भारत

‘वॉचमैन’ से तुलना किए जाने पर भड़के पहलाज, आइफा को भेजा क़ानूनी नोटिस

आइफा समारोह में एक एक्ट के दौरान अभिनेता रितेश देशमुख और मनीष पॉल ने सेंसर बोर्ड प्रमुख पहलाज निहलानी का मज़ाक उड़ाया था.

nihalani PTI

फोटो: पीटीआई

सेंसर बोर्ड अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने  बीते दिनों आइफा अवॉर्ड समारोह के दौरान हुए एक एक्ट के दौरान उनका मज़ाक बनाए जाने से नाराज़ होकर आइफा और उसके आयोजक विजक्राफ़्ट इंटरनेशनल को क़ानूनी नोटिस भेजा है.

द एशियन एज की ख़बर के मुताबिक़ पहलाज निहलानी के वक़ील सुरेन उप्पल ने बताया कि न्यूयॉर्क में 15 जुलाई को हुए अंतर्राष्ट्रीय भारतीय फिल्म अकादमी पुरस्कार (आइफा) समारोह में एक एक्ट के दौरान रितेश देशमुख और मनीष पॉल ने सीबीएफसी प्रमुख की तस्वीरों का दुरुपयोग किया और उन्हें वॉचमैन कहा है, जिससे निहलानी बेहद नाख़ुश हैं.

नोटिस में इस बात की भी शिकायत की गई है कि साल 2016 में भी एक एक्ट के दौरान फ़रहान अख़्तर और शाहिद कपूर ने निहलानी पर अपमानजनक टिप्पणी की थी.

फिल्मों में अनावश्यक कांट-छांट की सलाह देने के कारण सीबीएफसी प्रमुख पहलाज निहलानी अक्सर सुर्खियों में रहते हैं, जिस पर उनकी आलोचना होती रहती है. लेकिन इस बार निहलानी आइफा में हुई टिप्पणियों से बेहद भड़के हुए हैं.

नोटिस में निहलानी द्वारा बिना किसी शर्त के सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगने की और आगे से इस तरह की कोई हरकत न करने का वादा करने की मांग की गई है.

द क्विंट से बातचीत में निहलानी ने कहा है, ‘अब ये मामला कोर्ट में जा चुका है, मैं सिर्फ़ इतना ही बोलूंगा कि मैं अच्छे से जानता हूं कि मुझे कब हंसना है और कब लोगों को रुलाना है’.

सीबीएफसी प्रमुख निहलानी ने ये भी कहा, ‘ये लोग भूल रहें हैं कि वे सिर्फ मेरा ही अपमान नहीं करते, बल्कि उस पद का करते है जिस पर मैं कार्यरत हूं. अब समय आ गया है इन लोगों को समझाने का कि ये मज़ाक़ सिर्फ़ मुझ पर नहीं है.’

इससे पहले पहलाज निहलानी ने आइफा को ‘इंटरनेशनल ड्रामा‘ बताते हुए कहा था कि आइफा ने अपनी प्रासांगिकता तभी खो दी थी जब 2011 में अमिताभ बच्चन ने आइफा का बहिष्कार किया था.

गौरतलब है कि इससे पहले आइफा अवॉर्ड समारोह में करन जौहर, सैफ अली खान और वरुण धवन द्वारा अभिनेत्री कंगना रनौत पर तंज़ कसने को लेकर विवाद हो चुका है, जिसके बाद इन तीनों को कंगना से माफी मांगनी पड़ी थी.