भारत

वायुसेना ने हरियाणा सरकार से कहा- अंबाला में कूड़े पर मंडराने वाले पक्षियों से रफ़ाल को ख़तरा

भारतीय वायुसेना में निरीक्षण और सुरक्षा के महानिदेशक ने अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के पास स्थित इलाके में कूड़े के निस्तारण के लिए हरियाणा के मुख्य सचिव को पत्र लिखा है.

रफाल विमान. (फोटो: रॉयटर्स)

रफाल विमान. (फोटो: रॉयटर्स)

चंडीगढ़: भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने हरियाणा सरकार से अनुरोध किया है कि वह अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के पास स्थित इलाके में कूड़े के निस्तारण के लिए जल्द से जल्द कदम उठाए, क्योंकि उसके कारण वहां चिड़ियों का खतरा बढ़ गया है जिससे रफाल लड़ाकू विमान की सुरक्षा को खतरा पैदा हो गया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय वायुसेना में निरीक्षण और सुरक्षा के महानिदेशक एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह ने इस संबंध में हरियाणा के मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा को पत्र लिखा है.

पत्र में कहा गया, ‘29 जुलाई को अंबाला में शामिल रफाल विमानों की सुरक्षा और संरक्षा भारतीय वायुसेना का मुख्य बिंदु है.’

पत्र में आगे कहा गया, ‘वायुसेना स्टेशन अंबाला में पक्षियों की बहुत अधिक संख्या है और टक्कर की स्थिति में वे विमान को बहुत गंभीर नुकसान पहुंचाने की क्षमता रखते हैं. हवाई क्षेत्र पर पक्षियों की गतिविधि आसपास के क्षेत्र में कचरे की उपस्थिति से संबंधित है.’

पत्र के अनुसार, ‘उसी को कम करने के लिए कई उपायों की सिफारिश की गई है और एयर ऑफिसर कमांडिंग एयर फोर्स स्टेशन अंबाला ने 24 जनवरी 2019, 10 जुलाई 2019 और 24 जनवरी 2020 को आयोजित एयरोड्रम पर्यावरण प्रबंधन समिति की बैठकों के माध्यम से अंबाला के संयुक्त आयुक्त और अतिरिक्त नगर आयुक्त से मुलाकात की है.’

वायुसेना ने अम्बाला एयरफील्ड के आसपास 10 किमी के एरोड्रम जोन में बड़े पक्षियों की गतिविधि को कम करने के लिए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट योजना के तत्काल कार्यान्वयन की मांग की है.

पत्र में कहा गया, ‘इसमें कूड़ा जमा करने पर जुर्माना, कचरा संग्रहण में सुधार और हवाई क्षेत्र से उपयुक्त दूरी पर उपयुक्त सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट संयंत्र स्थापित करना शामिल होगा.’

यह पता चला है कि मुख्य सचिव ने वायुसेना के पत्र को आगे की कार्रवाई के लिए शहरी स्थानीय निकाय विभाग को भेज दिया है. रफाल विमानों के लिए आधिकारिक आगमन समारोह इस महीने के अंत में अंबाला में आयोजित किया जाएगा जहां भारत और फ्रांस के रक्षा मंत्रियों के मौजूद रहने की उम्मीद है.

इस पर शहरी स्थानीय निकाय विभाग के मंत्री अनिज विज ने कहा कि आईएएफ ने राज्य सरकार से जो भी मदद मांगी है वह पूरी तरह से मुहैया कराई जाएगी.