भारत

मुंबई: बीते एक महीने में बहुमंज़िला इमारतों में कोविड के मामलों में 108 फ़ीसदी का इज़ाफा

बीएमसी के आंकड़ों के मुताबिक, बीते लगभग एक महीने में झुग्गियों और भीड़भाड़ वाले इलाकों में कोरोना के मामलों में 60 फ़ीसदी बढ़त हुई है. एक अधिकारी के अनुसार बड़ी इमारतों में लोगों ने अब सख़्ती बरतनी बंद कर दी है और बाहरी लोग आ-जा रहे हैं.

(फोटोः पीटीआई)

(फोटोः पीटीआई)

मुंबईः महाराष्ट्र के मुंबई में झुग्गी-झोपड़ियों की तुलना में रिहायशी और बहुमंजिला इमारतों में कोरोना के मामलों में 108 फीसदी का इजाफा हुआ है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के आंकड़ों के मुताबिक, बीते लगभग एक महीने में रिहायशी और बहुमंजिला इमारतों में कोरोना के मामलों में 108 फीसदी की वृद्धि हुई है जबकि झुग्गी-झोपड़ी और भीड़भाड़ वाले इलाकों में कोरोना के मामलों में 60 फीसदी का इजाफा हुआ है.

बीएमसी अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन में ढील और गैर- जरूरी आवागमन को मंजूरी मिलने से रिहायशी इमारतों में कोरोना के मामले महामारी के शुरुआती चरण की तरह एक बार फिर बढ़ गए हैं.

हाउसिंग सोसाइटीज ने शुरुआत में चौकसी बरतते हुए इमारत परिसर को बंद रखना शुरू कर दिया था लेकिन अब सख्ती बरतनी बंद कर दी है और इमारतों में बाहरी लोग आ-जा रहे हैं, लोगों ने घरेलू सहायकों को भी दोबारा बुलाना शुरू कर दिया है.

अधिकारियों का कहना है कि कार्यालयों में कामकाज दोबारा बहाल होने से अब काफी लोग रोजाना काम के सिलसिले में बाहर जा रहे हैं और ज्यादा से ज्यादा लोगों के संपर्क में भी आ रहे हैं. स्थानीय लोग भी गैर जरूरी काम के लिए बाहर निकल रहे हैं.

बीएमसी के आंकड़ों के मुताबिक, नौ जून को मुंबई में 4,538 इमारतें और इनमें रहने वाले 8.02 लाख लोग घरों में कैद थे. उस दौरान इन इमारतों से कोरोना के 9,956 मामले सामने आए थे.

वहीं, बीएमसी की ओर से 17 जुलाई को जारी आंकड़ों के मुताबिक, सील की गई कुल इमारतों की संख्या 6,235 रही. इन इमारतों में 9.33 लाख लोग रहते हैं, जिनमें से 20,735 लोग कोरोना संक्रमित हैं.

इस तरह बीते लगभग एक महीने में यहां कोरोना के 10,779 मामले बढ़े हैं. बीएमसी के आंकड़ों के मुताबिक, नौ जून को मुंबई में 798 कंटेनमेंट जोन थे और 18,957 मामले सामने आए थे.

17 जुलाई को कंटेनमेंट जोन की संख्या घटकर 708 रह गई लेकिन यहां कोरोना मामलों की संख्या 11,496 से बढ़कर 30,453 दर्ज हुई.

सबसे अधिक 720 इमारतें आर सेंट्रल वॉर्ड (बोरिवली) में सील की गईं, जहां से 1,001 मामले दर्ज हुए जबकि एफ साउथ वॉर्ड (परेल, सेवरी, वडाला) से सबसे ज्यादा कोरोना के मामले दर्ज हुए और वहां 177 इमारतों को सील किया गया और 1,608 मामले सामने आए.

बीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘झुग्गी-झोपड़ियों पर ज्यादा ध्यान देने के बाद हम इन इलाकों में कोरोना के प्रसार को नियंत्रित कर पाए हैं. हालांकि लॉकडाउन में ढील दिए जाने से बहुमंजिली इमारतों में रह रहे लोग यहां-वहां आ-जा रहे हैं, जिस वजह से इन इलाकों में अधिक मामले सामने आ रहे हैं.’

अधिकारी ने कहा कि बड़ी-बड़ी इमारतों में रह रहे कोरोना के अधिकतर मरीज होम आइसोलेशन का विकल्प भी चुन रहे हैं.