भारत

धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 मैच खेलकर करीब 17,000 रन बनाए और विकेट के पीछे 829 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है. 2007 में टी20 विश्व कप, 2011 वनडे विश्व कप और 2013 में उन्होंने चैंपियंस ट्राफी जीता है. वह एकमात्र क्रिकेट कप्तान हैं, जिसने आईसीसी के इन तीन ख़िताबों पर क़ब्ज़ा किया है. सुरेश रैना ने भी संन्यास की घोषणा की.

**EDS: RPT, ADDS MASTERCARD WORD** New Delhi: Indian cricketer Mahendra Singh Dhoni during the launch of 'Mastercard Team Cashless India', a nationwide initiative to accelerate and adoption of digital payment, in New Delhi, Wednesday, Oct. 16, 2019. (PTI Photo/Manvender Vashist) (PTI10_16_2019_000034B)

महेंद्र सिंह धोनी. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: अपनी कप्तानी और ‘फिनिशिंग’ के हुनर से महानतम क्रिकेटरों में शुमार दो बार के विश्व कप विजेता भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार (15 अगस्त) को स्वतंत्रता दिवस के ऐन मौके पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहकर पिछले एक साल से उनके भविष्य को लेकर लग रही अटकलों पर विराम लगा दिया .

गैर पारंपरिक शैली में कप्तानी और मैच को अंजाम तक ले जाने की कला के साथ भारतीय क्रिकेट के इतिहास के कई सुनहरे अध्याय लिखने वाले 39 वर्ष के धोनी के इस फैसले के साथ ही क्रिकेट के एक युग का भी अंत हो गया.

उन्होंने चार मिनट सात सेकेंड के एक वीडियो में इंस्टाग्राम पर इस बात की घोषणा की. इस वीडियो में उनके करिअर से जुड़ी तमाम तस्वीरों को समाहित किया गया है. इन तस्वीरों के बैकग्राउंड में 1976 में आई अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘कभी कभी’ का साहिर लुधियानवी के लिखा गया और मुकेश द्वारा गाया गया गीत, मैं पल दो पल का शायर हूं, पल दो पल पल मेरी कहानी है…. गीत चल रहा है.

धोनी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर लिखा, ‘अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिए धन्यवाद. शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिए.’


View this post on Instagram

Thanks a lot for ur love and support throughout.from 1929 hrs consider me as Retired

A post shared by M S Dhoni (@mahi7781) on

इससे एक दिन पहले ही वह यूएई में होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग के लिए चेन्नई सुपर किंग्स टीम से जुड़ने चेन्नई पहुंचे थे.

धोनी ने भारत के लिए आखिरी मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले साल जुलाई में विश्व कप सेमीफाइनल खेला था.

विकेटों के बीच बेहतरीन दौड़ के लिए मशहूर धोनी उस तनावपूर्ण मैच में 50 रन बनाकर रन आउट हो गए थे. उस मैच के बाद वह लंबे ब्रेक पर चले गए थे और पिछले एक साल से उनके संन्यास को लेकर लग रही अटकलों पर कोई जवाब नहीं दिया.

मूल रूप से झारखंड के रहने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2004 में विकेटकीपर के तौर पर लंबे बालों के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के मैदान में कदम रखा था.

‘रांची का यह राजकुमार’ हालांकि क्रिकेट के इतिहास में महानतम खिलाड़ियों में अपना नाम दर्ज करा गया है. भारतीय क्रिकेट के सबसे बड़े नामों में से एक धोनी ने दक्षिण अफ्रीका में 2007 में टी20 विश्व कप और भारत में 2011 वनडे विश्व कप जीता है.

2013 में उन्होंने चैंपियंस ट्राफी जीता था. वह विश्व के एकमात्र क्रिकेट कप्तान हैं, जिसने आईसीसी के इन तीन खिताबों पर क़ब्जा किया है.

सात नंबर की जर्सी पहनकर मैदान में उतरने वाले धोनी ने 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 मैच खेलकर करीब 17,000 रन बनाए और विकेट के पीछे 829 शिकार किए. वह एकमात्र विकेटकीपर हैं, जिनसे वन डे क्रिकेट में छह हजार से अधिक रन बनाए और 200 से ज्यादा विकेट लिए.

करिअर के आखिरी चरण में वह खराब फॉर्म से जूझते रहे, जिससे उनके भविष्य को लेकर अटकलें लगाई जाती रहीं.

उन्होंने वनडे क्रिकेट में पांचवें से सातवें नंबर के बीच में बल्लेबाजी के बावजूद 50 से अधिक के औसत से 10,773 रन बनाए हैं. धोनी ने टेस्ट क्रिकेट के 90 मैचों में 38.09 के औसत से 4,886 रन बनाए हैं और टी20 के 98 मैचों में 37.06 के औसत से 1,617 रन बनाए हैं. इसके अलावा आईपीएल के 190 मैचों में उन्होंने 42.21 के औसत से 4,432 रन बनाए हैं.

