दुनिया

2021 तक 4.7 करोड़ अतिरिक्त महिलाएं-लड़कियां अत्यधिक ग़रीबी की कगार पर पहुंच जाएंगी: रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र महिला एवं संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के नए आकलन में कहा गया कि कोविड-19 संकट 2021 तक 9.6 करोड़ लोगों को अत्यंत ग़रीबी की ओर धकेल देगा, जिनमें से 4.7 करोड़ महिलाएं और लड़कियां होंगी. यह संकट बेहद ग़रीबी में रहने वाली कुल महिलाओं की संख्या को बढ़ाकर 43.5 करोड़ कर देगा.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

संयुक्त राष्ट्र: कोविड-19 वैश्विक महामारी महिलाओं को बहुत ज्यादा प्रभावित करेगी और 2021 तक 4.7 करोड़ और महिलाओं एवं लड़कियों को अत्यधिक गरीबी की तरफ धकेल देगी.

संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी नए आंकड़ों में यह कहा गया है जिसके मुताबिक इस जनसांख्यिकी को गरीबी रेखा से ऊपर लाने के लिए दशकों में हुई प्रगति फिर पीछे की ओर चली जाएगी.

संयुक्त राष्ट्र महिला एवं संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) के इस नए आकलन में कहा गया कि कोविड-19 संकट महिलाओं के लिए गरीबी दर को बढ़ा देगा और गरीबी में रहने वाली महिलाओं एवं पुरुषों के बीच का अंतर बढ़ जाएगा.

महिलाओं के लिए गरीबी दर 2019 से 2021 के बीच 2.7 प्रतिशत तक घटने की उम्मीद थी, लेकिन वैश्विक महामारी और उसके दुष्परिणामों के कारण अब इसके 9.1 प्रतिशत तक बढ़ने की आशंका है.

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी ने कहा, ‘वैश्विक महामारी 2021 तक 9.6 करोड़ लोगों को अत्यंत गरीबी की ओर धकेल देगी, जिनमें से 4.7 करोड़ महिलाएं एवं लड़कियां होंगी. यह संकट बेहद गरीबी में रहने वाली कुल महिलाओं की संख्या को बढ़ाकर 43.5 करोड़ कर देगा, जहां अनुमान दिखाते हैं कि 2030 तक यह संख्या वैश्विक महामारी से पहले के स्तर तक नहीं लौट पाएगी.’

अनुमान दिखाते हैं कि महामारी सामान्य तौर पर समूची वैश्विक गरीबी को प्रभावित करेगी, लेकिन महिलाएं अत्यधिक प्रभावित होंगी. 2021 तक बेहद गरीबी में रह रहे 25 से 34 साल के 100 पुरुषों पर 118 महिलाएं होंगी. यह अंतर 2030 तक प्रति 100 पुरुष पर 121 महिलाएं हो जाएगा.

संयुक्त राष्ट्र महिला (यूएन वीमन) संस्था की कार्यकारी निदेशक फुमजाइल म्लाम्बो नगकुका ने कहा, ‘महिलाओं की अत्यंत गरीबी में यह बढ़ोतरी, हमारे समाजों एवं अर्थव्यवस्थाओं को हमने जिन तरीकों से बनाया है उनमें गहरी खामियों को दिखाता है.’

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘हम जानते हैं कि महिलाएं परिवार की देखभाल करने की सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदारी लेती हैं; वे कम कमाती हैं, कम बचाती हैं और बहुत कम सुरक्षित नौकरियां पकड़ती हैं. वास्तव में कुल मिलाकर महिलाओं का रोजगार पुरुषों की तुलना में 19 प्रतिशत अधिक खतरनाक है.’

रिपोर्ट में कहा गया है कि मध्य और दक्षिणी एशिया और उप-सहारा अफ्रीका (जहां दुनिया के 87 प्रतिशत अत्यधिक गरीब रहते हैं) में अत्यधिक गरीबी में सबसे अधिक वृद्धि दिखेगी, जहां क्रमशः 5.4 करोड़ और 2.4 करोड़ लोग महामारी के परिणामस्वरूप अंतरराष्ट्रीय गरीबी रेखा से नीचे रह रहे हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)