भारत

बिहार: शादी के दो दिन बाद कोरोना संक्रमण से दूल्हे की मौत, 100 से अधिक लोग संक्रमित

मामला पटना ज़िले के पालीगंज का है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि दूल्हे की मौत के बाद कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग से 350 से अधिक लोगों का कोरोना परीक्षण किया जा चुका है जिसमें से 100 से अधिक लोग संक्रमित पाए गए हैं.

Screenshot (103)

पटना: बिहार की राजधानी पटना के ग्रामीण इलाके में दो सप्ताह पहले हुई एक शादी के दो दिन बाद जहां कोरोना वायरस से दूल्हे की मौत हो गई वहीं अब तक 100 से अधिक लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि शादी में दूल्हे को तेज बुखार था और दो दिन बाद उसकी मौत हो गई थी.

मामला पटना जिले के पालीगंज सब डिविजन का है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि दूल्हे की मौत के बाद कांटैक्ट ट्रेसिंग के माध्यम से 350 से अधिक लोगों का कोरोना परीक्षण किया जा चुका है, जिसमें से 100 से अधिक लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं.

अधिकारियों ने कहा कि संपर्क में आने के कारण दूल्हे के 15 रिश्तेदार संक्रमित हुए और संभवतया इसके बाद उनसे अन्य लोग संक्रमित हो गए.

अपना नाम न बताने की शर्त पर अधिकारियों ने कहा कि दूल्हा गुड़गांव में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे और मई के आखिरी सप्ताह में अपनी शादी के लिए वापस घर लौटे थे. तिलक समारोह के कुछ दिन बाद दूल्हे में संक्रमण के लक्षण दिखने शुरू हो गए थे.

शादी के दिन 15 जून को दूल्हे को तेज बुखार था और वह चाहते थे कि समारोह टाल दिया जाए. हालांकि, परिवार के सदस्यों ने उन्हें पैरासिटामोल की गोली खिलाकर शादी जारी रखने के लिए जोर डाला.

बीते 17 जून को उनकी तबीयत तेजी से खराब हो गई जिसके बाद परिवार के सदस्य उन्हें पटना के एम्स लेकर जाने लगे लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गई.

इसके बाद परिवार ने जल्दबाजी में प्रशासन को सूचना दिए बिना शव का अंतिम संस्कार कर दिया. हालांकि, किसी ने जिलाधिकारी को फोन करके पूरा घटनाक्रम बता दिया.

अधिकारियों ने बताया कि 19 जून को मृतक के सभी करीबी रिश्तेदारों, शादी में शामिल होने वाले लोगों का कोरोना परीक्षण कराया गया. उनमें से 15 लोग संक्रमित पाए गए.

इसके बाद संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शादी समारोह वाले गांव में 24 से 26 जून तक एक विशेष कैंप लगाया गया जिसमें 364 लोगों के नमूने इकट्ठा किए गए. उनमें से 86 संक्रमित पाए गए.

अधिकतर संक्रमित लोगों में कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे और उन्हें बिहता और फुलवारीशरीफ के आइसोलेशन सेंटर में भर्ती करवाया गया.

मुख्य विकास अधिकारी चिरंजीव पांडे ने कहा कि मीठा कुआं, खागरी मोहल्ला और पालीगंज बाजार के कुछ हिस्सों को सैनिटाइजेशन के लिए सील कर दिया गया है.

बता दें कि बिहार में पटना जिला कोरोना संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित है. प्रशासन के आंकड़ों के मुताबिक वहां अब तक 699 पॉजिटीव केस मिल हैं और पांच लोगों की मौत हुई है. फिलहाल पॉजिटीव मामलों की संख्या 372 है.

सोमवार को बिहार में एक दिन में सबसे अधिक 394 मामले सामने आए, जिसमें से 20 फीसदी मामले पटना जिले के थे. करीब 80 मामले पालीगंज से सामने आए.