आंकड़ों से हालांकि धोनी के करिअर ग्राफ को नहीं आंका जा सकता. धोनी की कप्तानी, मैच के हालात को भांपने की क्षमता और विकेट के पीछे जबर्दस्त चुस्ती ने पूरी दुनिया के क्रिकेटप्रेमियों को दीवाना बना दिया था.

वह कभी जोखिम लेने से पीछे नहीं हटे, इसलिए 2007 टी20 विश्व कप का आखिरी ओवर जोगिंदर शर्मा जैसे नए गेंदबाज को दिया, तो 2011 वनडे विश्व कप के फाइनल में फॉर्म में चल रहे युवराज सिंह से पहले बल्लेबाजी के लिए आ गए थे.

दोनों बार भारत ने खिताब जीता और धोनी देशवासियों के नूर-ए-नजर बन गए.

आईपीएल में तीन बार चेन्नई को जिताकर वह ‘थला’ कहलाए. चेन्नई टीम के सीईओ काशी विश्वनाथ ने हाल ही में कहा था कि वह कम से कम 2022 तक टीम के लिए खेलते रहेंगे.

पिछले साल धोनी ने प्रादेशिक सेना में अपनी यूनिट को सेवाए दी, जिसमें वह मानद लेफ्टिनेंट कर्नल हैं. इसके साथ ही रांची में जैविक खेती भी की और कुछ मौकों पर नेट पर अभ्यास करते भी नजर आए.

धोनी की पत्नी साक्षी ने भी इंस्टाग्राम पर उनके लिए एक भावुक पोस्ट लिखा. उन्होंने लिखा, ‘आपने जो हासिल किया उस पर आपको गर्व होना चाहिए. खेल में अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए बधाई.’

उन्होंने कहा, ‘मुझे आपकी उपलब्धियों और आप जैसे इंसान पर गर्व है. मुझे यकीन है कि आपने अपने जुनून को अलविदा कहने के लिए अपने आंसुओं को रोक लिया होगा. आपके स्वास्थ्य, खुशी और आगे आपके लिए शानदार चीजों की कामना करती हूं.’

साक्षी ने इस पोस्ट में अमेरिकी कवि और नागरिक अधिकार कार्यकर्ता माया एंजेलु की पंक्तियों को भी कोट किया है. उन्होंने कहा है, ‘आपके द्वारा कही गईं बातों को लोग भूल जाएंगे, आपने जो किया उसे लोग भूल जाएंगे, लेकिन लोग ये कभी नहीं भूलेंगे कि आपने उन्हें कैसा महसूस कराया.’

इस साल जनवरी में धोनी को बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की सूची से बाहर कर दिया गया था, जिससे उनके भविष्य को लेकर एक बार फिर अटकलें तेज हो गई थीं.

धोनी के अलावा दिनेश कार्तिक, ख़लील अहमद और हाल ही में रिटायर हुए अंबाती रायडु से भी अनुबंध खत्म कर लिया गया था.

बीसीसीआई ने अक्टूबर 2019 से सितंबर 2020 तक के लिए केंद्रीय अनुबंधों का ऐलान किया था. धोनी पिछले साल तक ‘ए’ ग्रेड में थे जिन्हें सालाना पांच करोड़ रुपये मिलते थे.

बीसीसीआई ने ट्वीट कर कहा, ‘कप्तान, लिजेंड, प्रेरणा, चमकता हुआ सितारा. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के रिटायर होने पर हम उन्हें शुभकामनाएं देते हैं और शानदार यादों के लिए उनका धन्यवाद करते हैं. धन्यवाद एमएस धोनी.’

सुरेश रैना ने भी संन्यास लिया

महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से अलविदा कहने के कुछ ही देर में भारतीय क्रिकेट टीम और आईपीएल के चेन्नई सुपरकिंग्स टीम में उनके सहयोगी बल्लेबाज सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी.

धोनी के संन्यास की घोषणा के बाद उन्होंने भी इंस्टाग्राम पर लिखा, ‘धोनी आपके साथ खेलने के अलावा यह कुछ भी नहीं था. पूरे दिल से गर्व के साथ मैंने इन यात्रा में आपके साथ रहने को चुना है. थैंक यू इंडिया. जय हिंद.’

