भारत

विशाखापट्टनम: हिंदुस्तान शिपयार्ड में क्रेन ढहने से 11 लोगों की मौत, जांच के आदेश

यह दुर्घटना हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड में हुई, जहां 70 टन वजनी क्रेन का लोड टेस्टिंग ट्रायल चल रहा था. इस दौरान अचानक क्रेन का निचला हिस्सा और ओवरहेड केबिन अलग हो गए, जिससे क्रेन गिर गई. इसमें मौजूद सभी 11 लोगों की मौत हो गई है.

(फोटो साभार: ट्विटर/वीडियोग्रैब)

(फोटो साभार: ट्विटर/वीडियोग्रैब)

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड (एचएसएल) में शनिवार को एक बड़ी क्रेन के गिरने से 11 लोगों की दबकर मौत हो गई.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, यह दुर्घटना शनिवार को क्रेन के लोड टेस्टिंग ट्रायल के दौरान हुई.

दस टन वजनी इस क्रेन को मुंबई की अनुपम क्रेन्स कंपनी ने दो साल पहले तैयार किया था लेकिन अभी तक इसे इस्तेमाल में नहीं लाया गया था.

पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार मीणा ने बताया कि यह हादसा शनिवार दोपहर 12 बजे हुआ. एक ट्रेड यूनियन के लीडर का कहना है कि क्रेन ओवरलोड थी, शायद इसी वजह से हादसा हुआ.

एचएसएल ने इस क्रेन के ऑपरेशन के लिए ग्रीनफील्ड कंपनी को आउटसोर्स किया था. ग्रीनफील्ड ने देखरेख और संचालन के लिए लीड इंजीनियर्स और क्वैड7 कंपनी की सेवाएं ली हैं.

विशाखापट्टनम के जिला कलेक्टर वी विनय चंद ने बताया, ‘आज सुबह वे क्रेन की भार क्षमता का टेस्ट ट्रायल कर रहे थे कि अचानक क्रेन का निचला हिस्सा और ओवरहेड अलग हो गया, जिससे क्रेन ढह गई.’

उन्होंने आगे बताया, ‘केबिन के भीतर दस लोग थे, जिसमें तीन ग्रीनफील्ड कंपनी के कर्मचारी, दो लीड इंजीनियर्स के और एक क्वैड7 का कर्मचारी और चार हिंदुस्तान शिपयार्ड के स्थाई कर्मचारी थे. केबिन के दुर्घटनाग्रस्त होने से सभी की मौत हो गई. एक अन्य शख्स की भी मौत हुई है लेकिन अभी तक उसकी पहचान नहीं की जा सकी है.’

अधिकारियों का कहना है कि एचएसएल ने जांच शुरू कर दी है जबकि सरकार ने भी घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या यह दुर्घटना अधिकारियों की लापरवाही की वजह से तो नहीं हुई.

अधिकारियों का कहना है कि इस घटना में कोई भी घायल नहीं हुआ है, लेकिन क्रेन में मौजूद सभी 11 लोगों की मौत हो गई है.