कैंपस

असम: राम पर फेसबुक पोस्ट के कारण असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

रोहित चंदा नामक व्यक्ति ने धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में सिलचर स्थित असम विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर अनिंद्य सेन के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई है. चंदा के फेसबुक पेज के अनुसार, वे एबीवीपी कार्यकर्ता हैं.

assam anindya sen facebook

प्रोफेसर अनिंद्य सेन. (फोटो साभार: फेसबुक)

नई दिल्ली: असम के सिलचर स्थित असम विश्वविद्यालय के एक सहायक प्रोफेसर के खिलाफ भगवान राम के संबंध में कथित रूप से अपमानजनक फेसबुक पोस्ट के द्वारा धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. अधिकारियों ने बीते रविवार को ये जानकारी दी.

बीते पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के लिए भूमि पूजन समारोह को लेकर सहायक प्रोफेसर अनिंद्य सेन ने अपने फेसबुक पर एक व्यंग्यात्मक पोस्ट लिखा था. इसे लेकर आठ अगस्त को एक रोहित चंदा नाम के एक व्यक्ति की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है,

चंदा की फेसबुक प्रोफाइल में लिखा है कि वे एक एबीवीपी कार्यकर्ता हैं.

एसपी बीएल मीणा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘हां, फेसबुक पोस्ट पर मामला दर्ज किया गया है. शिकायत धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली पोस्ट के बारे में है. हम मामले की जांच करेंगे.’

Anindya Sen

अनिंद्य सेन का फेसबुक पोस्ट.

यह पता चला है कि आईपीसी की धारा 294, 295 ए और 501 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

अपनी शिकायत में चंदा ने आरोप लगाया कि सेन ने राम पर अपमानजनक टिप्पणी की और लगातार ऐसे अपमानजनक पोस्ट किए जो हिंदू धर्म को बदनाम करते हैं और देश के प्रधानमंत्री और गृह मंत्री जैसे संवैधानिक पदों का भी अपमान करते हैं.

हालांकि सेन ने कहा कि उनका कभी भी किसी हिंदू भगवान या देवी का अपमान करने या किसी की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का इरादा नहीं रहा है.

उन्होंने कहा, ‘रामायण एक महाकाव्य है. इसके कई संस्करण हैं. विभिन्न बिंदुओं पर राम की आलोचना की गई है. मैं आलोचनाओं के बारे में लिखने वाला पहला व्यक्ति नहीं हूं. ऐसा पहले भी हो चुका है.’

रिपोर्ट के अनुसार, इससे पहले बीते छह अगस्त को फेसबुक पर बीफ खाने के बारे में कथित तौर पर टिप्पणी करने के लिए कछार में सताब्दी भट्टाचार्जी नाम की एक महिला के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.

भट्टाचार्जी की टिप्पणियों के स्क्रीनशॉट व्यापक रूप से प्रसारित किए गए थे और केस दर्ज करने से पहले उन्हें ऑनलाइन ट्रोल किया गया था.

एसपी मीणा ने कहा कि भट्टाचार्जी का मामला भी ‘धार्मिक भावनाओं को आहत करने’ के बारे में था और पुलिस इसकी जांच कर रही है.

पिछले साल फरवरी में गुवाहाटी में आइकन कॉमर्स कॉलेज में अंग्रेजी के सहायक प्रोफेसर पापरी बनर्जी के खिलाफ पुलवामा हमले पर उनकी फेसबुक टिप्पणियों को लेकर मामला दर्ज किया गया था.