सुरेश रैना ने वनडे क्रिकेट के 226 मैचों में 35 से अधिक के औसत से 56,15 रन बनाए हैं. टेस्ट क्रिकेट के 18 मैचों में 26.48 के औसत से 768 रन बनाए हैं और टी20 के 78 मैचों में 29.16 के औसत से 1,604 रन बनाए हैं. इसके अलावा आईपीएल के 193 मैचों में उन्होंने 33.34 के औसत से 5,368 रन बनाए हैं.

तेंदुलकर और कोहली सहित क्रिकेट जगत ने धोनी को शुभकामनाएं दी

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की अगुआई में क्रिकेट जगत ने दो बार के विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं दी है.

तेंदुलकर ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया, ‘भारतीय क्रिकेट में आपका योगदान बहुत बड़ा है महेंद्र सिंह धोनी. एक साथ 2011 विश्व कप जीतना मेरे जीवन का सर्वश्रेष्ठ लम्हा है. आपको और आपके परिवार को आपकी दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं.’

भारतीय कप्तान के रूप में धोनी की जगह लेने वाले कोहली ने कहा कि इस पूर्व कप्तान ने देश के लिए जो किया है उसे हमेशा याद रखा जाएगा.

कोहली ने ट्वीट किया, ‘सभी क्रिकेटरों को एक दिन अपनी यात्रा का अंत करना होता है, लेकिन जब आप किसी को इतने करीब से जानते हो और वह इस फैसले की घोषणा करता है तो आप अधिक भावुक हो जाते हो. आपने देश के लिए जो किया वह हमेशा सभी के दिलों में रहेगा.’

भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने ट्वीट किया, ‘उनकी भरपाई करना आसान नहीं होगा. आपके साथ ड्रेसिंग रूम साझा करना और आपको काम में बेहद पेशेवर के रूप में देखना सम्मान की बात रही. इसकी कोई बराबरी नहीं है. लुत्फ उठाएं.’

पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने धोनी को शुभकामनाएं देते हुए लिखा, ‘शानदार अंतरराष्ट्रीय करिअर के लिए महेंद्र सिंह धोनी को बधाई. आपके साथ खेलना सम्मान की बात रही. आपका धैर्यवान रवैया और कप्तान के रूप में आपने जो गौरवपूर्ण लम्हे दिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा. आपको शुभकामनाएं.’

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने लिखा, ‘अब ऐसा खिलाड़ी होना, मिशन इंपॉसिबल है. न कोई है, न कोई था, न कोई होगा धोनी के जैसा. खिलाड़ी आएंगे और जाएंगे लेकिन उसके जितना धैर्यवान नहीं होगा. धोनी इस तरह से लोगों से जुड़ा कि वह कई क्रिकेट प्रेमियों के लिए परिवार के सदस्य की तरह था. ओम फिनिशाय नम:.’

स्टार भारतीय आलराउंडर रविंद्र जडेजा ने ट्वीट किया, ‘बड़ा भाई, मेंटर, कप्तान और इससे भी बढ़कर खेल का महान खिलाड़ी. कप्तान आपसे बहुत कुछ सीखा. खेल को आपकी कमी खलेगी.’

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान ने लिखा, ‘ऐसा कप्तान जिसने अपने खिलाड़ियों को पूरा उपयोग किया. आपके साथ गेंदबाजी करते हुए जो स्वतंत्रता मिली उसका लुत्फ उठाया. आपको दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं महेंद्र सिंह धोनी.’

स्टार भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने ट्वीट किया, ‘लीजेंड ने हमेशा की तरह अपनी शैली में संन्यास लिया. महेंद्र सिंह धोनी आपको देश के लिए सब कुछ दिया. चैंपियन्स ट्रॉफी जीत, 2011 विश्व कप और चेन्नई आईपीएल खिताब, ये जीत हमेशा मेरी यादों में रहेंगी. भविष्य के लिए शुभकामनाएं.’

इंग्लैंड के पूर्व स्टार बल्लेबाज और अब कमेंटेटर केविन पीटरसन ने रिटायर खिलाड़ियों के क्लब में धोनी का स्वागत किया. उन्होंने लिखा, ‘रिटायरमेंट क्लब में स्वागत है महेंद्र सिंह धोनी. क्या जादुई करिअर रहा.’

पूरे आत्मविश्वास के साथ मैदान में उतरते थे धोनी: कोच आदिल हुसैन

रांची: सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (सीसीएल) के खिलाड़ी और महेंद्र सिंह धोनी के प्रारंभिक कोच में से एक आदिल हुसैन ने रांची से बताया कि धोनी ने अपनी क्रिकेट शैली में बचपन से लेकर बड़े होने तक कोई खास बदलाव नहीं किया.

उन्होंने कहा कि वह सदा आत्मविश्वास से लबरेज होकर क्रिकेट मैदान में उतरते थे जो उनके पूरे कैरियर में उनकी पहचान बनी रही.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)