भारत

गुजरात: अहमदाबाद के कोविड-19 अस्पताल में लगी आग से आठ लोगों की मौत, जांच के आदेश

अहमदाबाद में नवरंगपुर इलाके के श्रेय अस्पताल के आईसीयू वार्ड में गुरुवार तड़के आग लग गई. हादसे के वक़्त 40-45 मरीज़ यहां भर्ती थे. मृतकों में पांच पुरुष और तीन महिलाएं शामिल हैं.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: अहमदाबाद में नवरंगपुर इलाके के श्रेय अस्पताल के आईसीयू वार्ड में बृहस्पतिवार तड़के आग लग गई, जिसमें आठ मरीजों की मौत हो गई. यह अस्पताल कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए चिह्नित है.

ऑउटलुक के मुताबिक, अहमदाबाद फायर डिपार्टमेंट के एक अधिकारी ने बताया, ‘श्रेय अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती आठ कोविड-19 मरीजों की इस हादसे में मौत हो गई है.’

अधिकारियों ने बताया कि मरने वाले मरीजों में पांच पुरुष और तीन महिलाएं शामिल हैं. उन्होंने बताया कि फिलहाल आग लगने के कारणों का अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है.

स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक अस्पताल में कोविड-19 के करीब 40 अन्य मरीजों को बचा लिया गया और उन्हें शहर के एक अन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

दैनिक भास्कर के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि श्रेय अस्पताल में आग तड़के 3:30 बजे आईसीयू से शुरू हुई. इसके बाद दूसरे वार्ड में फैल गई.

बताया जा रहा है कि आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी. हालांकि, अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है. इस अस्पताल में कोविड के मरीजों के लिए 50 बेड हैं. हादसे के वक्त 40 से 45 मरीज भर्ती थे.

गुजरात सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि श्रेय अस्पताल को अब सील कर दिया गया है.  41 मरीज सरदार वल्लभभाई पटेल अस्पताल में स्थानांतरित कर दिए गए. शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर दुख जताया और हताहत हुए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की. उन्होंने मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और अहमदाबाद की मेयर बिजल पटेल से इस सिलसिले में बात भी की और हालात का जायजा लिया.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘अहमदाबाद के अस्पताल में हुई आग की दुखद घटना से मन व्यथित हो गया. शोकसंतप्‍त परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं.’

इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने हादसे में मारे गए लोगों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. साथ ही हादसे में घायल हुए लोगों को भी  50-50 हजार रुपये की मदद का ऐलान किया है.

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रूपाणी और मेयर से बात कर उन्होंने वर्तमान स्थिति की जानकारी ली. उन्होंने कहा, ‘प्रशासन की ओर से प्रभावित लोगों को हरसंभव सहायता पहुंचाई जा रही है.’

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इस हादसे की जांच के आदेश देते हुए तीन दिन में रिपोर्ट देने को कहा है. जांच का जिम्मा अतिरक्त मुख्य सचिव (गृह विभाग) संगीता सिंह को सौंपा गया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)