दुनिया

अमेरिका: डेमोक्रेटिक पार्टी से बाइडेन राष्ट्रपति और कमला हैरिस उपराष्ट्रपति प्रत्याशी घोषित

भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस ने अमेरिकी उप-राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी स्वीकार कर ली है और इसी के साथ वह किसी प्रमुख राजनीतिक पार्टी से इस अहम राष्ट्रीय पद का टिकट पाने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी और पहली अश्वेत महिला बन गई हैं.

जो बाइडेन और कमला हैरिस. (फोटो: रॉयटर्स)

जो बाइडेन और कमला हैरिस. (फोटो: रॉयटर्स)

न्यूयॉर्क: अमेरिका में नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी ने औपचारिक तौर पर जो बाइडेन को राष्ट्रपति और भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को उप-राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है.

बाइडेन को मंगलवार को डेमोक्रेटिक (पार्टी के) राष्ट्रीय सम्मेलन (डीएनसी) के दूसरे दिन औपचारिक तौर पर राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया.

डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्य एवं अमेरिका के दो पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और जिमी कार्टर तथा पूर्व विदेश मंत्री जॉन कैरी ने मंगलवार को उनके नाम पर मुहर लगा दी.

पूर्व विदेश मंत्री एवं रिपब्लिकन कोलिन पावेल ने भी 77 वर्षीय बाइडेन की उम्मीदवारी का समर्थन किया है.

बाइडेन ने कोरोना वायरस महामारी के बीच चार दिवसीय सम्मेलन में अपने नाम की आधिकारिक घोषणा होने की बात को स्वीकार करते हुए और अपने संबोधन का जिक्र करते हुए कहा, ‘मैं आपसे बृहस्पतिवार को मिलूंगा.’

बाद में एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उम्मीदवारी स्वीकार करना मेरे जीवन के लिए सम्मान की बात है.’

वहीं, भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस ने अमेरिकी उपराष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी स्वीकार कर ली है और इसी के साथ वह किसी प्रमुख राजनीतिक पार्टी से इस अहम राष्ट्रीय पद का टिकट पाने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी और पहली अश्वेत महिला बन गई हैं.

बता दें कि बाइडेन ने बीते 11 अगस्त को हैरिस को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुना था. यदि हैरिस उप-राष्ट्रपति बन जाती हैं, तो वह इस पद पर काबिज होने वाली अमेरिका की पहली महिला होंगी और देश की पहली भारतीय-अमेरिकी और अफ्रीकी उप-राष्ट्रपति होंगी.

55 वर्षीय हैरिस को बुधवार को पार्टी के डिजिटल तरीके से आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में उप-राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार नामित किया गया.

हैरिस ने कहा, ‘मैं अमेरिका के उप-राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए आपके नामांकन को स्वीकार करती हूं.’

हैरिस ने उम्मीदवारी स्वीकार करते हुए अपने भाषण में उन अश्वेत महिलाओं को श्रद्धांजलि अर्पित की जो उनसे पहले आईं और जिन्होंने देश के लिए लड़ने का प्रण किया था.

उन्होंने कहा, ‘चलिए दृढ़ विश्वास के साथ लड़ें, उम्मीद के साथ लड़ें, अपने ऊपर भरोसा रखते हुए और एक दूसरे के लिए प्रतिबद्धता के साथ लड़ें.’

इस दौरान उन्होंने अपनी मां को याद किया. हैरिस की मां भारत के तमिलनाडु से थीं.

हैरिस ने कहा कि वह अपनी मां के सहारे यहां तक पहुंची हैं, ‘एक महिला जो 19 वर्ष की आयु में कैंसर का उपचार ढूंढ़ने का सपना लेकर भारत से यहां आई थीं. बर्कले के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में उनकी मुलाकात मेरे पिता से हुई- जो अर्थशास्त्र की पढ़ाई करने जमैका से आए थे.’

हैरिस ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर विफल नेतृत्व का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि रिपब्लिकल पार्टी के नेता ‘ हमारी मुश्किलों को राजनीति हथियार बना लेते हैं.’

हैरिस ने कहा, ‘डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व की विफलताओं ने लोगों की जिंदगियों को और उनकी आजीविकाओं को नुकसान पहुंचाया है.’

हैरिस ने कहा, ‘हमें एक ऐसे राष्ट्रपति का चुनाव करना चाहिए जो कुछ अलग, कुछ बेहतर और महत्वपूर्ण काम करेंगे. एक राष्ट्रपति जो हम सभी को- श्वेत, काले, लातिनी, एशियाई, स्वदेशी लोगों को साथ लाएंगे और ऐसे भविष्य को पाने के लिए काम करेंगे जिसे हम सामूहिक रूप से चाहते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हमें जो बाइडेन का चुनाव करना चाहिए. मैं जो को उप-राष्ट्रपति के रूप में जानती हूं. मैं बाइडेन को प्रचार अभियान से जानती हूं, लेकिन सबसे पहले मैंने उन्हें अपने मित्र के पिता के रूप में जाना था.’

वहीं, ‘डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन’ के ऑनलाइन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कमला हैरिस के रूप में एक ‘सही साथी’ का चुनाव किया है.

हिलेरी ने मतदाताओं से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ मतदान की अपील की.

वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन को मात देकर ही राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभाला था. उन्होंने कहा कि यह हाशिये पर पड़े देश को वापस पटरी पर लाने का मौका है.

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि चुनाव में, ‘हम एक साथ अधिक मजबूत होंगे. हम एक साथ इससे उबरेंगे. हम एक साथ देश की आत्मा को बचाएंगे…हम एक साथ जो बाइडेन और कमला हैरिस को चुनेंगे.’

हिलेरी ने कहा, ‘कमला के रूप में जो ने सही साथी का चुनाव किया है. वह न्याय एवं निष्पक्षता को लेकर अथक प्रयासरत हैं.’

उन्होंने कहा, ‘भूले नहीं, बाइडेन और कमला 30 लाख से अधिक वोट मिलने के बाद भी हार सकते हैं. मुझे देखकर ही सीखें.’

बाइडेन और हैरिस तीन नवंबर को होने वाले चुनाव में ट्रंप और उनके उप-राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार माइक पेंस को चुनौती देंगे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)