महाराष्ट्र से, 58 दिल्ली से, 37 तमिलनाडु से, 21 गुजरात से शामिल थे.

इनमें से 19 उत्तर प्रदेश से, 14 पश्चिम बंगाल से, नौ हरियाणा से, सात-सात लोग राजस्थान और तेलंगाना से, छह मध्य प्रदेश से, पांच-पांच लोग आंध्र प्रदेश और कर्नाटक से, तीन जम्मू कश्मीर से, दो-दो लोग बिहार और पंजाब से तथा एक-एक व्यक्ति छत्तीसगढ़, गोवा, ओडिशा और झारखंड से थे.

अमेरिका, ब्राजील और रूस के बाद भारत वैश्विक महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित चौथा देश है.

विश्व भर से कोविड-19 के संबंध में डेटा जुटा रही अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक मृतक संख्या के लिहाज से भारत विश्व में आठवें नंबर पर है.

अब तक हुई 14,011 मौतों में से सबसे अधिक 6,283 मौत महाराष्ट्र में हुई है. इसके बाद दिल्ली में 2,233, गुजरात में 1,684, तमिलनाडु में 794 लोगों की मौत हुई है.

इसके बाद पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश में 569-569, मध्य प्रदेश में 521, राजस्थान में 356 और तेलंगाना में 217 लोगों की मौत हुई है.

हरियाणा में मृतक संख्या 169, कर्नाटक में 142, आंध्र प्रदेश में 111, पंजाब में 101, जम्मू कश्मीर में 85, बिहार में 55, उत्तराखंड में 28, केरल में 21 और ओडिशा में 15 है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में 12 लोगों की मौत हुई है जबकि झारखंड में 11, असम में नौ, हिमाचल प्रदेश और पुदुचेरी में आठ-आठ, चंडीगढ़ में छह, मेघालय, त्रिपुरा और लद्दाख में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है.

मंत्रालय ने कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मौतें मरीज को अन्य गंभीर बीमारियां होने के चलते हुई हैं.

संक्रमण के सर्वाधिक 135,796 मामले महाराष्ट्र में हैं. इसके बाद दिल्ली में 62,655 तमिलनाडु में 62,087, गुजरात में 27,825, उत्तर प्रदेश में 18,322, राजस्थान में 15,232 और पश्चिम बंगाल में 14,368 मामले सामने आए हैं.

मध्य प्रदेश में कोविड-19 के मामले 12,078 हो गए हैं, जबकि हरियाणा में 11,025, कर्नाटक में 9,399 मामले, आंध्र प्रदेश में 9,372 और तेलंगाना में 8,674 मामले हैं.

वहीं, बिहार में मामले बढ़कर 7,825, जम्मू-कश्मीर में 6,088, असम में 5,586 और ओडिशा में 5,303 हो गए हैं. पंजाब में कोरोना संक्रमण के 4,235 जबकि केरल में 3,310 मामले हैं.

उत्तराखंड में संक्रमण कुल 2,402 मामले हैं, जबकि छत्तीसगढ़ में 2,303, झारखंड में 2,137, त्रिपुरा में 1,237, मणिपुर में 898, गोवा में 864, लद्दाख में 847 और हिमाचल प्रदेश में 727 मामले हैं.

चंडीगढ़ में कोविड-19 के 411, पुदुचेरी में 383, नगालैंड में 280, मिजोरम में 141 और अरुणाचल प्रदेश में 139 मामले हैं.

दादरा और नगर हवेली तथा दमन एवं दीव में कोविड-19 के कुल 91 मामले हैं.

वहीं सिक्किम में अब तक कोरोना संक्रमण के 78, अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह में 48 मामले हैं जबकि मेघालय में 44 मामले हैं.

आबादी वाले देशों में संक्रमण फैलने से रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं: डब्ल्यूएचओ

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि ज्यादा आबादी वाले देशों में कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने के कारण रोजाना रिकॉर्ड संख्या में मामले सामने आ रहे हैं और यह वायरस की वैश्विक गतिविधि में बदलाव को दर्शाता हैं.

संगठन के आपात स्थिति के प्रमुख माइकल रायन ने सोमवार को मीडिया को बताया कि मामले इस लिए बढ़ रहे है, क्योंकि महामारी एक ही समय पर कई ज्यादा आबादी वाले देशों में फैल रही है.

रायन ने इस बात को भी खारिज किया कि ज्यादा जांच करने से मामले बढ़ रहे हैं.

गौरतलब है कि भारत और अमेरिका समेत कुछ देशों ने संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी का कारण अधिक जांच करने को बताया है.

उन्होंने कहा, ‘हम नहीं मानते हैं कि यह जांच करने की वजह से हो रहा है.’

रायन ने यह भी कहा कि कई देशों में अस्पताल में भर्ती किए जाने वाले मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है और मृतकों के आंकड़ों में इजाफा हुआ है.

उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से वायरस ने अपने पैर जमा लिए हैं. महामारी कई बड़े देशों में बढ़ रही है.

रायन ने यह भी कहा कि अमेरिका, अन्य दक्षिण एशिया, पश्चिम एशिया और अफ्रीका में हालात खराब हो रहे हैं.

पूरी दुनिया में अब तक 4.72 लाख से अधिक लोगों की मौत

अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, पूरी दुनिया में यह महामारी 472,683 लोगों की जान ले चुकी है और संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 9,124,193 हो गए हैं. अमेरिका संक्रमण के 2,312,302 मामलों के साथ सबसे अधिक प्रभावित देश है. यहां मरने वालों की संख्या 120,402 हो चुकी है.

अमेरिका के बाद संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित दूसरे देश ब्राजील में संक्रमण के 1,106,470 मामले सामने आए हैं. ब्राजील में संक्रमण के कारण 51,271 लोगों की मौत हो चुकी है.

रूस में संक्रमण के कुल मामले 598,878 हो गए हैं और यहां अब तक 8,349 लोगों की मौत हुई है. इसके बाद संक्रमण के मामलों में भारत का नंबर आता है.

ब्रिटेन में संक्रमण 306,761 मामले सामने आए हैं. इस देश में मौत का आंकड़ा 42,731 है.

ब्रिटेन के बाद स्पेन में संक्रमण के 246,504 मामले दर्ज हो चुके हैं और यहां अब तक 28,324 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके बाद इटली में संक्रमण के कुल 238,720 मामले आए हैं और 34,657 लोगों की मौत हुई है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)