राजनीति

छत्तीसगढ़: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 15 विधायकों को संसदीय सचिव बनाया

छत्तीसगढ़ भाजपा ने कहा है कि संसदीय सचिवों की नियुक्तियों को लेकर विपक्ष में रहते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तत्कालीन भाजपा प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ न्यायालय तक चले गए थे और आज सत्ता में आने के बाद कांग्रेस में ही मचे घमासान को शांत करने संसदीय सचिव नियुक्त कर रहे हैं.

भूपेश बघेल. (फोटो: पीटीआई)

भूपेश बघेल. (फोटो: पीटीआई)

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य सरकार में 15 विधायकों को संसदीय सचिवों के रूप में नियुक्त किया है.

बघेल ने मंगलवार की शाम अपने शासकीय निवास में आयोजित समारोह में 15 विधायकों को संसदीय सचिव के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी.

नव-नियुक्त संसदीय सचिवों में चिंतामणी महाराज ने संस्कृत में शपथ ली, जबकि पारसनाथ राजवाड़े, अंबिका सिंहदेव, चन्द्रदेव प्रसाद राय, द्वारिकाधीश यादव, गुरूदयाल सिंह बंजारे, इंद्रशाह मंडावी, कुंवरसिंह निषाद, रश्मि आशीष सिंह, रेखचंद जैन, शकुन्तला साहू, शिशुपाल सोरी, यूडी मिंज, विकास उपाध्याय और विनोद सेवन लाल चंद्राकर ने हिंदी में शपथ ली.

शपथ ग्रहण के बाद मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि सभी संसदीय सचिवों को अनुभवी मंत्रियों के साथ काम करने का अवसर मिलेगा. उन्होंने नवनियुक्त संसदीय सचिवों से इस अवसर को सीखने के रूप में लेने और अपनी जिम्मेदारियों को बेहतर ढंग से पूरा करने का आग्रह किया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनप्रतिनिधियों की सफलता के लिए अपने क्षेत्र में पकड़, प्रशासकीय कामकाज की जानकारी तथा विधानसभा की गतिविधियों में पारंगत होना आवश्यक है.

राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि शपथ ग्रहण कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री बघेल के अनुमोदन से सभी नव-नियुक्त संसदीय सचिवों को मंत्रियों से संबद्ध करने का आदेश भी जारी कर दिया गया है.

इस आदेश के तहत संसदीय सचिव द्वारिकाधीश यादव को स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम से तथा विनोद सेवन चंद्राकर और गुरुदयाल सिंह बंजारे को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से संबद्ध किया गया है.

अधिकारियों ने बताया कि चंद्रदेव प्रसाद राय और शिशुपाल सोरी को वन मंत्री मोहम्मद अकबर से, शकुंतला साहू को कृषि मंत्री रविंद्र चौबे के साथ, विकास उपाध्याय और चिंतामणि महाराज को गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू से, अंबिका सिंहदेव को लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रुद्रकुमार से तथा यूडी मिंज को उद्योग मंत्री कवासी लखमा से संबद्ध किया गया है.

उन्होंने बताया कि संसदीय सचिव पारसनाथ राजवाड़े को उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल से, इंद्रशाह मंडावी को राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल से, कुंवरसिंह निषाद को खाद्य मंत्री अमरजीत भगत से, रश्मि आशीष सिंह को महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया से तथा रेखचंद जैन को नगरीय प्रशासन मंत्री शिव कुमार डहरिया से संबद्ध किया गया है.

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत, सांसद पी. एल. पुनिया सहित राज्य सरकार के सभी मंत्री, विधायक, अनेक जनप्रतिनिधि सहित विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.

बघेल सरकार पर भाजपा ने दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया

राज्य में संसदीय संचिवों की नियुक्ति के बाद मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य सरकार पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया है.

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने राज्य में संसदीय सचिवों की नियुक्ति को लेकर राज्य सरकार पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पूर्ववर्ती भाजपा सरकार द्वारा की गई संसदीय सचिवों की नियुक्ति पर भाजपा सरकार को बिना कारण बदनाम करने के लिए अब पूरे प्रदेश से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए.

मूणत ने कहा कि संसदीय सचिवों की नियुक्तियों को लेकर विपक्ष में रहते हुए मुख्यमंत्री बघेल तत्कालीन भाजपा प्रदेश सरकार के खिलाफ न्यायालय तक चले गए थे और आज सत्ता में आने के बाद कांग्रेस में ही मचे घमासान को शांत करने संसदीय सचिव नियुक्त कर रहे हैं.

पूर्व मंत्री ने कहा कि जब राज्य सरकार कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग को पैसों की कमी बताकर कमजोर कर रही है तब संसदीय सचिवों की नियुक्ति से राज्य पर जो अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ेगा, उसके लिए मुख्यमंत्री को बताना होगा कि राज्य के खजाने में पैसा कहां से आएगा.

छत्तीसगढ़ में पूर्ववर्ती भाजपा सरकार द्वारा 11 संसदीय सचिवों की नियुक्ति के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वर्तमान वन मंत्री मोहम्मद अकबर और आरटीआई कार्यकर्ता राकेश चौबे ने इस नियुक्ति को असंवैधानिक बताते हुए वर्ष 2017 में हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी.

हालांकि, अप्रैल 2018 में याचिका को खारिज करते हुए हाईकोर्ट ने 2017 के अपने अंतरिम आदेश को बरकरार रखते हुए आदेश दिया था कि संसदीय सचिव मंत्रियों की तरह शक्ति और सुविधाओं के हकदार नहीं होंगे.

राज्य में नए संसदीय सचिवों की नियुक्ति के बाद वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने संवाददाताओं से कहा कि नए संसदीय सचिव मंत्री के रूप में काम नहीं करेंगे बल्कि मंत्रियों के संसदीय कार्यों की सहायता के लिए इन्हें नियुक्त किया गया है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, भाजपा सांसद सुनील सोनी ने कहा कि नए संसदीय सचिवों को अपनी नियुक्ति के लिए सचिन पायलट का शुक्रिया अदा करना चाहिए.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, छत्तीसगढ़ भाजपा की कानूनी इकाई के प्रभारी नरेश गुप्ता ने कहा, ‘संसदीय सचिवों की नियुक्ति को हिमाचल प्रदेश सरकार ने असंवैधानिक घोषित किया है और यह मामला भारत की शीर्ष अदालत के समक्ष लंबित है. दिल्ली सरकार के साथ भी यही हुआ और मामला भारत निर्वाचन आयोग के सामने पड़ा है.’

उन्होंने कहा, ‘जहां तक छत्तीसगढ़ सरकार का सवाल है, भूपेश सरकार के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार 12 मंत्रियों के खिलाफ 15 मंत्रियों की नियुक्ति करने जा रही है, जो असंवैधानिक है और लोकतंत्र का उपहास है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)